ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRसिंघवी की दलील आई काम, संजय सिंह को SC से मिली जमानत; ED ने क्यों नहीं किया बेल का विरोध

सिंघवी की दलील आई काम, संजय सिंह को SC से मिली जमानत; ED ने क्यों नहीं किया बेल का विरोध

आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल गई है। वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने पीठ के समक्ष दलील दी। इस दौरान उन्होंने ईडी के रवैये पर सवाल उठाए।

सिंघवी की दलील आई काम, संजय सिंह को SC से मिली जमानत; ED ने क्यों नहीं किया बेल का विरोध
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 03 Apr 2024 06:44 AM
ऐप पर पढ़ें

सुप्रीम कोर्ट में आप सांसद संजय सिंह की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने पीठ के समक्ष दलील दी। इस दौरान उन्होंने ईडी के रवैये पर सवाल उठाए। उन्होंने आरोप लगाया कि जमानत का विरोध नहीं करने के लिए संबंधित अदालत में दी गई अनापत्ति का इस्तेमाल बाद में अरोड़ा द्वारा संजय सिंह का नाम लेते हुए दिए गए धारा 50 के बयान को प्राप्त करने के लिए किया गया था।

पीठ को बताया गया कि सिंह द्वारा संवाददाता सम्मेलन आयोजित करने के बाद ईडी ने प्रतिशोध की कार्रवाई शुरू की और उसके तुरंत बाद एजेंसी के अधिकारी उनके घर आए थे। उन्होंने सिंह की गिरफ्तारी की आवश्यकता और अरोड़ा द्वारा दिए गए दोषमुक्त संबंधी बयानों को ‘अविश्वसनीय दस्तावेजों’ में डालने के ईडी के आचरण पर सवाल उठाया, जिसे सिंह देख या प्राप्त नहीं कर सकते। वरिष्ठ अधिवक्ता सिंघवी ने इसे ‘न्याय का मखौल’ बताते हुए शीर्ष अदालत से इस प्रथा को रोकने की गुहार लगाई।

इसलिए नहीं किया विरोध 

कानून के जानकारों का मानना है कि यदि शीर्ष अदालत मामले के गुण दोष पर विचार कर फैसला करती तो उसमें पीएमएलए की धारा 45 के बारे में जिक्र करना आवश्यक होगा। यदि गुण दोष के आधार पर अदालत जमानत देती तो इसमें यह कहा जाता कि ईडी आरोपी के खिलाफ पहली नजर में धन शोधन का अपराध साबित करने में विफल रही। यदि ऐसा होता तो ईडी का पूरा मामला कमजोर हो सकता था।

2.00 बजे के बाद पीठ दोबारा बैठी

मामले की दोबारा सुनवाई शुरू होते ही, ईडी की ओर से कहा गया कि यदि सिंह को जमानत पर रिहा किया जाता है तो उसे (जांच एजेंसी) को कोई आपत्ति नहीं होगी। इसके बाद पीठ से संजय सिंह को जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया।

11.15 बजे सुनवाई शुरू

सांसद संजय सिंह की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी अपने मुवक्किल को जमानत देने की मांग की और कहा कि यह पूरा मामला सरकारी गवाह बने दिनेश अरोड़ा के बयान पर आधारित है। अरोड़ा ने वास्तव में सिंह का नाम लेने से पहले 9 बयान दिए थे। सरकारी गवाह बनाए गए अरोड़ा की जमानत याचिका का ईडी ने विरोध नहीं किया।

मां बोलीं- बेटा ईमानदार, पत्नी ने कहा- सच जीता

संजय सिंह को जमानत मिलने के बाद परिजनों ने खुशी जताई। उनकी पत्नी अनीता सिंह के चेहरे पर मुस्कान थी तो मां उनकी जमानत की खबर से भावुक हो रही थी। उनकी मां ने कहा कि पूरा परिवार बेटे के साथ खड़ा था। हमें पता था कि हमारा बेटा ईमानदार है। अनीता सिंह ने भी कहा कि हमें खुशी मिली है कि इस लड़ाई में सच्चाई की जीत हुई है। उधर, जमानत की खबर के बाद नॉर्थ एवेन्यू स्थित उनके आवास पर समर्थकों की भीड़ जुटने लगी। पार्टी के कई विधायक भावना गौड़, मदनलाल, बीएस जून भी उनके आवास पर पहुंचे।

संजय सिंह को उपचार के लिए ले जाया गया

तिहाड़ जेल में बंद राज्यसभा सांसद संजय सिंह को लिवर में समस्या के बाद मंगलवार को दक्षिणी दिल्ली स्थित आईएलबीएस अस्पताल में उपचार के लिए ले जाया गया। उन्हें कई दिनों से लिवर की समस्या हो रही थी। जिसके चलते उन्हें जेल के अस्पताल में दिखाया गया था। जेल अस्पताल के डॉक्टरों ने उन्हें आईएलबीएस ले जाने की सलाह दी थी।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें