ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRसंजय सिंह को लगा बड़ा झटका, कोर्ट ने शराब घोटाले में जमानत से कर दिया इनकार

संजय सिंह को लगा बड़ा झटका, कोर्ट ने शराब घोटाले में जमानत से कर दिया इनकार

शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार किए गए आप नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह को एक बार फिर झटका लगा है। शुक्रवार को राउज ऐवेन्यू कोर्ट ने जमानत देने से इनकार कर दिया।

संजय सिंह को लगा बड़ा झटका, कोर्ट ने शराब घोटाले में जमानत से कर दिया इनकार
Sudhir Jhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 22 Dec 2023 05:23 PM
ऐप पर पढ़ें

शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार किए गए आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह को एक बार फिर झटका लगा है। शुक्रवार को राउज एवेन्यू स्थित स्पेशल जज एमके नागपाल की अदालत ने जमानत याचिका खारिज कर दी। बीते शनिवार को अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। संजय सिंह के वकील रजत भारद्वाज ने कहा कि ट्रायल कोर्ट के फैसले को वे हाई कोर्ट में चुनौती देंगे।

संजय सिंह को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 4 अक्टूबर को उनके आवास पर छापेमारी के बाद गिरफ्तार किया था। 8 दिन तक ईडी की कस्टडी में रहने के बाद उन्हें जेल भेज दिया गया था। राज्यसभा सांसद 13 अक्टूबर से तिहाड़ जेल में बंद हैं। संजय सिंह पर केंद्रीय जांच एजेंसी का आरोप है कि उन्होंने खत्म की जा चुकी आबकारी नीति के निर्माण और लागू करने में अहम भूमिका निफाई थी। सीबीआई और ईडी का आरोप है कि शराब कारोबारियों को गलत तरीके से फायदा पहुंचाया गया और बदले में रिश्वत ली गई। हालांकि, आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार इन आरोपों को खारिज करती रही है।

कथित शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में आम आदमी पार्टी के तीन बड़े नेता गिरफ्तार किए जा चुके हैं। संजय सिंह से पहले दिल्ली के पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और विजय नायर को गिरफ्तार किया जा चुका है। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भी दो बार समन भेजा जा चुका है। हालांकि, केजरीवाल दोनों ही समन को दरकिनार करते हुए केंद्रीय जांच एजेंसी के सामने पेश नहीं हुए।  

संजय सिंह ने इससे पहले अपनी गिरफ्तार को अवैध बताते हुए हाई कोर्ट में भी याचिका दायर की थी। 20 अक्टूबर को हाई कोर्ट ने उनकी याचिका को खारिज कर दिया था। इसके बाद उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। सर्वोच्च अदालत ने 20 नवंबर को उन्हें ट्रायल कोर्ट में याचिका दायर करने की छूट देते हुए याचिका का निपटारा कर दिया था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें