DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्रिप्टो करेंसी में निवेश से मोटे मुनाफे का लालच देकर 50 करोड़ ठगे, ऐसे बनाते थे शिकार

bitcoin

क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने पर मोटा मुनाफा कमाने का लालच देकर देशभर में सैकड़ों लोगों से लगभग 50 करोड़ रुपये ठगने वाले गिरोह का क्राइम ब्रांच ने सोमवार को पर्दाफाश किया है। 

क्राइम ब्रांच की साइबर सेल ने गिरोह के एक सदस्य रोहित को सोमवार को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है, जबकि मुख्य आरोपी लखनपाल दुबई फरार हो चुका है। 

ऐसे की ठगी : गिरोह ने सोशल मीडिया के जरिये कई लोगों को झांसे में लेने के बाद 26 नवंबर, 2017 को दिल्ली के नामी होटलों में आयोजित कार्यक्रमों में बुलाया। गिरोह ने इन लोगों को अपनी कंपनी की क्रिप्टो करेंसी में रकम निवेश करने के लिए प्रलोभन दिया। यह क्रिप्टो करेंसी गिरोह ने जुलाई 2017 में लॉन्च की थी, जिसका व्यापार सितंबर 2017 से शुरू किया गया। 

इस तरह खुली पोल : जब निर्धारित समय के बाद निवेशकों ने क्रिप्टो करेंसी को बेचना चाहा तो वे उसे नहीं बेच पाए। इसके कुछ समय बाद उक्त कंपनी की वेबसाइट भी बंद हो गई, जिससे क्रिप्टो करेंसी का लेन-देन किया जाता था। इसके बाद निवेशकों को ठगी का अहसास हुआ। इसी के बाद पीड़ितों ने मामले की शिकायत दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच से की। इसी बीच मुख्य आरोपी अमित लखनपाल देशभर से करोड़ों रुपये बटोरकर दुबई फरार हो गया। क्राइम ब्रांच की साइबर सेल ने इस बाबत मामला दर्ज कर आरोपी रोहित को दिल्ली के ही एक इलाके से गिरफ्तार कर लिया है, जबकि मुंबई पुलिस इसी मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।

कई बॉलीवुड सितारे भी पार्टियों में आते थे

गिरोह निवेशकों को जाल में फंसाने के लिए अपनी पार्टियों में बॉलीवुड सितारों को भी बुलाता था। पुलिस को पार्टियों में कई बड़े बॉलीवुड अभिनेताओं के पहुंचने की जानकारी मिली है। इतनी चमक-धमक देख निवेशक गिरोह के झांसे में आ जाते थे। 

आरोपी ने आईपीएल में भी मोटी रकम लगाई

क्राइम ब्रांच के मुताबिक, आरोपी अमित लखनपाल ने आईपीएल में भी काफी रकम लगाई है। मामला दर्ज होने के बाद वह दुबई फरार हो गया और वहां से उसके लंदन फरार होने की आशंका है। क्राइम ब्रांच उसके आईपीएल कनेक्शन की जांच में भी जुटी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rs 50 crore cheated on name of investment in crypto currency