DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जब मोबाइल पुलिस के पास तो आरोपी की पत्नी को क्या ‘भूत' ने फोन किया

एक व्यक्ति को पुलिस ने नशीला पदार्थ रखने के आरोप में गिरफ्तार किया। पुलिस ने उसका फोन भी जब्त कर लिया। लेकिन उसके मोबाइल नंबर से आरोपी की पत्नी को कॉल की गई। उस समय आरोपी हिरासत में था जबकि पुलिस कॉल करने से इनकार करती रही। आखिर आरोपी की पत्नी के फोन का रिकॉर्ड निकाला गया। इसमें पाया गया कि आरोपी के फोन से उसकी पत्नी को कॉल की गई थी। अदालत ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

रोहिणी स्थित अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अजय पांडेय की अदालत ने मामले को गंभीरता से लिया है। अदालत ने कहा है कि जांच अधिकारी ने निष्पक्ष जांच नहीं की है। अदालत ने संबंधित पुलिस उपायुक्त को निर्देश दिया है कि मामले की निष्पक्ष जांच प्राथमिकता से कराएं। साथ ही अदालत ने वर्तमान जांच एजेंसी को बदल दिया जाए। संबंधित जिले की दूसरी जांच एजेंसी को इस मामले की तफ्तीश सौंपी जाए। इस आदेश की प्रति पुलिस के आला अधिकारियों तक पहुंचाने के निर्देश भी दिए गए हैं।

रिश्वत मांगने का आरोप : मामले में आरोपी की पत्नी का कहना है कि उसे फोन कर मामला निपटाने की पेशकश की गई थी। इसकी एवज में उससे नकदी की मांग की गई थी। बहरहाल इस आरोप को लेकर अदालत ने कोई आदेश नहीं दिया है।

अदालत का कहना था कि फोन कॉल का सच सामने आने पर अन्य तथ्य भी खुल जाएंगे। वहीं दूसरी तरफ अदालत ने इस आरोपी की जमानत याचिका को भी खारिज कर दिया है। आरोपी को 3 जून को गिरफ्तार किया गया था।

''अब जबकि यह स्पष्ट हो गया है कि आरोपी के रिमांड पर होने के दौरान उसकी पत्नी को कॉल किया गया था। ऐसे में यह भी साफ है कि पुलिस कस्टडी में मोबाइल होने की स्थिति में आरोपी यह कॉल कर नहीं सकता था। वहीं, पुलिस की तरफ से भी फोन करने से इनकार किया जा रहा है तो फिर क्या यह फोन कॉल ‘भूत’ ने किया और अगर यह कॉल आरोपी द्वारा की गई है तो यह पूरी तरह पुलिस महकमे की खामी है।'' - अदालत की टिप्पणी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rohini Court rebukes delhi police over phone call to accused wife