ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRरोहिणी कोर्ट ब्लास्ट केस : DRDO के पूर्व वैज्ञानिक भारत भूषण कटारिया पर आरोप तय, 21 से शुरू होगा ट्रायल

रोहिणी कोर्ट ब्लास्ट केस : DRDO के पूर्व वैज्ञानिक भारत भूषण कटारिया पर आरोप तय, 21 से शुरू होगा ट्रायल

पटियाला हाउस कोर्ट ने वर्ष 2021 में रोहिणी कोर्ट रूम के बाहर हुए धमाके के मामले में आरोपी डीआरडीओ के पूर्व वैज्ञानिक पर आरोप तय कर दिए हैं। इस मामले में अदालत 21 फरवरी से ट्रायल शुरू करेगी।

रोहिणी कोर्ट ब्लास्ट केस : DRDO के पूर्व वैज्ञानिक भारत भूषण कटारिया पर आरोप तय, 21 से शुरू होगा ट्रायल
Praveen Sharmaनई दिल्ली। हिन्दुस्तानFri, 09 Feb 2024 07:01 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने वर्ष 2021 में रोहिणी कोर्ट रूम के बाहर हुए धमाके के मामले में आरोपी  डीआरडीओ के पूर्व वैज्ञानिक भारत भूषण कटारिया पर आरोप तय कर दिए हैं। इस मामले में अदालत 21 फरवरी से ट्रायल शुरू करेगी।

एडिशनल सेशन जज हरदीप कौर ने भारत भूषण कटारिया के खिलाफ हत्या के प्रयास और विस्फोटक पदार्थ अधिनियम की धारा 3 के तहत आरोप तय किए। कटारिया डीआरडीओ में वैज्ञानिक के तौर पर कार्यरत था। उसे विस्फोटक पदार्थों की अच्छी जानकारी थी।

रोहिणी कोर्ट ब्लास्ट: 1040 पन्नों की चार्जशीट में पुलिस का बड़ा खुलासा

अभियोजन पक्ष ने अदालत को बताया कि नौ दिसंबर 2021 के दिन कोर्टरूम संख्या 102 के पास आईईडी विस्फोट हुआ था। इसे आरोपी ने वकील अमित वशिष्ठ को नुकसान पहुंचाने की मंशा से रखा था। पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, आरोपी और पीड़ित दोनों एक ही बिल्डिंग में रहते हैं। वकील ने उसके खिलाफ कई मुकदमे करा दिए थे। इससे परेशान होकर आरोपी ने उसको रास्ते से हटाने के लिए घटना को अंजाम दिया। शुरुआत में पुलिस इसे आतंकी घटना मान रही थी, लेकिन जांच के साथ ही आरोपी की पहचान का खुलासा हुआ।

रुपये को लेकर विवाद

वैज्ञानिक और वकील में लिफ्ट के रूपयों को लेकर विवाद चल रहा था। वकील की मां ने वैज्ञानिक पर छेड़खानी का केस दर्ज करवाया था। इसके अलावा दोनों के बीच कई अन्य विवाद और केस चल रहे थे। गिरफ्तारी के बाद आरोपी ने पुलिस हिरासत में आत्महत्या का भी प्रयास किया था।

गौरतलब है कि, यह घटना 9 दिसंबर 2021 को रोहिणी अदालत के कोर्ट नम्बर 102 में उस समय विस्फोट हुआ था जब मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट प्रीतु राज नियमित सुनवाई कर रहे थे। मामले की संवेदनशीलता, प्रकृति और महत्व को ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल उत्तरी रेंज और एसटीएफ को घटना की जांच करने का काम सौंपा गया था। इस मामले में घटना आठ दिन बाद 17 दिसंबर को आरोपी भारत भूषण कटारिया को गिरफ्तार किया गया था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें