DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › गाजियाबाद : कारोबारी के परिवार को बंधक बनाकर डकैती, पुलिस चौकी के पास हुई वारदात
एनसीआर

गाजियाबाद : कारोबारी के परिवार को बंधक बनाकर डकैती, पुलिस चौकी के पास हुई वारदात

गाजियाबाद। वरिष्ठ संवाददाताPublished By: Praveen Sharma
Wed, 23 Sep 2020 02:11 PM
गाजियाबाद : कारोबारी के परिवार को बंधक बनाकर डकैती, पुलिस चौकी के पास हुई वारदात

गाजियाबाद के अवंतिका इलाके में बेखौफ हो चुके हथियारबंद बदमाशों ने मंगलवार देर रात को एक बार फिर एक कारोबारी के परिवार को बंधक बनाकर लाखों की डकैती को अंजाम दिया है। यह वारदात भी अवंतिका चौकी से महज दो सौ मीटर की दूरी पर हुई है। खिड़की की ग्रिल काट कर अंदर घुसे बदमाशों ने करीब दो घंटे तक पूरे घर को खंगाला।

महागुन मॉल में ग्रॉसरी का कारोबार करने वाले सुरेश मित्तल ने पुलिस में डकैती की शिकायत दी है। उन्होंने पुलिस को बताया कि मंगलवार देर रात खाना खाने के बाद सोने चले गए थे। करीब साढ़े बारह बजे के आसपास कुछ लोग खिड़की की ग्रिल काटकर घर में घुसे और अंदर मौजूद सभी लोगों के साथ मारपीट कर उन्हें बंधक बना लिया। इसके बाद बदमाशों ने पूरी तसल्ली के साथ करीब साढ़े तीन बजे तक घर को खंगाला और करीब आठ लाख का माल लूट ले गए। वारदात के दौरान बदमाशों ने पूरे परिवार को एक कमरे में बंद कर दिया था। हालांकि, जाते समय बदमाशों ने उनकी बेटी को बाहर कर दिया। फिर बेटी के ही शोर मचाने पर पड़ोसियों ने आकर दरवाजा खोला और मामले की जानकारी पुलिस को दी गई। 

आला अधिकारी पहुंचे 

डकैती की सूचना मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। पांच बजे तक तो जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी मौके पर पहुंच गए थे, जबकि इससे पहले पुलिस अधीक्षक नगर अभिषेक वर्मा, क्षेत्राधिकारी सदर महिपाल सिंह, क्षेत्राधिकारी इंदिरापुरम अंशु जैन और क्षेत्राधिकारी प्रथम के अलावा बड़ी संख्या में पुलिस बल ने जांच पड़ताल शुरू कर दी। 

डॉग स्क्वायड और क्राइम ब्रांच जांच में जुटीं 

सुबह साढ़े पांच बजे मौके पर पहुंची पुलिस की क्राइम ब्रांच और डॉग स्क्वायड की टीमों ने डकैती के मामले की जांच शुरू कर दी है। डॉग स्क्वायड की टीम ने घटनास्थल पर खोजी कुत्तों की मदद से छानबीन की। वहीं इंस्पेक्टर संजय पांडेय के नेतृत्व में क्राइम ब्रांच की टीम ने घर के अंदर से लेकर बाहर और मुख्य सड़क तक बदमाशों का सुराग तलाशने की कोशिश की।

पुलिस ने परिवार की बढ़ाई दहशत

आरोप है कि वारदात की वजह से परिवार पहले से ही दहशत में था, ऊपर से थाना प्रभारी नागेंद्र चौबे ने उनकी दहशत और बढ़ा दी। थाना प्रभारी ने परिवार को धमकाते हुए साफ कर दिया कि यदि वह घटना के संबंध में किसी से बात करते हैं उनका मामला खराब कर दिया जाएगा। इस धमकी का इतना असर रहा कि पुलिस के घटनास्थल पर जाने के बाद भी परिवार के लोग मीडिया तो दूर आस-पड़ोस के लोगों को भी कुछ भी बताने से बचते रहे। 

कोलकाता में सीए है बेटा 

वारदात के वक्त घर में कारोबारी सुरेश मित्तल के अलावा उनकी पत्नी और बेटी मौजूद थे। बेटी मुंबई में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है और हाल ही में अपने घर गाजियाबाद आई है, जबकि सुरेश मित्तल का बेटा किसी इंश्योरेंस कंपनी में चाटर्ड अकाउंटेंट है। 

तीन महीने पहले भी हुई थी डकैती

बता दें कि, अवंतिका में ही तीन महीने पहले भी डकैती हुई थी। ठीक इसी प्रकार से बदमाश एक घर की ग्रिल काटकर अंदर घुसे थे। उस घटना में भी बदमाशों ने परिवार के साथ मारपीट कर एक कमरे में बंद कर दिया था। करीब ढाई घंटे घर में रहे बदमाश करीब 12 लाख रुपये नकद और जेवर लूट ले गए थे।

''डकैती का मामला दर्ज किया जा रहा है। बदमाशों की संख्या कितनी है, यह साफ तो नहीं हो सका है, लेकिन आशंका है कि पांच या इससे अधिक बदमाश होंगे। उम्मीद है कि यह वारदात जल्दी खुल जाएगा।'' -कलानिधि नैथानी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक

संबंधित खबरें