DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केंद्रीय मंत्री से वसूली : रिमांड में नीशू ने खोला आलोक से जुड़ा ये राज, पुलिस को बताया ब्लैकमेलिंग के खेल का सच

केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा को ब्लैकमेल कर दो करोड़ रुपये मांगने के मामले में गिरफ्तार नीशू को गुरुवार को जेल भेज दिया गया। उसने खुलासा किया कि आलोक किसी भी नेता या हाईप्रोफाइल व्यक्ति को ब्लैकमेल कर रंगदारी मांगने के लिए नए मोबाइल और नए सिमकार्ड का प्रयोग करता था। 

उसने बताया कि जिस मोबाइल व सिम कार्ड को नीशू ने केंद्रीय मंत्री से उगाही करने में प्रयोग किया गया उसे भी वारदात से करीब एक सप्ताह पहले ही खरीदा गया था। केंद्रीय मंत्री डॉ. महेश शर्मा ने 22 अप्रैल को एसएसपी वैभव कृष्ण को कॉल कर ब्लैकमेल करने की कोशिश की शिकायत की थी। एसएसपी पुलिस बल के साथ सेक्टर-27 स्थित कैलाश अस्पताल पहुंचे और नीशू को गिरफ्तार कर लिया। जांच में पता चला कि बंद हो चुके प्रतिनिधि चैनल के मालिक आलोक कुमार इसका मास्टरमाइंड है। उसने 24 मार्च को केंद्रीय मंत्री से बात कर एक वीडियो बना लिया था। उसी के आधार पर ब्लैकमेल कर उनसे दो करोड़ की मांग कर रहा था। गुरुवार को रिमांड अवधि खत्म होने के बाद नीशू को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया। 

आलोक खरीदकर देता था सिम : पुलिस पूछताछ में नीशू ने बताया कि उन्हें मास्टरमाइंड आलोक नया मोबाइल और सिमकार्ड खरीदकर देता था। इसके बाद नए मोबाइल से ही स्टिंग द्वारा रिकार्ड किए गए वीडियो व ऑडियो को संबंधित नेता तक पहुंचाया जाता था। रंगदारी के पैसे की लेनदेन की बात भी इसी मोबाइल से की जाती थी। 

मुख्य आरोपी का सुराग नहीं  

नीशू के सात दिन के रिमांड के बावजूद पुलिस मुख्य आरोपी आलोक और खालिद के बारे में कोई सुराग नहीं लगा सकी है, जबकि दावा किया गया था कि नीशू से आलोक के ठिकानों का पता लगाकर उसे गिरफ्तार किया जाएगा। 

''ब्लैकमेलिंग और रंगदारी मांगने के लिए गिरोह के लोग नए मोबाइल व नए सिमकार्ड का प्रयोग करते थे। मोबाइल में चुनिंदा लोगों के ही नंबर होते थे। नीशू के पास से भी नया मोबाइल ही बरामद हुआ।'' -सुधा सिंह, एसपी सिटी 

मंत्री डॉ. महेश शर्मा से वसूली मामला : नीशू ने 7 घंटे की पूछताछ में उगले ये 5 राज

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Recovery from Union Minister Mahesh Sharma : Nishu opens this secret in Police remand