ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRरवि काना का रजिस्टर खोलेगा बड़े लोगों के राज, अधिकारियों-नेताओं की बढ़ी बेचैनी; रिमांड पर सुनवाई आज

रवि काना का रजिस्टर खोलेगा बड़े लोगों के राज, अधिकारियों-नेताओं की बढ़ी बेचैनी; रिमांड पर सुनवाई आज

स्क्रैपप माफिया रवि काना का रजिस्टर कई बड़े लोगों के राज खोल सकता है। रजिस्टर में बड़े-बड़े लोगों के यहां जाने वाले एक-एक रुपये का ब्योरा दर्ज होता था। पुलिस पूछताछ में काना ने इसका जिक्र किया।

रवि काना का रजिस्टर खोलेगा बड़े लोगों के राज, अधिकारियों-नेताओं की बढ़ी बेचैनी; रिमांड पर सुनवाई आज
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,ग्रेटर नोएडाTue, 30 Apr 2024 08:17 AM
ऐप पर पढ़ें

स्क्रैप माफिया के रजिस्टर में बड़े-बड़े लोगों के पास उसके यहां से जाने वाले एक-एक रुपये का ब्योरा दर्ज किया जाता। पुलिस पूछताछ में स्क्रैप माफिया रवि काना ने इस बात का जिक्र किया है। उसने बताया कि किसे कितना पैसा जाता था, वह सब रिकॉर्ड में रहता था। उसने बड़े-बड़े अधिकारियों और नेताओं के नाम लिए हैं।

पुलिस माफिया रवि को रिमांड पर लेकर रजिस्टर को बरामद करेगी। हालांकि, इससे पहले भी माफिया के घर और दफ्तर से कुछ अहम दस्तावेज पुलिस बरामद कर चुकी है। इनमें भी कुछ लोगों के नाम सामने आए थे। स्क्रैप माफिया रवि और उसकी महिला मित्र काजल झा की पुलिस कस्टडी रिमांड को लेकर जिले से लेकर लखनऊ तक अधिकारियों और नेताओं में खलबली मची हुई है।

स्क्रैप माफिया गैंग से जुड़े लोगों को डर है कि उसके रिमांड पर आने के बाद पुलिस पूछताछ में उनकी पोल खुल सकती है। हालांकि, पुलिस की पूछताछ में कुछ लोगों के नाम सामने भी आ चुके हैं। इनमें अधिकारी और नेता से लेकर मीडिया से जुड़े लोग भी शामिल हैं। पुलिस पूछताछ में माफिया ने बताया कि उसके यहां से कितना पैसा किसे जाता था, वह सब रजिस्टर में लिखा जाता था। पैसा पहुंचाने की जिम्मेदारी गैंग में शामिल कुछ लोगों की थी, जो फिलहाल जेल में बंद हैं।

कुछ लोगों का गलत इस्तेमाल हुआ

पुलिस पूछताछ में पता चला है कि कुछ लोगों के नाम का दूसरे लोगों ने गलत इस्तेमाल कर पैसा की वसूली की है। कुछ ऐसे लोगों के नाम से भी दूसरे लोगों ने पैसा लिया है, जिन्हें आज तक पता ही नहीं है कि उनके नाम से पैसा चला गया। पुलिस इसके बारे में जांच कर रही है। ऐसे लोगों को पूछताछ के लिए भी बुलाया जा सकता है। पुलिस का कहना है कि माफिया के रिमांड पर आने के बाद ऐसे लोगों के नाम उजागर होंगे।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी सुनवाई

इस मामले में बचाव पक्ष के अधिवक्ता ललित मोहन गुप्ता ने बताया कि सोमवार को पुलिस की ओर से स्क्रैप रवि काना और उसकी सहयोगी काजल झा की रिमांड लेने के लिए याचिका दाखिल की गई है। इसका बचाव पक्ष ने विरोध किया और दलील दी कि रवि काना, सुंदर भाटी गैंग के निशाने पर है। जेल से अदालत तक लाने और ले जाने में उसकी जान को खतरा है। अदालत ने बचाव पक्ष की इस दलील को स्वीकार कर लिया। सुरक्षा के लिहाज से इस मामले की मंगलवार को न्यायालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई होगी।