ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRरेव पार्टिया और एंफेटामाइन ड्रग्स, ग्रेटर नोएडा में नशे की फैक्टरी पर रेड; चार अफ्रीकी गिरफ्तार

रेव पार्टिया और एंफेटामाइन ड्रग्स, ग्रेटर नोएडा में नशे की फैक्टरी पर रेड; चार अफ्रीकी गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की एंटी नारकोटिक्स सेल ने ग्रेटर नोएडा में ड्रग्स बनाने वाली फैक्टरी पर छापा मारा। यहां एंफेटामाइन ड्रग्स बनाया जाता था। पुलिस ने चार अफ्रीकी नागरिकों को गिरफ्तार किया है।

रेव पार्टिया और एंफेटामाइन ड्रग्स, ग्रेटर नोएडा में नशे की फैक्टरी पर रेड; चार अफ्रीकी गिरफ्तार
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्ली ग्रेटर नोएडाWed, 31 Jan 2024 07:45 AM
ऐप पर पढ़ें

द्वारका जिला पुलिस की एंटी नारकोटिक्स सेल ने ग्रेटर नोएडा में ड्रग्स बनाने वाली फैक्टरी पर छापा मारा। अफ्रीकी नागरिक युवाओं को नशे की लत लगाने के लिए यहां एंफेटामाइन नामक ड्रग बनाते थे और देशभर में उसकी सप्लाई करते थे। नारकोटिक्स सेल ने मौके से करोड़ों रुपये की ड्रग्स और कच्चा सामान बरामद कर चार अफ्रीकी नागरिकों को गिरफ्तार किया। पुलिस उपायुक्त अंकित सिंह ने बताया कि एसीपी ऑपरेशन सेल राम अवतार और इंस्पेक्टर सुभाष, एसआई सपना शर्मा की टीम ने 27 नवंबर को अफ्रीकी नागरिक एजे उचेन्ना जेम्स को गिरफ्तार किया था। उसके पास से 70 ग्राम मेथामफेटामाइन दवाएं मिली थी। इसके बाद 11 जनवरी को उसके साथी शेड्रैक को गिरफ्तार किया।

उसके पास सौ ग्राम दवा बरामद हुई। उससे पूछताछ में दो और अफ्रीकी नागरिकों इको और ओसिता के बारे में पता लगा। दोनों इन दवाओं का निर्माण करते थे। इसके लिए उन्होंने ग्रेटर नोएडा के एलेस्टोनिया एस्टेट, चाई-3 में एक फैक्टरी लगा रखी थी। इस फैक्टरी से देशभर में ड्रग्स की सप्लाई होती थी। इसके बाद पुलिस ने इको और ओसिता को 16 जनवरी को तिलक नगर से गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने बताया कि वह खुद ही ड्रग्स बनाते हैं और सप्लाई करते हैं। इसके बाद उनकी निशानदेही पर ग्रेटर नोएडा में पर में छापा मारा गया। वहां पर 20 किलो से ज्यादा कच्चा माल और करोड़ों रुपये की ड्रग्स बरामद की गई। फिलहाल पुलिस सभी आरोपियों से पूछताछ कर रही है।

तीन को मिल चुकी सजा, जमानत पर बाहर आए थे

पुलिस के अनुसार इन चार अफ्रीकी नागरिकों में से तीन को हरियाणा और पंजाब हाईकोर्ट ने 10-10 साल की सजा सुना रखी है। तीनों आरोपी जमानत लेकर बाहर आए हुए हैं। आरोपियों को पंजाब पुलिस ने ड्रग्स के साथ गिरफ्तार किया था। इसके बाद आरोपी ग्रेटर नोएडा से अपना कारोबार करने लगे। पुलिस जांच में सामने आया है कि आरोपियों ने करीब 4 माह पहले ही यह फैक्टरी तैयार की थी।

रेव पार्टियों में किया जाता है ज्यादा इस्तेमाल

पुलिस अधिकारी ने बताया कि पकड़े गए एंफेटामाइन ड्रग की खूबी है कि इसका इस्तेमाल करने पर मुंह से बदबू नहीं आती। इसका नशा जल्दी और ज्यादा होता है। इसके चलते बड़ी संख्या में युवा इसका इस्तेमाल करने लगे हैं। पुलिस अधिकारी ने बताया कि देशभर में आयोजित होने वाली रेव पार्टियों में इसका ही इस्तेमाल किया जाता है। दिन प्रतिदिन इसका प्रयोग बढ़ता ही जा रही है।

ग्रेटर नोएडा बनता जा रहा नशे का अवैध अड्डा

पिछले साल मई में भी ग्रेटर नोएडा के सेक्टर थीटा और मित्रा एन्क्लेव सोसायटी में दो अलग-अलग ड्रग्स फैक्टरी का भंडाफोड़ हुआ था। पुलिस की लगातार कार्रवाई के बाद भी विदेशी नागरिकों ने यहां ड्रग्स का अवैध अड्डा बना लिया है। बीते दिनों पकड़ी ड्रग्स की दो फैक्टरी के मामले में स्थानीय पुलिस पर संरक्षण देने का मामला सामने आया था। इस प्रकरण में दस पुलिसकर्मी दोषी भी पाए गए थे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें