ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRविशेषाधिकार हनन की शिकायत पर समिति के सामने पेश हुए राघव चड्ढा, बैठक में क्या हुआ?

विशेषाधिकार हनन की शिकायत पर समिति के सामने पेश हुए राघव चड्ढा, बैठक में क्या हुआ?

आम आदमी पार्टी सांसद राघव चड्ढा (Raghav Chadha) मंगलवार को राज्यसभा की विशेषाधिकार समिति के सामने पेश हुए और अपना पक्ष रखा। बैठक में क्या क्या हुआ जानने के लिए पढ़ें यह रिपोर्ट...

विशेषाधिकार हनन की शिकायत पर समिति के सामने पेश हुए राघव चड्ढा, बैठक में क्या हुआ?
Krishna Singhपीटीआई,नई दिल्लीTue, 28 Nov 2023 10:34 PM
ऐप पर पढ़ें

आम आदमी पार्टी सांसद राघव चड्ढा (Raghav Chadha) मंगलवार को राज्यसभा की विशेषाधिकार समिति के सामने पेश हुए। उन्होंने सार्वजनिक तौर पर की गई अपनी टिप्पणियों पर अपना पक्ष रखा। इन बयानों को लेकर वह विशेषाधिकार हनन की शिकायत का सामना कर रहे हैं। माना जा रहा है कि राघव चड्ढा ने पैनल के समक्ष माफी मांगी है। राघव चड्ढा ने सदस्यों से कहा कि इस मामले को लेकर उन्होंने राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ से भी मुलाकात की थी। सूत्रों ने बताया कि चड्ढा संसद भवन परिसर में हुई बैठक के दौरान पैनल के सामने पेश हुए। 

समाचार एजेंसी पीटीआई भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, AAP सांसद राघव चड्ढा मंगलवार को राज्यसभा की विशेषाधिकार समिति के समक्ष पेश हुए। इस दौरान उन्होंने सार्वजनिक रूप से की गई उन टिप्पणियों पर अपना पक्ष रखा, जिसके लिए उनके खिलाफ विशेषाधिकार हनन की शिकायत की गई है। मालूम हो कि राज्यसभा की विशेषाधिकार समिति आप नेता राघव चड्ढा सहित कुछ सांसदों के खिलाफ विशेषाधिकार हनन की शिकायत की जांच कर रही है। समिति संजय सिंह और डेरेक ओ ब्रायन के खिलाफ शिकायतों की भी जांच कर रही है।

सूत्रों ने बताया कि समिति ने चड्ढा से सात नवंबर तक रिपोर्ट मांगी है। चड्ढा और सिंह दोनों फिलहाल सदन से निलंबित हैं। चड्ढा 11 अगस्त से निलंबित हैं क्योंकि कुछ सांसदों, जिनमें से अधिकांश सत्तारूढ़ भाजपा के हैं, ने उन पर उनकी सहमति के बिना एक प्रस्ताव में उनके नाम जोड़ने का आरोप लगाया था। प्रस्ताव में विवादास्पद दिल्ली सेवा विधेयक की जांच के लिए प्रवर समिति के गठन की मांग की गई थी। समिति की बैठक आप नेता द्वारा उनके निलंबन के खिलाफ दायर मामले में उच्चतम न्यायालय द्वारा कुछ टिप्पणियां किए जाने के बाद हुई।

शीर्ष अदालत ने चड्ढा से कहा है कि वह प्रवर समिति के मुद्दे पर राज्यसभा के सभापति धनखड़ से बिना शर्त माफी मांगें और उम्मीद जताई कि धनखड़ इस मामले पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करेंगे। प्रधान न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति जेबी पारदीवाला और न्यायमूर्ति मनोज मिश्रा की पीठ ने अटार्नी जनरल आर वेंकटरमणी से कहा था कि वह दिवाली की छुट्टियों के बाद इस मामले में हुए घटनाक्रम से उसे अवगत कराएं। प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि सांसद को इस मुद्दे पर बिना शर्त माफी मांगने के लिए राज्यसभा के सभापति से मिलना होगा। उपराष्ट्रपति इस पूरे मामले पर सहानुभूतिपूर्वक विचार कर सकते हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें