DA Image
31 मई, 2020|12:23|IST

अगली स्टोरी

निजामुद्दीन मरकज से अस्पताल लाए गए तबलीगी जमात वालों के कोरोना टेस्ट करने में आनाकानी के बाद पुलिस तैनात

कोरोना वायरस से निपटना सरकार और डॉक्टरों के लिए सबसे बड़ी चुनाैती बनी हुई है। इसमें जनता और मरीजों को सहयोग न मिलने से समस्या और बढ़ती जा रही है। ऐसा ही मामला इन दिनों दिल्ली के एक अस्पताल में देखा गया, जहां तबलीगी जमात वाले कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज टेस्ट से बचने के लिए डॉक्टरों से ही झगड़ने लगे।

दिल्ली स्थित लोक नायक जय प्रकाश (LNJP) अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. किशोर सिंह ने गुरुवार को बताया कि अभी हमारे पास 216 मरीज हैं, इनमें से 188 मरीज तबलीगी जमात से जुड़े हैं। उनमें से हमें अब तक 24 मरीजों की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट मिली है, जिनमें से 23 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं, जो काफी चिंताजनक है।  

डॉ. किशोर सिंह ने बताया कि अस्पताल में लाए गए तबलीगी जमात के कई सदस्य उनके टेस्ट और अस्पताल में भर्ती किए जाने का विरोध कर रहे हैं। उन्हें ऐसा लग रहा है कि उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की कोई आवश्यकता नहीं है। ऐसा करके उन्होंने अस्पताल कर्मियों की सुरक्षा को भी खतरे में डाल दिया है। इसे देखते हुए अब उन तीन ब्लॉकों के आसपास पुलिस को तैनात किया गया है, जहां तबलीगी जमात के इन लोगों को रखा गया है।

'दिल्ली में आज और बढ़ेगी कोरोना मरीजों की संख्या'

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने गुरुवार को बताया कि राजधानी में COVID-19 वायरस से संक्रमित और संदिग्ध मरीज मिलाकर कुल 700 लोग दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं। सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में बुधवार शाम तक कोरोना वायरस के 152 पॉजिटिव केस हैं। इसमें से 53 केस मरकज के हैं। दिल्ली में कल 32 लोगों का आंकड़ा बढ़ा है, जिसमें 29 लोग निजामुद्दीन में तबलीगी जमात कार्यक्रम में शामिल हुए थे। दिल्ली में अभी 700 के करीब कोरोना पॉजिटिव और संदिग्ध मामले हैं। आज भी काफी लोगों की रिपोर्ट आएगी, जिसके बाद मामले और बढ़ने की आशंका है। इनमें मरकज के लोग ही ज्यादा हैं। 

निजामुद्दीन मरकज से निकाले गए थे 2361 लोग

ज्ञात हो कि दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज को बुधवार को खाली कराकर यहां से कुल 2361 लोगों को निकाला गया था। इसके बाद दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को बताया था कि निजामुद्दीन के आलमी मरकज में 36 घंटे का सघन अभियान चलाकर सुबह चार बजे पूरी बिल्डिंग को खाली करा लिया गया। इस इमारत में कुल 2361 लोग बाहर निकाले गए जिनमें से 617 को अस्पतालों में और बाकी को अलग-अलग क्वारंटीन में भर्ती कराया गया है। सिसोदिया ने लॉकडाउन में सभी से सहयोग की अपील करते हुए कहा कि करीब 36 घंटे के इस अभियान में मेडिकल स्टाफ, प्रशासन, पुलिस और डीटीसी स्टाफ सबने मिलकर तथा अपनी जान जोखिम में डालकर काम किया। इन सबको दिल से सलाम। गौरतलब है कि निजामुद्दीन की तबलीगी मरकज में तबलीगी समाज का कार्यक्रम था जिसमें बड़ी संख्या में लोग जमा हुए थे। बाद में यहां से लोग देश के विभिन्न राज्यों में गए जिससे कोरोना वायरस का संक्रमण बड़े पैमाने पर फैलने का खतरा उत्पन्न हो गया है। ​​​​​​

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Police have been deployed in LNJPN Hospital after Tablighi Jamaat members objecting against their coronavirus test