ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRअलीपुर पेंट फैक्ट्री हादसे में पुलिस का ऐक्शन, फैक्ट्री मालिक के बेटे समेत दो गिरफ्तार

अलीपुर पेंट फैक्ट्री हादसे में पुलिस का ऐक्शन, फैक्ट्री मालिक के बेटे समेत दो गिरफ्तार

अशोक जैन की हादसे में मौत हो चुकी है। मृतक अशोक जैन ने इस फैक्ट्री की जमीन को राजरानी (57) नाम की महिला से किराए पर लिया था। पुलिस ने जमीन मालिक राजरानी को भी गिरफ्तार किया गया। 

अलीपुर पेंट फैक्ट्री हादसे में पुलिस का ऐक्शन, फैक्ट्री मालिक के बेटे समेत दो गिरफ्तार
Swati Kumariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 17 Feb 2024 11:09 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के अलीपुर में कैमिकल फैक्ट्री में आग मामले में दिल्ली पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने फैक्ट्री के मालिक अशोक जैन के बेटे अखिल जैन (37) को गिरफ्तार किया। बता दें कि अशोक जैन की हादसे में मौत हो चुकी है। मृतक अशोक जैन ने इस फैक्ट्री की जमीन को राजरानी (57) नाम की महिला से किराए पर लिया था। पुलिस ने जमीन मालिक राजरानी को भी गिरफ्तार किया गया। 

अब तक मिले 11 शवों में फैक्ट्री मालिक के बुजुर्ग पिता के भी हैं। फिलहाल सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए बाबू जगजीवन राम अस्पताल के शवगृह में रखवा दिया है। अभी तक की जांच में सामने आया है कि यह फैक्ट्री अवैध तौर पर संचालित हो रही थी। पुलिस इस फैक्ट्री से जुड़े कागज आदि को खंगाल रही है जिसके आधार पर गिरफ्तारी की कार्रवाई की जाएगी।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि अभी तक आठ लोगों की पहचान हुई है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि शव पूरी तरह से जल चुके हैं इसलिए पहचान संभव नहीं है। इसलिए मुंडका अग्निकांड की तरह इनका डीएनए परीक्षण कराया जाएगा। अब शनिवार को रक्त संबंधियों के डीएनए नमूने लेकर एफएसएल रोहिणी भेजे जाएंगे। वहीं मृतकों के परिजन शवों को लेने के लिए भटकते हुए दिखाई दिए।

किसान आंदोलन के कारण लगे अवरोधकों से दमकल को हुई दिक्कत
वहीं दमकल की गाड़ियों को किसान आंदोलन के कारण मौके पर पहुंचने में दिक्कत का सामना करना पड़ा है। एक दमकल अधिकारी ने बताया कि हादसे के वक्त भोरगढ़ में भी आग लगी थी। इसलिए स्थानीय टीम भोरगढ़ गई थी। इस बीच दयाल मार्केट में भी भीषण आग लग गई। इसके लिए जहांगीरपुरी से गाड़ियां मंगाई गईं। लेकिन किसान आंदोलन के सड़क पर अवरोधक के चलते जाम का सामना करना पड़ा जिसकी वजह से पहुंचने में देरी हुई।

लपटें आसमान छू रही थी : दयाल मार्केट की घनी रिहायशी आबादी के बीच तीनों तरफ से घिरा दो सौ गज के प्लॉट में थिनर और अन्य केमिकल भरा था। यह आग लगने की वजह से मौत का कुआं बन गया। चारों तरफ दीवार के होने से लपटें आसमान को छू रही थीं। करीब 15-16 साल से खाली प्लॉट में टीन डालकर पेंट की फैक्ट्री चल रही थी। यहां पेंट की मिक्सिंग की जाती है।

जेसीबी से दीवारें तोड़कर तलाशी ली

आग इमारत के प्रवेश द्वार पर लगी थी और निकलने का कोई दूसरा रास्ता भी नहीं था। इसलिए सभी लोग अंदर में फंस गए। तलाशी अभियान चलाने के लिए इस इमारत को जेसीबी से तोड़ा गया। इसके बाद एनडीआरएफ द्वारा आठ शवों के अवशेष इमारत के पिछले हिस्से में मलबे से निकाले गए हैं। ऐसा माना जा रहा है कि इन लोगों को संभलने का मौका भी नहीं मिला होगा। फैक्टरी मालिक के पिता समेत तीन लोगों के शव बाहरी हिस्से में थे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें