DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिलाओं और पुरुषों की शादी की उम्र एक समान करने के लिए PIL दायर

NRI marriage registration necessary within a month (File Pic)

दिल्ली हाईकोर्ट में बुधवार को एक याचिका दायर की गई, जिसमें महिलाओं और पुरुषों की शादी की कानूनी उम्र एक समान करने की मांग की गई है। याचिका में कहा गया है कि किसी महिला की शादी के लिए न्यूनतम उम्र 18 साल रखना स्पष्ट भेदभाव है। भारत में पुरुषों के लिए शादी की न्यूनतम उम्र 21 साल है।

भाजपा नेता अश्विनी कुमार उपाध्याय की ओर से दायर जनहित याचिका में दावा किया गया है कि पुरुषों और महिलाओं की शादी के लिए निर्धारित न्यूनतम उम्र पितृ सत्तात्मक पूर्वाग्रह पर आधारित है और इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।

याचिका में कहा गया है कि भारत में जहां पुरुषों को न्यूनतम 21 साल की उम्र में विवाह करने की इजाजत है, वहीं महिलाओं को 18 साल की न्यूनतम उम्र में विवाह की इजाजत मिलती है। यह अंतर पितृ सत्तात्मक पूर्वाग्रह की वजह से है। इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। यह कानूनी रूप से और स्वत: महिलाओं के खिलाफ असमानता है। यह वैश्विक परिपाटी के विपरीत है।

इसमें यह भी कहा गया है कि विवाह की उम्र में अंतर लैंगिक समानता के सिद्धांत, लैगिंक न्याय और महिलाओं के सम्मान के खिलाफ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:PIL in Delhi High Court to equalise legal age of marriage for men and women