ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRपास हो गया तो ठीक वरना...इंस्टाग्राम पर डाली पोस्ट; रिजल्ट देख छात्र ने किया सुसाइड

पास हो गया तो ठीक वरना...इंस्टाग्राम पर डाली पोस्ट; रिजल्ट देख छात्र ने किया सुसाइड

ग्रेटर नोएडा के दनकौर में 12वीं कक्षा के एक छात्र ने रिजल्ट देखने के बाद सुसाइड कर लिया। सुसाइड से पहले उसने सुबह ही अपने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट डाली थी, जिसमें इसके बारे में बताया था।

पास हो गया तो ठीक वरना...इंस्टाग्राम पर डाली पोस्ट; रिजल्ट देख छात्र ने किया सुसाइड
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,ग्रेटर नोएडा दनकौरSun, 21 Apr 2024 07:03 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) ने शनिवार को हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का परीक्षा परिणाम जारी कर दिया। बोर्ड परीक्षा में फेल होने पर ग्रेटर नोएडा के दनकौर कस्बे में रहने वाले 12वीं कक्षा के छात्र गुलशन ने आत्महत्या कर ली। सुसाइड से पहले उसने अपने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट डाली थी। उसने सुबह जो पोस्ट डाली थी उसमें लिखा था कि काफी दिनों से जिसका इंतजार था, आज वह परिणाम जारी होने वाला है। यदि पास हो गया तो ठीक है, वरना अलविदा। इसके बावजूद किसी ने इस मैसेज को गंभीरता से नहीं लिया।

मूलरूप से हरियाणा के पलवल जिले के कुशक बडोली गांव के रहने वाले डालचंद कस्बे के गढ़ी मोहल्ले में किराये के मकान में रहते हैं। डालचंद का बेटा गुलशन दनकौर के बिहारी लाल इंटर कॉलेज में 12वीं कक्षा में पढ़ता था। बताया जा रहा है कि शनिवार को जब परीक्षा परिणाम आया तो वह फेल हो गया। फेल होने पर दुखी छात्र ने अपने कमरे में फंदा लगाकर जान दे दी। परिजन घर पर आए तो उन्हें घटना की जानकारी हुई। गुलशन के माता-पिता मेहनत मजदूरी करते हैं।

गुलशन ने सुबह ही इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट अपलोड किया, जिसमें परीक्षा परिणाम के बारे में जानकारी दी। मृतक के चहते उस पर नजर रखकर उसे आत्महत्या करने से बचा सकते थे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने इस पोस्ट को गंभीरता से नहीं लिया। बताया जा रहा है कि गुलशन के इंस्टाग्राम से उसके भाई ने उसके द्वारा की गई पोस्ट को हटा दिया है। 

दोस्तों ने मौत की खबर शेयर की 

छात्र द्वारा आत्महत्या किए जाने के बाद उसके दोस्तों ने सोशल मीडिया पर गुलशन की मौत की खबर शेयर की। उधर, पुलिस कार्रवाई के डर से परिवार ने गुपचुप तरीके से छात्र का अंतिम संस्कार कर दिया। परिवार में छात्र की मौत के बाद कोहराम मचा गया।

‘असफलता से सबक लें’

नोएडा सेक्टर-39 के राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय की मनोविज्ञानी डॉ. शालिनी सोनी का कहना है कि असफलता से छात्रों को घबराना नहीं चाहिए। परीक्षा परिणाम आने पर अभिभावकों की भूमिका भी अहम होनी चाहिए। उन्हें कभी अपने बच्चे का मूल्यांकन उसके अंकों के आधार पर बिल्कुल नहीं करनी चाहिए। अभिभावकों को बच्चों को असफलता से सीख लेकर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करना चाहिए।