ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली नगर निगम के सदन की बैठक में विपक्ष का हंगामा, स्थाई समिति के गठन की मांग

दिल्ली नगर निगम के सदन की बैठक में विपक्ष का हंगामा, स्थाई समिति के गठन की मांग

दिल्ली नगर निगम के सदन की बैठक में एक बार फिर विपक्ष हंगामा देखा गया है। विपक्षी पार्षदों ने स्थाई समिति के गठन की मांग को लेकर नारेबाजी की है। इस बीच कुछ प्रस्ताव पारित कराए जाने की खबरें हैं।

दिल्ली नगर निगम के सदन की बैठक में विपक्ष का हंगामा, स्थाई समिति के गठन की मांग
Krishna Singhराहुल मानव,नई दिल्लीMon, 29 Jan 2024 05:39 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली नगर निगम की सोमवार को बुलाई गई सदन की बैठक में एक बार फिर विपक्ष के पार्षदों ने स्थाई समिति के गठन को लेकर हंगामा किया। इस हंगामे के बीच महापौर डॉ शैली ओबरॉय ने कुछ प्रस्ताव को पास किया और कुछ को स्थगित किया। उन्होंने विपक्ष पर सदन की कार्यवाही न चलने देने का आरोप भी लगाया। नेता विपक्ष राजा इकबाल सिंह ने महापौर पर उनकी और से स्थाई समिति की शक्तियों को सदन को दिए जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई याचिका पर सवाल उठाया। उन्होंने आरोप लगाया कि निगम अधिनियम में सदन, स्थाई समिति की शक्तियों के बारे में उल्लेख किया गया है। 

ये प्रस्ताव सदन में पेश किए गए
सदन में कई प्रस्तावों को प्रस्तुत किया गया। इसमें प्रदूषण के बढ़ने पर ग्रैप के दूसरे चरण के लागू होने पर पार्किंग शुल्क को चार गुना तक बढ़ाने का प्रस्ताव पेश किया गया। इसके अतिरिक्त निगम के अस्पताल में आंख, कान और नाक के विशेषज्ञ डॉक्टरों को अस्थायी रूप से भर्ती करने का प्रस्ताव भी प्रस्तुत हुआ। साथ ही न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी और जंगपुरा में मल्टीलेवल कार पार्किंग को लेकर भी प्रस्ताव हुआ। इसके तहत इन दोनों जगहों पर मल्टीलेवल कार पार्किंग को विकसित करने के लिए अतिरिक्त फंड को जारी करने के लिए प्रस्ताव लाया जा रहा है। निगम के अधिकारियों के अनुसार इन दोनों जगहों पर पार्किंग को छह माह तक तैयार करने की योजना है।

बजट के सुझावों को लेकर सिविक सेंटर में ज्ञापन चस्पा करेंगे ग्रामीण
दिल्ली नगर निगम के वित्तीय वर्ष 2024-25 के बजट के सुझावों के संबंध में ग्रामीण सिविक सेंटर में ज्ञापन चस्पा करेंगे। इस बारे में दिल्ली पंचायत संघ के प्रमुख थान सिंह यादव ने कहा कि महापौर ने दिसंबर में जनता की राय पर बजट तैयार करने का ऐलान किया था। लेकिन बजट को लेकर लोगों से सुझाव नहीं मांगे गए। अब पंचायत संघ ने अपने स्तर पर बजट के संबंध में गांवों से जुड़े मामलों पर सुझाव देने का फैसला किया है। जनता से सुझाव न मांगे जाने के विरोध में सिविक सेंटर पर ग्रामीण 5 फरवरी को ज्ञापन चस्पा करेंगे। इसके अलावा उन्होंने आरोप लगाया कि बजट को लेकर महापौर से मिलने का समय मांगा गया था। लेकिन अभी तक संघ के प्रतिनिधियों को मिलने का समय नहीं दिया गया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें