DA Image
21 अप्रैल, 2021|6:35|IST

अगली स्टोरी

गाजियाबाद में 100 दिन बाद कोरोना से एक मरीज की मौत, पूरे जिले में सख्ती बढ़ाई गई

coronavirus patna bihar

गाजियाबाद में एक बार फिर तेजी से बढ़ते कोविड-19 मामलों के बीच 100 दिन बाद गुरुवार को कोरोना संक्रमण से एक मरीज की मौत हो गई। वैशाली सेक्टर-5 में रहने वाली 82 साल की बुजुर्ग महिला को 28 मार्च को कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी और 29 को उन्हें संतोष अस्पताल में भर्ती कराया था। इलाज के दौरान आज उन्होंने दम तोड़ दिया। जिले में अब तक कुल 103 लोग कोरोना की चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके हैं।

76 नए संक्रमित मरीज मिले 

गाजियाबाद जिले में बुधवार को 76 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। वहीं, 41 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर लौट गए। जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 27,709 पर पहुंच गई है, जिनमें से 27,165 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। वर्तमान में जिले में 442 एक्टिव केस हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए लोगों से सावधानी बरतने और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने को कहा गया है। इसके साथ ही अलग-अलग स्थानों पर वैक्सीनेशन और कोरोना नियमों के पालन के लिए जागरूक किया जा रहा है।

नाइट कर्फ्यू लगाने के आदेश जारी 

गाजियाबाद जिला प्रशासन ने गुरुवार को 17 अप्रैल तक के लिए तत्काल प्रभाव से रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक के लिए सात घंटे का नाइट कर्फ्यू लगाने के आदेश दिए हैं। जिला प्रशासन की ओर जारी आदेश के अनुसार, कंटेनमेंट और रेड जोन के लिए भी नई व्यवस्थाएं लागू की गई हैं। यहां पार्क, सामुदायिक केंद्र और जिम भी एक बार फिर से बंद कर दिए गए हैं। इसके साथ ही घरों में काम करने के लिए मेड भी नहीं बुलाई जा सकेंगी। हालांकि, अखबार वितरण पर कोई पाबंदी नहीं है।

डीएम डॉ. अजय शंकर पांडेय ने बताया कि कोरोना संक्रमण को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने के लिए जिले में नाइट कर्फ्यू लागू करने का फैसला लिया गया है, ये आदेश आज रात से लागू हो जाएंगे। कर्फ्यू का समय रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक रखा गया है।  डीएम ने पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को जिले में गहन निगरानी के आदेश दिए हैं। 

टेस्ट रिपोर्ट मिलने में पांच दिन का इंतजार

जिले में कोरोना जांच रिपोर्ट सैंपल लेने के पांच दिन बाद मिल रही है। ऐसे में लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। समय से रिपोर्ट नहीं मिलने के कारण लोग अन्य राज्यों और जिलों में भी नहीं जा पाते हैं। वहीं जांच रिपोर्ट आने तक संक्रमित के संपर्क में आए लोगों में भी संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक दिन में पांच हजार लोगों की कोरोना जांच का लक्ष्य रखा गया है। इसमें 1700 जांच आरटी-पीसीआर जांच होंगी और 3300 एंटीजन किट द्वारा की जानी हैं। हालांकि, पहले की अपेक्षा अब लोग कोरोना जांच में कम रुचि दिखा रहे हैं, जिसके चलते पांच हजार का लक्ष्य पूरा करना स्वास्थ्य विभाग के लिए काफी मुश्किल हो गया है। एक दिन में अधिकतम चार से 4500 लोगों की जांच ही हो पा रही हैं। इसमें भी एंटीजन किट की रिपोर्ट तो तुरंत मिल जाती है, लेकिन आरटी-पीसीआर सैंपल लैब में भेजे जाते हैं, इसके बाद ही रिपोर्ट मिलती है। लोगों का आरोप है कि रिपोर्ट के लिए अभी चार से पांच दिन का इंतजार करना पड़ रहा है।

ये भी पढ़ें : कोविड-19 वैक्सीन की बर्बादी रोकने को दोपहर बाद नहीं लगा रहे टीके 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:One patient dies of COVID-19 in Ghaziabad after 100 days