ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRघर में खेलते वक्त बाल्टी के पानी में डूबने से डेढ़ साल के मासूम की मौत, फरीदाबाद में दर्दनाक घटना

घर में खेलते वक्त बाल्टी के पानी में डूबने से डेढ़ साल के मासूम की मौत, फरीदाबाद में दर्दनाक घटना

डॉक्टर अजय भार्गव कहते हैं कि ऐसी घटनाएं आए दिन सुनने को मिलती हैं। ऐसे में सतर्कता ही बच्चों को सुरक्षित रख सकती है। छोटे बच्चों को अकेला न छोड़ें। घर में बड़ी बाल्टी, टब आदि बच्चों से दूर रखें।

घर में खेलते वक्त बाल्टी के पानी में डूबने से डेढ़ साल के मासूम की मौत, फरीदाबाद में दर्दनाक घटना
Praveen Sharmaबल्लभगढ़ (फरीदाबाद)। हिन्दुस्तानMon, 29 Jan 2024 02:33 PM
ऐप पर पढ़ें

फरीदाबाद जिले के बल्लभगढ़ की इंदिरा कॉलोनी में एक घर में सवा साल के एक बच्चे की पानी से भरी बाल्टी में डूबने से मौत हो गई। घटना शनिवार रात की है। हादसे के समय मासूम अन्य बच्चों के साथ घर में ही कार्टून देखते-देखते बाल्टी के पास पहुंच गया। परिजनों के मुताबिक बच्चे का सिर बाल्टी में लटका मिला।

रविवार को पुलिस ने बच्चे के शव का पोस्टमॉर्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया। इंदिरा कॉलोनी निवासी रमन ने बताया कि उसका भतीजा आयुष शनिवार देर शाम घर में अन्य बच्चों के साथ टीवी में कार्टून देख रहा था। उसके दादा-दादी अपने कमरे में थे।

आयुष के पिता विनय निजी कंपनी में करते हैं और मां ज्योति घर में काम कर रही थी। कार्टून देखता हुआ आयुष वहां से चला गया। किसी को इस बारे में पता नहीं चला। सभी आयुष को तलाश करने लगे, तभी बाथरूम में देखा तो आयुष बाल्टी में आधा लटका हुआ था। उसका सिर पानी के अंदर था। परिजनों ने उसे तुरंत बाल्टी से बाहर निकाला, लेकिन वह बेहोश हो चुका था। उसे गंभीर हालत में सेक्टर-15 स्थित एक निजी अस्पताल में ले जाया गया। जहां से उसे रेफर कर दिया गया। उसके बाद परिजन उसे मेट्रो अस्पताल ले जा रहे थे, तभी रास्ते में उसने दम तोड़ दिया।

अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर ने आयुष को मृत घोषित कर दिया। सूचना पर सेक्टर-7 पुलिस मौके पर पहुंचीं। उन्होंने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम करा दिया। सेक्टर-7 पुलिस चौकी के इंचार्ज सुरेंद्र कुमार का कहना है कि बच्चा बाल्टी में उल्टा मिला था, पानी में डूबने के कारण उसकी मौत हुई है और यह परिवार इंदिरा कॉलोनी में ही रहता है और उसके पिता एक निजी कंपनी में काम करते हैं किसी के खिलाफ कोई मुकदमा दर्ज नहीं किया गया है।

सतर्कता जरूरी : मनोचिकित्सक डॉक्टर अजय भार्गव कहते हैं कि ऐसी घटनाएं आए दिन सुनने को मिलती हैं। ऐसे में सतर्कता ही बच्चों को सुरक्षित रख सकती है। छोटे बच्चों को अकेला नहीं छोड़ना चाहिए। घर में बड़ी बाल्टी, टब आदि बच्चों से दूर रखें। परिजन बच्चों पर नजर बनाए रखें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें