ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRनूंह हिंसा: कांग्रेस विधायक मम्मन खान को 2 मामलों में राहत, फिर भी जेल में ही रहेंगे, क्यों?

नूंह हिंसा: कांग्रेस विधायक मम्मन खान को 2 मामलों में राहत, फिर भी जेल में ही रहेंगे, क्यों?

नूंह सांप्रदायिक हिंसा के सिलसिले में कांग्रेस विधायक मम्मन खान को बड़ी राहत मिली है। नूंह की अदालत ने दो मामलों में कांग्रेस विधायक मम्मन खान को जमानत दे दी है। फिर भी वह जेल में ही रहेंगे, क्यों?

नूंह हिंसा: कांग्रेस विधायक मम्मन खान को 2 मामलों में राहत, फिर भी जेल में ही रहेंगे, क्यों?
Krishna Singhभाषा,नूंहSat, 30 Sep 2023 10:03 PM
ऐप पर पढ़ें

हरियाणा के नूंह में हुई सांप्रदायिक हिंसा के सिलसिले में गिरफ्तार किए गए कांग्रेस विधायक मम्मन खान को शनिवार को बड़ी राहत मिली लेकिन फिर भी वह जेल में ही रहेंगे। नूंह की अदालत ने दो मामलों में कांग्रेस विधायक मम्मन खान को जमानत दे दी लेकिन नूंह हिंसा से संबंधित दो अन्य मामलों में उनको अभी तक जमानत नहीं मिल सकी है। यही वजह है कि उनको अभी जेल में ही रहना होगा। पुलिस ने शनिवार को बताया कि अदालत ने उनकी जमानत याचिका पर सुनवाई की अगली तारीख तीन अक्टूबर तय की है।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश संदीप दुग्गल ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फिरोजपुर झिरका से कांग्रेस विधायक की जमानत याचिका पर अपना आदेश शाम चार बजे तक के लिए सुरक्षित रख लिया था। कांग्रेस विधायक खान के वकील ताहिर हुसैन देवला ने बताया कि अदालत के फैसले में कांग्रेस नेता को प्राथमिकी संख्याओं 149, 150 में जमानत दे दी गई, लेकिन नगीना थाने में दर्ज प्राथमिकी संख्याओं 137, 148 में खान को अभी तक जमानत नहीं मिली है।

वकील ताहिर हुसैन देवला ने कहा- दो मामलों में जमानत नहीं मिलने के कारण मम्मन खान (Mamman Khan) को अभी जेल में ही रहना होगा। जमानत पर अगली सुनवाई तीन अक्टूबर को तय की गई है। मम्मन खान को 15 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था। उनके वकील ने दलील दी कि एसआईटी के आरोप बेबुनियाद हैं। उन्हें जमानत दी जानी चाहिए। अभियोजन पक्ष के वकील सुरेंद्र कुमार ने कहा कि जांच के दौरान विधायक के खिलाफ पर्याप्त सबूत मिले हैं।

अभियोजन पक्ष के वकील सुरेंद्र कुमार ने आरोप लगाया कि रिमांड अवधि के दौरान भी आरोपी कांग्रेस विधायक मम्मन खान ने जांच में सहयोग नहीं किया। नूंह में विहिप के नेतृत्व में 31 जुलाई को निकाली गई जलाभिषेक यात्रा पर भीड़ ने हमला कर दिया था। इस घटना और इसके बाद हरियाणा के कुछ अन्य इलाकों में सांप्रदायिक हिंसा भड़क गई थी। इन हिंसा में कुल छह लोगों की मौत हो गई थी। गुरुग्राम से सटी एक मस्जिद पर हुए भीड़ के हमले में एक इमाम की मौत हो गई थी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें