ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRनूंह में शोभा यात्रा नहीं केवल जलाभिषेक, कई नजरबंद, विधानसभा से सड़क तक दिनभर सरगर्मी

नूंह में शोभा यात्रा नहीं केवल जलाभिषेक, कई नजरबंद, विधानसभा से सड़क तक दिनभर सरगर्मी

Nuh News: बृजमंडल शोभा यात्रा निकालने को लेकर नूंह में दिनभर सरगर्मी रही। विहिप अध्यक्ष आलोक कुमार समेत अन्य हिंदूवादी नेताओं ने कड़ी सुरक्षा के बीच नूंह के नल्हड़ महादेव मंदिर में 'जल अभिषेक' किया।

नूंह में शोभा यात्रा नहीं केवल जलाभिषेक, कई नजरबंद, विधानसभा से सड़क तक दिनभर सरगर्मी
Krishna Singhलाइव हिंदुस्तान,नूंहTue, 29 Aug 2023 12:04 AM
ऐप पर पढ़ें

जलाभिषेक यात्रा को लेकर नूंह में सावन के आखिरी सोमवार को सुरक्षा के तगड़े बंदोबस्त किए गए थे। नूंह छावनी में तब्दील रहा। कर्फ्यू जैसे माहौल के बीच आम नागरिक दिनभर अपने घरों में ही रहे। स्कूल-कॉलेज, कोचिंग सेंटर, बैंक से लेकर बाजार सब बंद रहे। हालांकि विहिप अध्यक्ष आलोक कुमार समेत कुछ अन्य हिंदूवादी नेताओं ने कड़ी सुरक्षा के बीच नूंह के नल्हड़ महादेव मंदिर में 'जलाभिषेक' किया। हालांकि नूंज जिला प्रशासन ने हिंदूवादी नेताओं को धार्मिक यात्रा आयोजित करने की अनुमति नहीं दी। पुलिस ने कई नेताओं को जगह जगह नजरबंद भी किया। इस रिपोर्ट में जानें दिनभर कैसा रहा माहौल...

यात्रा की नहीं मिली इजाजत
समाचार एजेंसी पीटीआई भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, नूंह में कड़ी सुरक्षा के बीच हिंदू समूहों के कुछ नेताओं ने सोमवार को प्रमुख मंदिरों में पूजा-अर्चना जरूर की, लेकिन प्रशासन ने इन्हें धार्मिक यात्रा आयोजित करने की अनुमति नहीं दी। पुलिस ने साफ कर दिया कि श्रावण माह के आखिरी सोमवार को यात्रा पूरी करने की अनुमति नहीं दी गयी है। इस आदेश के मद्देनजर नूंह जिले की सीमा पर बैरिकेड लगा दिए गए और बाहरी लोगों को आने की अनुमति नहीं दी गई। 

केवल 15 संतों और नेताओं को दी एंट्री
पीटीआई ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि नूंह जिला प्रशासन ने केवल 15 संतों और हिंदू संगठनों के नेताओं को जिले में प्रवेश की अनुमति दी। इन नेताओं को नूंह पुलिस लाइन से मूल यात्रा मार्ग पर नल्हड़, झिर और सिंगार तीन मंदिरों में ले जाया गया जहां उन्होंने भगवान शिव का जलाभिषेक किया। बाद में इन सभी को चार वाहनों में वापस लाया गया। एक नेता ने कहा कि उनके साथ करीब 100 स्थानीय लोग मौजूद थे।

विहिप चीफ ने किया जलाभिषेक
हालांकि विहिप अध्यक्ष आलोक कुमार समेत नेताओं ने सोमवार को कड़ी सुरक्षा के बीच नूंह के नल्हड़ महादेव मंदिर में जलाभिषेक किया। सरकार की ओर से जुलूस की अनुमति देने से इनकार करने के बावजूद सर्व जातीय हिंदू महापंचायत ने सोमवार को नूंह जिले में 'शोभा यात्रा' का आह्वान किया था। इसको देखते हुए सुरक्षा के सख्त इंतजाम किए गए थे। पुलिस को हाई अलर्ट पर रखा गया था। कुल मिलाकर नूंह या आसपास के जिलों में हिंसा की कोई घटना नहीं हुई और पूरा कार्यक्रम शांति पूर्वक निपट गया।

घमंडी है हरियाणा सरकार
विहिप चीफ आलोक कुमार ने कहा कि ये हरियाणा सरकार का घमंड है। इस मामले में प्रमुख सचिव से पहले ही बातचीत हो चुकी थी। फिर भी उन्हें रोका जा रहा है। यात्रा के लिए किसी प्रकार की अनुमति लेने की जरूरत नहीं है। इतनी सुरक्षा शोभा यात्रा के यात्रियों के लिए है जबकि सभी शांति से जा रहे हैं।

बीच रास्ते रोके जाने पर भड़के संत
समाचार एजेंसी पीटीआई ने अधिकारियों के हवाले से बताया है कि अयोध्या के संत जगद्गुरु परमहंस आचार्य के वाहन को सोहना के पास गमरोज टोल प्लाजा पर रोक दिया गया। वह और उनके अनुयायी नल्हड़ मंदिर में जलाभिषेक के लिए सरयू नदी का जल और अयोध्या की मिट्टी लेकर जा रहे थे। हिंदूवादी नेता कुलभूषण भारद्वाज ने दावा किया कि सूबे की पुलिस ने हिंदू नेताओं को नजरबंद किया है। उन्होंने इसे हिंदुओं की आस्था पर हमला करार दिया। हरियाणा सरकार ने मुगल शासनकाल की यादें ताजा करा दी है। 

यात्रा सफल होने का दावा
इस बीच हिंदूवादी नेता अरुण जेलदार ने कहा कि बृज मंडल यात्रा सफल रही। 300 से अधिक लोगों ने नलहड़ मंदिर में जलाभिषेक किया। साथ ही नूंह के अलग-अलग मंदिरों में हजारों श्रद्धालूओं ने जलाभिषेक कर यात्रा को सफल बनाया। यात्रा के माध्यम से शांति-सौहार्द के साथ भाईचारे का भी संदेश दिया गया। जलाभिषेक में दूसरे धर्म के लोग भी शामिल रहे। महामंडलेश्वर स्वामी धर्मदेव ने बताया कि नल्हड़, फिरोजपुर झिरका, सिंगार के मंदिर में लोगों ने जलाभिषेक किया।

मीडिया के वाहनों पर भी पाबंदी
अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) ममता सिंह ने बताया कि नल्हड़, झिर और सिंगार में तीन मंदिरों में करीब 15 हिंदूवादी नेताओं साधू संतों को जलाभिषेक की अनुमति दी गई जिसमें VHP अध्यक्ष आलोक कुमार, स्वामी धर्म देव, स्वामी परमानंद समेत अन्य शामिल हुए। यह पूरा कार्यक्रम शांतिपूर्ण ढंग से आयोजित हुआ। पीटीआई के मुताबिक, भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चौधरी जाकिर हुसैन और उनकी पत्नी नसीमा हुसैन भी नल्हड़ मंदिर पहुंचे। दिल्ली-गुरुग्राम सीमा से नूंह तक कुल पांच प्रमुख चौकियां लगाई गई थीं। मीडिया के वाहनों को तीसरी चौकी से आगे जाने की इजाजत नहीं थी।

आठ सौ पुलिसकर्मी और 6 पैरामिलिट्री फोर्स तैनात
नूंह में बृजमंडल यात्रा को लेकर प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट मोड़ पर रहा। सुरक्षा में किसी भी तरह की कोई चूक ना हो जाए इसलिए सुरक्षा के पूरे इंतजाम किए गए। पूरे जिले में आठ सौ पुलिसकर्मी और 6 पैरामिलिट्री फोर्स के जवान लगाए गए थे। पूरे जिले में पुलिस के 20 नाके लगाए थे। सभी नाकों पर हथियारबंद जवानों को तैनात किया गया था। हर उस स्थान को सील कर दिया गया था जहां से पुलिस को ऐसा लगता कि समस्या खड़ी हो सकती है। 

हर आधे किलोमीटर के बाद नाके लगाए
नूंह में किसी प्रकार की अप्रिय घटना की आशंका को देखते हुए पुलिस ने हर आधे किलोमीटर पर नाके लगाए थे। हर नाके पर 10 से अधिक पुलिस कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई थी। सीमावर्ती क्षेत्र से लेकर अंदरूनी क्षेत्रों में लगे नाकों पर पहुंचने वाले हर वाहन, पैदल राहगीरों से सधन पूछताछ की जा रही थी। लोगों के पहचान पत्र भी देखे जा रहे थे, जिनके पास नूंह से संबंधित पहचान पत्र थे, उन्हें प्रवेश करने दिया जा रहा था। मीडिया कर्मियों को भी यात्रा प्रारंभ स्थल से पांच किलोमीटर पहले ही रोक दिया गया था।

रोका तो मौके पर ही बैठे कार्यकर्ता और साधू संत
समाचार एजेंसी पीटीआई भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस ने जगह-जगह हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं को ब्रजमंडल यात्रा में भाग लेने से रोका। इस पर नाराज कार्यकर्ताओं और साधू संतों ने मौके पर ही बैठकर प्रदर्शन किया और गिरफ्तारियां दीं। जींद में हिंदू संगठनों के 22 कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन के बाद सांकेतिक गिरफ्तारियां दीं।

जगह जगह हिंदूवादी नेताओं को किया नजरबंद
विश्व हिंदू तख्त प्रमुख वीरेश शांडिल्य को पुलिस ने उनके अंबाला स्थित आवास पर ही नजरबंद कर दिया। उन्होंने सोमवार को नूंह मंदिर में जलाभिषेक करने का एलान किया था। पुलिस ने उनके आवास पर रविवार रात से ही पहरा लगा रखा था। अन्य जगहों से भी हिंदूवादी नेताओं को नजरबंद करने की खबरें सामने आईं।

निकलने से पहले ही पुलिस ने घेर लिया आवास
गुरुग्राम पुलिस ने भी विहिप, संघ समेत अन्य हिंदू संगठनों के कई नेताओं को नजरबंद रखा। उन्हें घर से बाहर जाने की इजाजत नहीं दी गई। सोमवार को सुबह करीब 8:26 बजे ही हिंदूवादी नेता कुलभूषण भारद्वाज के पुराने डीएलएफ घर के बाहर गुरुग्राम पुलिस की एक पीसीआर पहुंच गई। पुलिसकर्मी शाम करीब 4.30 बजे तक वहीं जमे रहे। कुलभूषण भारद्वाज को घर से नहीं निकलने दिया गया। 

विज बोले- नूंह हिंसा में कांग्रेस विधायक का हाथ, विधानसभा में हंगामा
हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने बताया कि नूंह की घटना में अब तक 500 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं कांग्रेस ने नूंह हिंसा की हाईकोर्ट के जज से जांच कराने की मांग उठाई। अनिल विज ने कहा कि गिरफ्तार लोगों से पूछताछ में हिंसा के पीछे कांग्रेस का हाथ होने की बात सामने आई है। हिंसा के सिलसिले में फिरोजपुर झिरका से कांग्रेस विधायक मामन खान के खिलाफ भी सबूत मिले हैं। पुलिस ने उन्हें जांच में शामिल होने के लिए नोटिस जारी किया है। इसके बाद कांग्रेस सदस्यों ने हंगामा किया। 

नूंह हिंसा के बाद 500 लोग हुए गिरफ्तार
हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने सोमवार को विधानसभा में नूंह हिंसा पर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने नूंह हिंसा को गलत करार देते हुए कहा कि प्रदेश सरकार प्रजातांत्रिक एवं धर्मनिरपेक्ष सरकार है। इसमें हर धर्म के लोगों को अपनी-अपनी मान्यताओं के अनुसार धार्मिक गतिविधियों को करने की इजाजत है। उन्होने कहा कि नूंह की घटना में अब तक जो तफ्तीश हुई है, उसके तहत 500 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिनकी भूमिका नजर आ रही है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें