DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  अब बस लॉकडाउन ही लास्ट ऑप्शन? दिल्ली में पहली बार 17 हजार से अधिक नए केस, 104 लोगों की गई जान

एनसीआरअब बस लॉकडाउन ही लास्ट ऑप्शन? दिल्ली में पहली बार 17 हजार से अधिक नए केस, 104 लोगों की गई जान

नई दिल्ली। लाइव हिन्दुस्तान टीमPublished By: Praveen Sharma
Wed, 14 Apr 2021 09:33 PM
अब बस लॉकडाउन ही लास्ट ऑप्शन? दिल्ली में पहली बार 17 हजार से अधिक नए केस, 104 लोगों की गई जान

दिल्ली में दिन-प्रतिदिन विकराल रूप धारण कर रही कोरोना महामारी ने अब डराना शुरू कर दिया है। संक्रमण बेकाबू होने के बाद दिल्ली में बुधवार को पहली बार सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए कोरोना के 17000 से अधिक नए पॉजिटिव केस आने से सरकार की टेंशन और बढ़ गई है। अब संक्रमित मरीजों का कुल आंकड़ा भी बढ़कर 7.67 लाख के पार पहुंच गया है। इसके साथ ही अब पॉजिटिविटी रेट भी 15.92 फीसदी पर आ गया है। कोरोना संक्रमण से आज 100 से अधिक मरीजों की मौत भी हो गई। हालात को देखते हुए अब लॉकडाउन ही इससे निपटने का आखिरी ऑप्शन नजर आ रहा है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से बुधवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, बीते 24 घंटे में जहां कोरोना के 17,282 नए मरीज मिले हैं, वहीं 104 और मरीजों की मौत के बाद मृतकों का कुल आंकड़ा बढ़कर 11,540 पर पहुंच गया है। मंगलवार को 13,468 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई थी। 

ये भी पढ़ें : दिल्ली में लगने वाला है लॉकडाउन? इन अस्पतालों में कोविड ICU बेड्स फुल

बुलेटिन के अनुसार, आज 9952 मरीज पूरी तरह ठीक होकर कोरोना मुक्त हो गए, जबकि मंगलवार को यह संख्या 7972 थी। स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि दिल्ली में अब तक संक्रमितों की कुल संख्या 7,67,438 हो गई है और 24,155 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। राजधानी में अब कोरोना वायरस संक्रमण के एक्टिव केस भी बढ़कर 50,736 हो गए हैं। वहीं, अब तक कुल 7,05,162 मरीज इस महामारी को मात देकर कोरोना मुक्त हो चुके हैं। इसके साथ ही अब तक मरने वालों की संख्या 11,540 हो गई है।

दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, आज दिल्ली में कुल 1,08,534 टेस्ट किए गए हैं। इनमें से 68,422 आरटीपीआर/ सीबीएनएएटी / ट्रूनैट टेस्ट और 34,619 रैपिड एंटीजन टेस्ट शामिल थे। दिल्ली में अब तक कुल 15,861,634 जांचें हुई हैं और प्रति 10 लाख लोगों पर 8,34,822 टेस्ट किए गए हैं। इसके साथ ही अब दिल्ली में आज 746 नए कंटेनमेंट जोन बनाए जाने के बाद इनकी संख्या भी बढ़कर 7598 पर पहुंच गई है, जबकि मंगलवार को इनकी संख्या 6852 थी।

मंगलवार को 13,468, सोमवार को 11,491, रविवार को 10,774, शनिवार को 7,897 और शुक्रवार को 8,521 मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई थी।

बता दें कि दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में अप्रत्याशित वृद्धि के बीच वेंटिलेटर सहित कोविड-19 आईसीयू बेड्स की सुविधा वाले 94 में से 69 अस्पतालों में इस प्रकार के सारे बेड्स भर गए हैं और केवल 79 बेड्स ही खाली हैं। एक आधिकारिक ऐप में दिए गए आंकड़ों में बुधवार को यह जानकारी सामने आई।

दिल्ली कोरोना ऐप के अनुसार, दोपहर दो बजे तक 110 अस्पतालों में से 75 में बिना वेंटिलेटर वाले सभी कोविड-19 आईसीयू बेड्स भरे थे। वेंटिलेटर वाले 1,177 कोविड-19 आईसीयू बेड्स में से केवल 79 खाली थे, जबकि बिना वेंटिलेटर के 2,130 कोविड आईसीयू बेड्स में से 348 खाली थे।

ये भी पढ़ें : 'पत्रकारों को भी प्राथमिकता पर कोविड-19 टीकाकरण की अनुमति दे केंद्र'

इसके अलावा कुल 13,680 बेड्स में से 9,041 भरे थे। महामारी की चौथी लहर का सामना कर रही राजधानी में मंगलवार को संक्रमण के 13,468 नए मामले सामने आए और 81 मरीजों की मौत हो गई। दिल्ली कोरोना ऐप के अनुसार, राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, सफदरजंग अस्पताल, बीएसए अस्पताल और मैक्स पटपड़गंज समेत 69 अस्पताल ऐसे हैं जहां वेंटिलेटर वाले कोविड आईसीयू बेड्स खाली नहीं हैं। ऐप के अनुसार, अपोलो अस्पताल और शालीमार बाग का फोर्टिस अस्पताल में बेड्स पूरी तरह भरे हैं। 

संबंधित खबरें