ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली में किस सीट पर नोटा को सबसे ज्यादा वोट, कहां सबसे कम; पढ़ें दिलचस्प आंकड़े

दिल्ली में किस सीट पर नोटा को सबसे ज्यादा वोट, कहां सबसे कम; पढ़ें दिलचस्प आंकड़े

आपको बता दें कि दिल्ली की सभी सात लोकसभा सीटों पर कुल 45,554 वोट 'None of the Above' (NOTA) को पड़े हैं। उत्तर-पश्चिम दिल्ली लोकसभा सीट पर मतदाताओं ने सबसे ज्यादा NOTA का विकल्प चुना।

दिल्ली में किस सीट पर नोटा को सबसे ज्यादा वोट, कहां सबसे कम; पढ़ें दिलचस्प आंकड़े
Nishant Nandanपीटीआई,नई दिल्लीWed, 05 Jun 2024 05:42 PM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सभी लोकसभा सीटों पर बीजेपी ने एक बार फिर कब्जा जमा लिया है। दिल्ली की सभी सातों सीट के परिणाम घोषित किए जाने के बाद अब कुछ दिलचस्प आंकड़े भी सामने आ रहे हैं। चुनाव आयोग के डेटा यह बताते हैं कि दिल्ली की सभी सातों सीटों पर कुल 45,554 वोट 'None of the Above' (NOTA) को पड़े हैं। उत्तर-पश्चिम दिल्ली लोकसभा सीट पर मतदाताओं ने सबसे ज्यादा NOTA का विकल्प चुना। डेटा के मुताबिक, यहां 8,984 वोट नोटा को पड़े हैं। इस संसदीय सीट पर बीजेपी के योगेंद्र चंडोलिया ने 2,90,849 मतों से जीत हासिल की है। उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी उदित राज को हराया है। 

पिछली बार NOTA को कितने वोट

एक दिलचस्प आकंड़ा यह भी सामने आया है कि इस बार के लोकसभा चुनाव में नोटा के कुल वोटों की संख्या साल 2019 के चुनाव में पड़े नोटा के कुल वोटों की संख्या से थोड़ा ही कम है। इस बार के चुनाव में नोटा को कुल 45,554 वोट मिले तो वहीं साल 2019 के चुनाव में नोटा को कुल 45,629 वोट मिले थे। 

बांसुरी की सीट पर नोटा को सबसे कम वोट

दिल्ली में हुए लोकसभा चुनाव में नई दिल्ली लोकसभा सीट पर नोटा को सबसे कम वोट मिले। इस सीट पर बांसुरी स्वराज और आम आदमी पार्टी के नेता सोमनाथ भारती के बीच मुकाबला था। इस संसदीय क्षेत्र के कुल 4,813 मतदाताओं ने नोटा का विकल्प चुना।

NOTA साल 2013 में EVM में जुड़ा

NOTA विकल्प वोटरों को यह मौका देता है कि वो अपने क्षेत्र के सभी उम्मीदवारों को रिजेक्ट कर सकें। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद साल 2013 में सितंबर के महीने में नोटा को electronic voting machine (EVM)में जोड़ा गया था। दिल्ली की चांदनी चौक लोकसभा सीट से बीजेप के प्रवीण खंडेलवाल ने जीत हासिल की है। वो यहां 89,325 वोटों से जीते थे। यहां  5,563 वोट नोटा को भी मिले हैं। इसी तरह नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली जहां पूर्वांचल के दो बड़े चेहरे कन्हैया कुमार और मनोज तिवारी चुनावी मैदान में थे वहां 5,873 मतदाताओं ने नोटा का विकल्प चुना था। 

ईस्ट दिल्ली लोकसभा सीट पर नोटा को 5,394 और साउथ दिल्ली सीट पर 5,961 वोट मिले। पश्चिमी दिल्ली लोकसभा सीट दिल्ली की दूसरी ऐसी सीट रही जहां इस चुनाव में सबसे ज्यादा नोट को नोट मिले।इस सीट पर नोटा को 8,699 मत मिले। यहां से आप के महाबल मिश्र और बीजेपी के कमलजीत सहरावत आमने-सामने थे।