अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खाकी पर दाग : पैसों के बंटवारे पर भिड़े पुलिसकर्मी, नोएडा SOG के 16 जवान लाइन हाजिर

up police

ग्रेटर नोएडा में एसओजी की टीम के दो सिपाही कथित रूप से पैसे के बंटवारे को लेकर आपस में ही भिड़ गए। एक कांस्टेबल ने इस मामले की शिकायत डीजीपी से कर दी। इसके बाद कार्रवाई करते हुए एसएसपी ने शुक्रवार को एसओजी टीम के 16 पुलिस कर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया। 

जानकारी के अनुसार, आरोप है कि पैसे के बंटवारे को लेकर एसओजी टीम में शामिल दो पुलिस कर्मियों के बीच जमकर लात-घूसे चले। यही नहीं एसओजी के ही एक कांस्टेबल ने इस घटना का सारा चिट्ठा डीजीपी ऑफिस को भेज दिया। इसके बाद पुलिस महकमे में खलबली मच गई। 

इसके बाद शुक्रवार को एसएसपी डॉ. अजयपाल शर्मा ने एसओजी टीम को लाइन हाजिर कर दिया। साथ ही एसएसपी ने इस मामले की जांच भी शुरू कर दी है। 

शिकायत में बताया गया है कि नोएडा से लेकर ग्रेटर नोएडा तक में सरिया और सीमेंट फैक्ट्रियों और होटलों से थानों में पैसा आता है। कई बड़े अफसरों को भी पैसा देने की बात कही गई है। मामले की जांच सीओ को सौंपी गई है।

सिपाही के गंभीर आरोपों पर यूपी पुलिस ने दिए जांच के आदेश

नोएडा पुलिस के क्राइम ब्रांच के अफसरों पर एक सिपाही द्वारा ट्वीट कर लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों को गंभीर मानते हुए उत्तर प्रदेश पुलिस ने इसकी जांच के आदेश दे​ दिए हैं।

सिपाही के आरोपों के बारे में पूछे गए सवालों पर पुलिस उप महानिरीक्षक (कानून-व्यवस्था) प्रवीण कुमार ने शुक्रवार को कहा कि आरोप गंभीर हैं। जांच के निर्देश दे दिए गए हैं। पुलिस अधीक्षक (नगर) जांच कर रहे हैं।

हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि जिस सिपाही के ट्वीट की बात हो रही है, उससे पूछताछ की गई है। उसने ऐसा कुछ भी लिखने से इनकार किया है। प्रथमदृष्टया यह भी नहीं लगता कि सिपाही के मोबाइल फोन से ऐसा कोई मैसेज भेजा गया है। 

16 पुलिसकर्मियों को इसलिए किया गया लाइन हाजिर 

यह पूछने पर कि जब सिपाही इनकार कर रहा है तो 16 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर क्यों किया गया, कुमार ने कहा कि एसओजी (स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप) पर आरोप लगा है। चूंकि उसकी जांच हो रही है इसलिए उसमें शामिल पुलिसकर्मियों को मुख्य कार्य से हटाकर पुलिस लाइन भेज दिया गया है ताकि जांच प्रभावित ना हो।

उल्लेखनीय है कि ट्वीट में पुलिस अधिकारियों और पुलिसकर्मियों पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। नोएडा से मिली खबर के अनुसार, एसएसपी अजयपाल शर्मा ने बताया कि सिपाही के ट्वीट को गंभीरता से लेते हुए इसकी जांच नगर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार सिंह को सौंपी गई है। उन्होंने बताया कि क्राइम ब्रांच में तैनात इंस्पेक्टर सहित 16 पुलिस वालों को तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया गया है।

सिपाही ने क्राइम ब्रांच के अफसरों द्वारा कथित रूप से किए जा रहे भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए उत्तर प्रदेश के डीजीपी से लेकर जिले के पुलिस कप्तान तक को ट्वीट किया था। ट्वीट में पुलिस अधिकारियों, कर्मियों आदि पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। ट्वीट में कहा गया कि क्राइम ब्रांच के अधिकारी हर माह रिश्वत के रूप में लाखों रुपए वसूलते हैं।  
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Noida SOG 16 Policemen Line attach after fight for money distribution