ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRनोएडा के कॉलेजों में लग्जरी गाड़ियों से ड्रग्स की सप्लाई, ऐप से डिलीवरी; पुलिस ने किया बड़ा खुलासा

नोएडा के कॉलेजों में लग्जरी गाड़ियों से ड्रग्स की सप्लाई, ऐप से डिलीवरी; पुलिस ने किया बड़ा खुलासा

कुछ महीने पहले पुलिस ने कॉलेजों में नशीली दवाओं की सप्लाई को लेकर बड़ी कार्रवाई की थी और इन दवाओं को सप्लाई करने वाले गिरोह का भी भंडाफोड़ किया था।

नोएडा के कॉलेजों में लग्जरी गाड़ियों से ड्रग्स की सप्लाई, ऐप से डिलीवरी; पुलिस ने किया बड़ा खुलासा
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 23 Feb 2024 03:50 PM
ऐप पर पढ़ें

नोएडा पुलिस ने गुरुवार को दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया है और उनके पास से 100 किलो गांजा बरामद किया है। पुलिस ने उनके बारे में जो खुलासे किए हैं वो चौंकाने वाले हैं। पुलिस को ये सारी बातें पूछताछ के दौरान पता चली। आरोपियों ने बताया कि वह ओडिशा से 100 किलो गांजा तस्करी कर नोएडा लाए थे। इतना ही नहीं इसके लिए वह रेंटेड लग्जरी कार का इस्तेमाल करते थे। ऐसे में अब पुलिस ने किराय की कार में ड्रग्स की सप्लाई किए जाने को लेकर अलर्ट जारी किया है। 

इससे कुछ महीने पहले पुलिस ने कॉलेजों में नशीली दवाओं की सप्लाई को लेकर बड़ी कार्रवाई की थी और इन दवाओं को सप्लाई करने वाले गिरोह का भी भंडाफोड़ किया था। इसके बाद ही पुलिस ने बताया था कि कैसे शहर में इंस्टैंट ऐप बेस्ड डिलीवरी सर्विस का इस्तेमाल कर युवाओं को नशीली दवाएं सप्लाई की जा रही हैं। 

पुलिस ने ये भी बताया कि फिलहाल जो दो लोग गिरफ्तार किए गए उऩ्हें स्पेशल क्राइम रिस्पॉन्स टीम ने पकड़ा है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पकड़े गए लोगों की पहचान गाजियाबाद के रहने वाले विकास शर्मा और बिजनोर के मूल निवासी कपिल चौधरी के रूप में की गई है। नोएडा पुलिस उपायुक्त विद्या सागर मिश्रा ने कहा कि पुलिस ने आरोपियों के पास से ब्लैकमार्केट में  25 लाख रुपये मूल्य का 102 किलोग्राम गांजा जब्त किया है और उनकी महिंद्रा स्कॉर्पियो जब्त कर ली है।

मिश्रा ने बताया, एक आरोपी (कपिल) की क्राइम हिस्ट्री भी है और उस पर (2013 के) हत्या के एक मामले में मुकदमा चल रहा है। दोनों आरोपी एक-दूसरे के रिश्तेदार हैं और पहले भी ऐसे अपराधों में शामिल रहे हैं। जांच के दौरान, उन्होंने खुलासा किया कि उन्होंने ज़ूम ऐप  के जरिए कार बुक की थी। अधिकारी ने बताया कि हम विस्तार से जांच कर रहे हैं कि वे कारों को कैसे बुक करते थे और उनका उपयोग कैसे करते थे। उनके पास से बरामद सामग्री की कीमत लगभग 25 लाख रुपये है और यह एनसीआर में सप के लिए थी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें