ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRनोएडा एयरपोर्ट से सफर को करना पड़ेगा और इंतजार, अगले साल शुरू होगी उड़ान; देरी की क्या वजह

नोएडा एयरपोर्ट से सफर को करना पड़ेगा और इंतजार, अगले साल शुरू होगी उड़ान; देरी की क्या वजह

नोएडा एयरपोर्ट से सफर करने के लिए आपको थोड़ा और इंतजार करना पड़ेगा। यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड ने सोमवार को एयरपोर्ट के संचालन में सात महीने और लगने की बात कही है।

नोएडा एयरपोर्ट से सफर को करना पड़ेगा और इंतजार, अगले साल शुरू होगी उड़ान; देरी की क्या वजह
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नोएडाTue, 25 Jun 2024 07:12 AM
ऐप पर पढ़ें

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से उड़ान भरने का सपना अगले साल ही पूरा हो सकेगा। यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (यापल) ने सोमवार को एयरपोर्ट के संचालन में सात माह और लगने की बात कही है। ऐसे में एयरपोर्ट से विमानों की उड़ान अब अप्रैल 2025 के अंत तक संभव होगी। उड़ान में देरी के लिए विकासकर्ता कंपनी को 29 सितंबर के बाद प्रतिदिन दस लाख रुपये जुर्माना देना पड़ेगा। एयरपोर्ट का निर्माण करने वाली कंपनी यापल की ओर से कहा गया कि नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर निर्माण और विकास कार्य अग्रिम चरण में है। यह एक बड़ी और जटिल परियोजना है। इसके निर्माण में अगले कुछ सप्ताह महत्वपूर्ण है। रनवे, यात्री टर्मिनल और नियंत्रण टावर पर काम काफी आगे बढ़ चुका है।

हाल ही में ग्राउंड हैंडलिंग, वाणिज्यिक क्षेत्रों के संचालन और रखरखाव के अनुबंध हुए हैं। एयरपोर्ट से उड़ान के लिए कई एयरलाइनों के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं, लेकिन वर्तमान में निर्माण कार्यों की स्थिति को देखते हुए अप्रैल 2025 के अंत तक ही इसका संचालन शुरू होने की उम्मीद है। नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नायल) और यापल के बीच हुए अनुबंध के मुताबिक एयरपोर्ट का प्रथम चरण का काम 29 सितंबर 2024 तक पूरा किया जाना था। एयरपोर्ट का प्रथम चरण 1334 हेक्टेयर में विकसित होना है। यहां से प्रतिवर्ष 12 लाख यात्री उड़ान भर सकेंगे।

टर्मिनल बिल्डिंग के काम में देरी

कंपनी के मुताबिक, टर्मिनल बिल्डिंग का कार्य में देरी हो रही है। इसका कारण विदेश से स्टील की आपूर्ति नहीं हो सका। यह विशेष प्रकार की स्टील बेलारुस से आनी हैं, जिसे आने में काफी समय लग सकता है। साथ ही रनवे एवं एटीसी टावर, विमान बचाव और अग्निशमन (एआरएफएफ) का कार्य भी 20 प्रतिशत अधूरा है। बताया गया कि 3900 मीटर लंबा रनवे बनकर तैयार है, लेकिन इसपर लाइटिंग का कार्य अभी भी चल रहा है।

एयरपोर्ट का पहला चरण

● 1334 हेक्टेयर है एयरपोर्ट के पहले चरण का क्षेत्रफल
● 12 लाख यात्री यहां से हर साल उडाऩ भर सकेंगे
● 96,400 फ्लाइट का आवागमन हो सकेगा हर साल
● 2,49,600 टन कार्गो यहां से आ-जा सकेगा
● 1,01,590 वर्ग मीटर में बन रही है टर्मिनल बिल्डिंग
● 3,900 मीटर लंबा होगा टर्मिनल
● 28 एयरक्राफ्ट स्टैंड बनाए जाएंगे पहले फेज में
● 40 एकड़ में विकसित होगा एमआरओ हब
● 167 एकड़ में रियल स्टेट डेवलपमेंट हो सकेंगे
● 10056 करोड़ से धनराशि होगी चुकी खर्च
● अबतक 80 प्रतिशत कार्य पूरा होने का दावा

अबतक ये काम हो चुके

1. एयरपोर्ट में 3900 मीटर लंबे रनवे बन चुका है।
2. डीवीओआर कैलिब्रेशन फ्लाइट के जरिए नेविगेशन उपकरण की जांच।
3. चेकइन व चेकआउट पर ई गेट स्थापित, निगरानी तंत्र की हो चुकी जांच।
4. विमानों की लैंडिंग के लिए ग्लाइड पाथ एंटीना स्थापित हो चुका है।
5. मौसम का पूर्वानुमान लगाने के लिए सिस्टम लगा दिया गया है।
6. एयरपोर्ट और फ्लाइट में कैटरिंग के लिए एमओयू हो चुका है।
7. 34 किलोमीटर भूमिगत फ्यूल लाइन बिछाने के लिए बीपीसीएल के साथ एमओयू हो चुका है।
8. ग्राउंड हैंडलिंग सुविधाओं के लिए बर्ड ग्रुप से समझौता हुआ।
9. विश्वस्तरीय खानपान की सुविधाओं के लिए समझौता हो चुका है।

पहले दिन से 65 विमान उड़ेंगे

बीते दिनों हुई नायल की बोर्ड बैठक में कंपनी ने एयरपोर्ट के प्रथम चरण का कार्य 80 प्रतिशत तक पूरा होने का दावा किया था। दावा किया था कि एयरपोर्ट का संचालन सितंबर 2024 को शुरू हो जाएगा। पहले दिन से एयरपोर्ट से 65 फ्लाइट उड़ान भरेंगी। 

नोएडा इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड (नायल) के सीईओ  अरुणवीर सिंह ने कहा, 'कंपनी पर 29 सितंबर तक कार्य पूरा करने के लिए जोर डाला जा रहा है। कार्य में देरी पर प्रतिदिन कंपनी पर दस लाख का जुर्माना लगाया जाएगा। एयरपोर्ट पर कार्गो और होटल के बिना नक्शा पास कराये शुरू किए निर्माण को रोकने के लिए नोटिस जारी किया है।'

होटल और कार्गो के निर्माण को रोकने के लिए नोटिस

नायल के सीईओ ने बताया कि एयरपोर्ट विकसित कर रही कंपनी पैसा अर्जित करने के लिए कमर्शियल बिल्डिंग के निर्माण पर जोर दे रही है। कंपनी ने कार्गों हब और एक होटल का निर्माण शुरू कर दिया है। इनके निर्माण से पहले कंपनी को नायल से नक्शा पास कराना चाहिए था। कंपनी 80 एकड़ में कार्गो हब का निर्माण कर रही है, जिसे अक्तूबर तक पूरा करने का दावा किया है। सोमवार को नायल ने विकासकर्ता कंपनी को बिना नक्शा पास कराये शुरू हुए होटल व कार्गो के निर्माण को रोकने के लिए नोटिस जारी किया है। ऐसे न करने पर कंपनी के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

कार्रवाई के लिए शासन को पत्र भेजा

एयरपोर्ट शुरू करने की समय सीमा बढ़ाने पर नायल ने कार्रवाई की तैयारी कर ली है। नायल ने 29 सितंबर के बाद प्रतिदिन दस लाख रुपये जुर्माना लगाने के लिए शासन को पत्र भेजा है। हालांकि अनुबंध के मुताबिक कंपनी को समय सीमा तक कार्य पूरा न करने पर तीन माह (90 दिन) का ग्रेस पीरियड देने का प्रावधान है, लेकिन नायल ने पहले दिन से ही कार्रवाई की तैयारी की है।