ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRनोएडा एयरपोर्ट के पास बनेगी दुबई जैसी फिनटेक सिटी, ऐसी कंपनियों को जमीन; जल्द तैयार होगी DPR 

नोएडा एयरपोर्ट के पास बनेगी दुबई जैसी फिनटेक सिटी, ऐसी कंपनियों को जमीन; जल्द तैयार होगी DPR 

नोएडा एयरपोर्ट के पास सेक्टर-13 में सिंगापुर, दुबई और चीन की तर्ज पर फिनटेक सिटी विकसित होगी। परियोजना विकसित करने के लिए तकनीकी बिड में पांच कंपनियां खरी उतरी हैं। जिसमें तीन विदेशी हैं।

नोएडा एयरपोर्ट के पास बनेगी दुबई जैसी फिनटेक सिटी, ऐसी कंपनियों को जमीन; जल्द तैयार होगी DPR 
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,ग्रेटर नोएडाFri, 23 Feb 2024 06:33 AM
ऐप पर पढ़ें

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पास सेक्टर-13 में सिंगापुर, दुबई और चीन की तर्ज पर फिनटेक सिटी विकसित होगी। परियोजना विकसित करने के लिए तकनीकी बिड में पांच कंपनियां खरी उतरी हैं। इनमें तीन कंपनियां विदेशी और दो स्वदेशी हैं। कंपनी के चयन होने के बाद तीन माह में इसकी विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार होगी।

यमुना प्राधिकरण के अनुसार, उत्तर भारत में विकसित की जा रही पहली फिनटेक सिटी को बसाने के लिए जोन्स लैंग लासाल प्रॉपर्टी कंसल्टेंट्स, सीबीआरई दक्षिण एशिया, वॉयंट्स सोल्यूशंस, ट्रैकटेबेल इंजीनियरिंग, और कुशमन एंड वेकफील्ड इंडिया कंपनियों ने आवेदन किया था। सलाहकार कंपनी के चयन के लिए निकाली गई आरएफपी (रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल) में पांचों कंपनियों की तकनीकी बिड खोली गई। इसमें पांचों पास हो गई हैं। फिनटेक सिटी पहले चरण में 100 एकड़ भूमि में विकसित होगी, इसके बाद 250 एकड़ तक इसका विस्तार होगा।

अगले सप्ताह वित्तीय बिड खुलेगी 

प्राधिकरण अगले सप्ताह तक वित्तीय बिड खोलेगा। इसके बाद फिजिबिलिटी स्टडी कम डीपीआर तैयार होगी। डीपीआर के लिए 60 से 90 दिन का समय दिया जाएगा। इस महत्वपूर्ण परियोजना को धरातल पर उतारने के लिए सिंगापुर, दुबई सहित कई अन्य देशों और गुजरात में स्थित गिफ्ट सिटी का अध्ययन किया गया है।

आर्थिक गतिविधियों का केंद्र होगी 

फिनटेक के अंतर्गत प्रौद्योगिकी, सॉफ्टवेयर और इंटरनेट के उपयोग के माध्यम से ग्राहकों को बैंकिंग और बीमा जैसी वित्तीय सेवाएं देने वाली कंपनियां आती हैं। फिनटेक सिटी आर्थिक गतिविधियों का केंद्र बनेगी। सिंगापुर और दुबई की तरह यहां ब्लॉक चेन, पेमेंट, एक्सचेंज, रिसर्च, डिजिटल मनी, ऑनलाइन बैंकिंग, निवेश और क्राउड फंडिंग जैसी गतिविधियां होंगी। इसके लिए कंपनियों को भूखंड आवंटित किए जाएंगे। यहां इंटरनेशनल मॉनिटरिंग फंड, वर्ल्ड बैंक, स्टॉक एक्सचेंज जैसे बड़े संस्थानों को लाया जाएगा। अंतरराष्ट्रीय स्तर के आयोजन के लिए यहां ऑडिटोरियम और प्रदर्शनी हॉल आदि बनेंगे।

कंपनियों को कई सुविधाएं मिलेंगी 

फिनटेक सिटी में निवेश करने वाली कंपनियों को कई विशेष सुविधाएं मिलेंगी। उन्हें नए उत्पाद लॉन्च करने के लिए अलग से लाइसेंस लेने की जरूरत नहीं होगी। कंपनियों को एफडीआई (प्रत्यक्ष विदेशी निवेशी) और नई औद्योगिक प्रोत्साहन नीति के तहत लैंड सब्सिडी, टैक्स, कस्टम आदि में छूट प्रदान की जाएगी।

फिनटेक के अंतर्गत वह कंपनियां आती हैं, जो प्रौद्योगिकी, सॉफ्टवेयर और इंटरनेट के उपयोग के माध्यम से ग्राहकों को बैंकिंग और बीमा जैसी वित्तीय सेवाएं प्रदान करती हैं। इस फिनटेक सिटी में ऑनलाइन बैंकिंग, निवेश, रिसर्च, क्राउड फंडिंग, डिजिटल मनी, स्टॉक एक्सचेंज, बीमा कंपनियां, शॉपिंग सेंटर, ई-पेमेंट गेटवे प्लेटफॉर्म जैसी निजी व सार्वजनिक क्षेत्र की संस्थाओं को भूखंड आवंटित किए जाएंगे। यहां निवेश करने वाली कंपनियों को नई औद्योगिक नीति का लाभ मिलेगा।

अलग से नहीं लेना होगा लाइसेंस

फिनटेक सिटी में निवेश करने वाली कंपनी को अपने नए उत्पाद लांच करने के लिए अलग से लाइसेंस लेने की जरुरत नहीं होगी। निवेश करने वाली कंपनियों को एफडीआई (प्रत्यक्ष विदेशी निवेशी) और नई औद्योगिक प्रोत्साहन नीति के तहत लैंड सब्सिडी, टैक्स, कस्टम आदि में छूट प्रदान की जाएगी।

यीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अरुणवीर सिंह ने कहा, 'फिनटेक सिटी को बसाने के लिए चार मॉडल पर विचार किया जा रहा है। एकल या एकाधिक आवंटियों को भूमि देने और सार्वजनिक निजी भागीदारी मॉडल या हाइब्रिड जैसे वित्तीय माडॅल पर विकास किया जा सकता है।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें