DA Image
29 अक्तूबर, 2020|7:32|IST

अगली स्टोरी

निकिता तोमर के पिता ने बताया, 2018 में तौसिफ के खिलाफ क्यों लिया था केस वापस?

फरीदाबाद के बल्लभगढ़ में हुए निकिता हत्याकांड को लेकर मृतका के पिता मूलचंद तोमर ने गुरुवार को कहा कि मैं चाहता हूं कि आरोपी को जल्द से जल्द फांसी देकर इस केस का निपटारा किया जाए। मुझे हमारे देश की न्यायिक प्रणाली पर पूरा भरोसा है, लेकिन यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर है कि कोर्ट में इस मामले को किस तरह से पेश किया जाता है। 

निकिता के पिता ने कहा कि 2018 में जो घटना हुई थी उस समय हमने FIR भी करवाई थी और एक्शन भी लिया गया था, लेकिन तब हमने लोक-लाज और उनका पॉलिटिकल बैकग्राउंड देखकर केस वापस ले लिया था। उस समय उनकी तरफ से हमें आश्वासन भी मिला था कि आगे कभी कोई परेशानी नहीं होगी। अब मुझे लगता है कि उस समय उनकी बात का विश्वास कर मैंने गलती कर दी थी।

उन्होंने कहा कि अब घटना की सीसीटीवी फुटेज है, आरोपियों ने अपना अपराध कबूल कर लिया है, इसलिए इस केस में देरी का कोई कारण नहीं है। इसके साथ ही मैं सरकार और सभी से विनती करता हूं कि कुछ ऐसा कानून बनाया जाए कि अगर सबूत पहले ही मौजूद हों तो अपराधियों को जल्द से जल्द फांसी दी जाए।

वहीं, हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने गुरुवार को कहा कि निकिता हत्याकांड फास्ट-ट्रैक कोर्ट में चलाया जाएगा ताकि दिन-प्रतिदिन की सुनवाई हो सके और आरोपी को जल्द सजा मिल सके।

फरीदाबाद पुलिस ने निकिता के परिवार को दिए गनर, 24 घंटे करेंगे सुरक्षा

बता दें कि, पुलिस ने इस मामले में इस हत्याकांड में एक और आरोपी सहित अब तक कुल तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। तीसरे आरोपी अजरुद्दीन को बुधवार रात नूंह से गिरफ्तार किया गया था। अजरुद्दीन ने ही इस हत्याकांड के मुख्य आरोपी तौसिफ को हथियार मुहैया कराए थे। पुलिस ने मुख्य आरोपी तौसीफ की दो दिन की रिमांड पूरी होने पर गुरुवार को अदालत में पेश किया था, जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। वहीं, अजरुद्दीन को भी अदालत में पेश किया गया और उसे भी जेल भेज दिया गया। तौसिफ के साथी रेहान की रिमांड शुक्रवार को पूरी होगी और उसे कल अदालत में पेश किया जाएगा।

कॉलेज ने लौटते वक्त हुई थी हत्या

गौरतलब है कि हरियाणा के फरीदाबाद में सोमवार को दिनदहाड़े कार सवार दो बदमाशों ने मिल्क प्लांट रोड पर अग्रवाल कॉलेज से परीक्षा देकर घर लौट रही बी.कॉम फाइनल ईयर की छात्रा निकिता तोमर (20 वर्षीय) की गोली मारकर हत्या कर दी थी। लहूलुहान हालत में छात्रा को पास के निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। हत्या के बाद आरोपी भागने में सफल रहे। हत्या की यह वारदात घटनास्थल के पास लगे एक सीसीटीवी में कैद हो गई। घटना का वीडियो खूब वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो के अनुसार, दो लड़के छात्रा को जबरन कार में खींचने की कोशिश करते दिख रहे हैं, लेकिन जब वह कामयाब नहीं हो पाए तो उन्होंने रिवॉल्वर निकालकर छात्रा को गोली मार दी।

रसूखदार परिवार से संबंध रखता है तौसिफ

मुख्य आरोपी तौसिफ राजनीतिक रसूखदार परिवार से संबंध रखता है। तौसिफ के दादा कबीर अहमद विधायक रह चुके हैं, जबकि चाचा खुर्शीद अहमद हरियाणा के पूर्व मंत्री रहे हैं। वहीं, एक अन्य रिश्तेदार (रिश्ते में भाई) आफताब अहमद वर्तमान में कांग्रेस के नूंह (मेवात) से विधायक हैं। 21 वर्षीय तौसिफ फिजियो थेरेपिस्ट का कोर्स कर रहा है जोकि थर्ड ईयर में है। वारदात में शामिल दूसरा आरोपी रेहान निवासी रेवासन जिला नूंह का रहने वाला है और वह तौसिफ का दोस्त है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nikita Tomar s father tells why was the case taken back against Tauseef in 2018 Know the reason