ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRचीन से फंड लेने के आरोप से घिरे NewsClick के खुलेंगे राज, HR हेड ने सरकारी गवाह बनने की लगाई गुहार

चीन से फंड लेने के आरोप से घिरे NewsClick के खुलेंगे राज, HR हेड ने सरकारी गवाह बनने की लगाई गुहार

अमित चक्रवर्ती ने  इसके अलावा दिल्ली की अदालत का दरवाजा खटखटाया है। चीनी एजेंटों से पैसा लेकर देश के खिलाफ प्रोपोगेंडा फैलाने के आरोप से घिरे न्यूजक्लिक पर देश की अखंडता को नुकसान पहुंचाने का आरोप है

चीन से फंड लेने के आरोप से घिरे NewsClick के खुलेंगे राज, HR हेड ने सरकारी गवाह बनने की लगाई गुहार
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 25 Dec 2023 01:37 PM
ऐप पर पढ़ें

विदेशी फंडिंग के मामले में घिरे न्यूज पोर्टल  NewsClick  के एचआर प्रमुख अमित चक्रवर्ती सरकारी गवाह बनना चाहते है्ं। सोमवार को अमित चक्रवर्ती ने  इसके अलावा दिल्ली की एक अदालत का दरवाजा खटखटाया है। चीनी एजेंटों से पैसा लेकर देश के खिलाफ प्रोपोगेंडा फैलाने के आरोप से घिरे न्यूजक्लिक पर देश की अखंडता को नुकसान पहुंचाने का आरोप है। अब अगर अदालत अमित चक्रवर्ती को सरकारी गवाह बनने की इजाजत दे देती है तब न्यूजक्लिक से जुड़े कई अहम रहस्यों पर से पर्दा भी हट सकता है।

इससे पहले दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को आरोपियों की 60 दिनों की न्यायिक हिरासत दी थी ताकि अमित चक्रवर्ती और प्रबीर पुरकायस्थ के खिलाफ जांच को आगे बढ़ाया जा सके। प्रबीर पुरकायस्थ न्यूजक्लिक के फाउंडर हैं और अमित चक्रवर्ती पोर्टल के एचआर हेड। दोनों को अक्टूबर के महीने में गिरफ्तार किया गया था। इनकी गिरफ्तारी से पहले दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा ने इनसे जुड़े कई ठिकानों पर छापेमारी भी की थी। 

इन दोनों पर UAPA के तहत केस दर्ज किया गया है। प्रवर्तन निदेशालय ने भी न्यूज क्लिक से जुड़े ठिकानों पर छापेमारी की थी। CBI ने FCRA के तहत भी केस दर्ज किया है। दरअसल न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया था कि न्यूजक्लिक को अमेरिकी करोड़पति नेविल रॉय सिंघम से फंड मिलते हैं। रिपोर्ट में कहा गया था कि चीन की कम्यूनिस्ट पार्टी के साथ मिलकर सिंघम भारत के खिलाफ प्रोपोगेंडा फैलाने में संलिप्त है। रिपोर्ट में कहा गया है कि करोड़पति अमेरिकी से न्यूजक्लिक को 38 करोड़ रुपये मिले थे।

कुछ मीडिया रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल इस मामले में कुछ पत्रकारों को भी सरकारी गवाह बनाना चाहती है। पुलिस प्रबीर पुरकायस्थ तथा अमित चक्रवर्ती के अलावा कुछ अन्य लोगों के खिलाफ भी सबूत जुटाने में लगी हुई है। अक्टूबर के महीने में जांच टीम ने सैदुलाजाब स्थित न्यूजक्लिक के कार्यालय समेत कई अन्य ठिकानों पर छापेमारी की थी। कई अन्य पत्रकारों तथा इन सभी से जुड़े 100 से अधिक ठिकानों पर पांच शहरों में ताबड़तोड़ छापेमारी हुई थी। जांच टीम ने इस दौरान 37 लोगों को हिरासत में लेकर गहन पूछताछ की थी।

Advertisement