ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRनई चौकियां और 15 किलोमीटर तक दिल्ली पुलिस की गश्त, मुनक नहर की कैसे हो रही पहरेदारी

नई चौकियां और 15 किलोमीटर तक दिल्ली पुलिस की गश्त, मुनक नहर की कैसे हो रही पहरेदारी

बता दें कि पुलिस थानों के दलों को मुनक नहर और उसके आस-पास के इलाकों में गश्त का काम सौंपा गया है। अधिकारी ने कहा, "पुलिस कर्मियों को किसी को भी नहर से टैंकर में पानी लेने से रोकने के लिए कहा गया है।

नई चौकियां और 15 किलोमीटर तक दिल्ली पुलिस की गश्त, मुनक नहर की कैसे हो रही पहरेदारी
ganga canal
Nishant Nandanभाषा,नई दिल्लीThu, 13 Jun 2024 03:30 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में जल संकट गहराने के बाद पुलिस ने बृहस्पतिवार को मुनक नहर क्षेत्र में टैंकर माफिया की गतिविधियां रोकने के लिए गश्त शुरू की और दिल्ली की मंत्री आतिशी ने दक्षिण दिल्ली के निवासियों को पानी की आपूर्ति करने वाले पाइपलाइन नेटवर्क का निरीक्षण किया। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पुलिस दल ने चौकियां स्थापित की हैं और राष्ट्रीय राजधानी को पानी की आपूर्ति करने वाली नहर के, हरियाणा की सीमाओं पर 15 किलोमीटर के हिस्से पर गश्त शुरू कर दी है। यह नहर बवाना से दिल्ली में प्रवेश करती है और हैदरपुर शोधन संयंत्र तक पहुंचती है।

बवाना, नरेला औद्योगिक क्षेत्र, शाहबाद डेयरी और समयपुर बादली पुलिस थानों के दलों को मुनक नहर और उसके आस-पास के इलाकों में गश्त का काम सौंपा गया है। अधिकारी ने कहा, "पुलिस कर्मियों को किसी को भी नहर से टैंकर में पानी लेने से रोकने के लिए कहा गया है।" उपराज्यपाल वी के सक्सेना ने बुधवार को दिल्ली पुलिस प्रमुख को पानी की चोरी रोकने के लिए मुनक नहर पर कड़ी निगरानी सुनिश्चित करने का निर्देश दिया था और एक सप्ताह के भीतर कार्रवाई संबंधी रिपोर्ट मांगी थी।

इस बीच दिल्ली की जल मंत्री आतिशी ने दिल्ली जल बोर्ड और राजस्व विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ दक्षिणी दिल्ली मेन्स पाइपलाइन नेटवर्क का निरीक्षण किया। यह पाइपलाइन नेटवर्क सोनिया विहार जल उपचार संयंत्र से दक्षिणी दिल्ली के लाखों लोगों को पानी की आपूर्ति करता है।

आतिशी ने सोशल मीडिया मंच 'एक्स' पर कहा, "सोनिया विहार जल शोधन संयंत्र (डब्ल्यूटीपी) से पूरी दक्षिण दिल्ली के लाखों लोगों तक पानी पहुंचाने वाली दक्षिणी दिल्ली मेन्स पाइपलाइन नेटवर्क का जलबोर्ड और राजस्व विभाग के उच्चाधिकारियों के साथ निरीक्षण किया।’’

दिल्ली सरकार शहर भर में अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (एडीएम) और उप-विभागीय मजिस्ट्रेट (एसडीएम) द्वारा गश्त के जरिए सुनिश्चित कर रही है कि, मुख्य पाइपलाइन से लीकेज के कारण एक बूंद पानी भी बर्बाद न हो।

जल संकट के दौरान जब दिल्ली को कम पानी मिल रहा है डब्ल्यूटीपी का उत्पादन घट गया है। ऐसे में पानी की बर्बादी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।" निरीक्षण के दौरान आतिशी ने 'पीटीआई वीडियो' को बताया कि दिल्ली में पानी का उत्पादन 40 मिलियन गैलेन डेली (एमजीडी) कम हो गया है और जब तक हरियाणा यमुना के माध्यम से शहर के लिए अधिक पानी नहीं छोड़ता, तब तक कमी को पूरा नहीं किया जा सकता है।