ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली में NEET परीक्षा में धांधली गैंग का भांडाफोड़, 2 MBBS छात्र के साथ चार गिरफ्तार

दिल्ली में NEET परीक्षा में धांधली गैंग का भांडाफोड़, 2 MBBS छात्र के साथ चार गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने नीट की परीक्षा में धांधली कराने वाले गैंग का भांडाफोड़ कर दिया है। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने दो एमबीबीएस छात्रों के साथ ही चार लोगों को गिरफ्तार किया है। ऐसे किया खुलासा।

दिल्ली में NEET परीक्षा में धांधली गैंग का भांडाफोड़, 2 MBBS छात्र के साथ चार गिरफ्तार
Mohammad Azamलाइव हिन्दुस्तान,दिल्लीSat, 18 May 2024 09:35 PM
ऐप पर पढ़ें

5 मई को दिल्ली में राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) की परीक्षा का हुई थी। इस परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र हल करने वाला गिरोह चलाने के आरोप में एमबीबीएस के दो छात्रों सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के मुताबिक यह मामला तब सामने आया, जब तिलक मार्ग इलाके में स्थित भारतीय विद्या भवन के मेहता विद्यालय में नीट परीक्षा के दौरान एक छात्र के बायोमेट्रिक आंकड़े मेल नहीं खाए। नई दिल्ली के पुलिस उपायुक्त देवेश कुमार महला ने कहा कि दो फर्जी छात्र सुमित मंडोलिया और कृष्ण केसरवानी को परीक्षा केंद्र से पकड़ा गया।

पुलिस उपायुक्त के मुताबिक, अपराध की गंभीरता को देखते हुए मामला नई दिल्ली जिले के स्पेशल सेल को ट्रांसफर कर दिया गया और जांच करने के लिए निरीक्षक संजय कुमार गुप्ता के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया। पूछताछ के दौरान सुमित मंडोलिया और कृष्ण केसरवानी ने अपने आकाओं - प्रभात कुमार (27) और किशोर लाल (37) के नामों का खुलासा किया, जिन्हें शुक्रवार को नोएडा के एक होटल से पकड़ा गया था। सुमित और कृष्ण दोनों ही एमबीबीएस के छात्र हैं।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि प्रभात कुमार और किशोरी लाल क्रमशः राजस्थान और बिहार के रहने वाले हैं। प्रभात और किशोरी दोनों ही मेडिकल कॉलेज प्रवेश सलाहकार के रूप में काम करते हैं। ये लोग नीट परीक्षा के लिए फर्जी छात्र उपलब्ध कराने के लिए उम्मीदवारों से 20 से 25 लाख रुपये की राशि लेते थे। पुलिस अधिकारी ने कहा कि वे आवेदन फॉर्म पर चिपकाने के लिए डिजिटल रूप से एक और फोटो बनाने के लिए फर्जी और मूल छात्रों की तस्वीरों को भी मिलाते थे। इससे उन्हें परीक्षकों को गुमराह करने में मदद मिलती थी। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि मंडोलिया और केसरवानी क्रमश: राजस्थान और उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं।

मिली जानकारी के अनुसार, दोनों अलग-अलग कॉलेजों से एमबीबीएस के छात्र हैं। उन्होंने बताया कि मंडोलिया पश्चिम बंगाल के एक मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस द्वितीय वर्ष का छात्र है, जबकि केसरवानी उत्तराखंड के एक मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस प्रथम वर्ष का छात्र है। पुलिस ने उनके कब्जे से चार मोबाइल फोन और एक कार बरामद की है। पुलिस ने कहा कि पिछली परीक्षाओं में उनकी संलिप्तता जानने के लिए आरोपियों से आगे पूछताछ की गई। मामले की विस्तृत जांच चल रही है।