DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में नालों की सफाई के लिए आपातकालीन प्रयासों की जरूरत : हाईकोर्ट

Delhi High court

दिल्ली हाईकोर्ट ने सोमवार को कहा कि नालों की सफाई के लिए आपातकालीन प्रयासों की जरूरत है ताकि बारिश और सीवेज का पानी सड़कों पर जमा नहीं हो पाए।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी. हरिशंकर की बैंच ने कहा कि सीवेज और बारिश के पानी से निपटने की आवश्यकता है। बैंच ने संबंधित अधिकारियों को दोनों की निकासी के लिए कार्य योजना तैयार करने का निर्देश दिया।

कोर्ट ने दिल्ली जल बोर्ड के प्रमुख कार्यकारी अधिकारी के नेतृत्व में एक समिति का गठन किया जो राष्ट्रीय राजधानी में सीवेज और बारिश के पानी की निकासी में आने वाली परेशानियों पर गौर करेगी।

दिल्ली के गांवों का लाल डोरा बढ़ाने की मांग करते हुए भाजपा सांसद ने लोकसभा में कही ये बात

बैंच ने उन खबरों पर संज्ञान लेते हुए समिति का गठन किया जिनमें दावा किया गया कि शहर की ड्रेनेज प्रणाली पुरानी है और इसे दुरुस्त करने की जरूरत है।

बैंच ने गत 26 जुलाई को नगर निगमों और अन्य निकायों से इस तरह के सभी नालों का मैप तैयार करने को कहा था।

कोर्ट दिल्ली में दस से 13 जुलाई के बीच भारी बारिश के बाद सड़कों पर जलभराव और यातायात में बाधा के बारे में खबरों का संज्ञान लेते हुए उसे जनहित याचिका में तब्दील करके उस पर सुनवाई कर रही थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Need of emergency efforts to clean the drains in Delhi : High Court