ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRNCR नई रफ्तार को तैयार, नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच नई सड़क का काम शुरू, यमुना पुस्ते पर बनेगा एक्सप्रेसवे

NCR नई रफ्तार को तैयार, नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच नई सड़क का काम शुरू, यमुना पुस्ते पर बनेगा एक्सप्रेसवे

हिंडन पुल के जरिये नोएडा को ग्रेटर नोएडा से जोड़ने को नई सड़क बनाने का काम शनिवार से शुरू हो गया। यह नई कनेक्टिविटी नोएडा के सेक्टर-146 के सामने से शुरू होकर ग्रेटर नोएडा के एलजी गोलचक्कर तक होगी।

NCR नई रफ्तार को तैयार, नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच नई सड़क का काम शुरू, यमुना पुस्ते पर बनेगा एक्सप्रेसवे
Praveen Sharmaनोएडा। हिन्दुस्तानSun, 11 Feb 2024 08:12 AM
ऐप पर पढ़ें

नोएडा और ग्रेटर नोएडा में रहने वालों के लिए गुड न्यूज है। हिंडन पुल के जरिये नोएडा को ग्रेटर नोएडा से जोड़ने के लिए नई सड़क बनाने का काम शनिवार से शुरू हो गया। यह नई कनेक्टिविटी नोएडा के सेक्टर-146 के सामने से शुरू होकर ग्रेटर नोएडा के एलजी गोलचक्कर तक होगी। यह सड़क बनने में करीब एक साल का समय लगेगा। इसके बनने से नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर वाहनों के दबाव में कमी आएगी। इसके अलावा कलेक्ट्रेट, एलजी गोलचक्कर की ओर आने-जाने वालों को लंबा चक्कर भी नहीं काटना पड़ेगा।

शनिवार को हुए भूमि पूजन के मौके पर नोएडा प्राधिकरण के वर्क सर्किल-10 के वरिष्ठ प्रबंधक केवी सिंह, जूनियर इंजीनियर सिद्वार्थ नागर समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे। अधिकारियों ने बताया कि सेक्टर-146 के सामने हिंडन पुल से नोएडा को जोड़ने के लिए करीब 800 मीटर लंबी एप्रोच रोड बनाई जाएगी। यह 45 मीटर चौड़ी सड़क होगी। इसके दोनों ओर 7.5 मीटर चौड़ाई में ग्रीन बेल्ट तैयार की जाएगी। सड़क निर्माण पर करीब 43 करोड़ 5 लाख रुपये का खर्च होंगे। इसका निर्माण करने का जिम्मा सुनील गर्ग कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया गया है।

दिल्ली-नोएडा को जोड़ने वाली 4 सड़कों के रीडिवेलपमेंट को मंजूरी

यह सड़क ग्रेटर नोएडा के एलजी चौक से सीधे जुड़ेगी। ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर सेक्टर-145 नलगढ़ा गांव के सामने कट के जरिए हिंडन पुल तक पहुंच सकेंगे। प्राधिकरण अधिकारियों ने बताया कि ग्रेटर नोएडा की तरफ सड़क बनाने के लिए टेंडर प्रक्रिया चल रही है। इसके अलावा हिंडन पर पुल बनाने का काम सेतु निगम कर रहा है। पुल का कुछ हिस्सा बन चुका है। बाकी हिस्सा जमीन नहीं मिलने के कारण फंसा हुआ था, जिसको अब दूर कर लिया गया है।

अधिकारियों ने बताया कि इस कनेक्टिविटी के तैयार होने से नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेसवे पर जाम में कमी आएगी। अभी व्यस्त समय में एक्सप्रेसवे पर वाहनों की कतार लग जाती है। यहां पर वाहनों का दबाव बढ़ता जा रहा है। रोजाना 2 से 3 लाख वाहन निकल रहे हैं। इसके अलावा पूरा ट्रैफिक नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेसवे से परी चौक की ओर पहुंचता है। इसके बाद परी चौक से एलजी गोलचक्कर, कलेक्ट्रेट, विकास भवन, सूरजपुर की ओर वाहन जाते हैं। इससे लोगों का अधिक समय लगता है और लंबा चक्कर भी काटना पड़ता है।

जमीन न मिलने से हुई देरी : यहां पर कई साल से जमीन का विवाद बना हुआ था। इससे वर्ष 2019 से काम बंद पड़ा था। इसके साथ ही एप्रोच रोड का काम भी नहीं शुरू हो पाया था। इस साल यहां जमीन का विवाद सुलझाने के अलावा प्राधिकरण ने डूब क्षेत्र में मुआवजा दर भी बढ़ा दी थीं। किसान यहां पर डूब क्षेत्र की दरों पर मुआवजे के लिए तैयार नहीं थे। इसलिए प्राधिकरण ने सड़क बनाने के लिए जमीन लेने को नई दरों की मंजूरी 23 अप्रैल 2023 को बोर्ड से ली थी। डूब क्षेत्र जमीन की दरें 2014 में 3500 रुपये वर्ग मीटर निर्धारित थीं। नई दरें सेक्टर के हिसाब से 5326 रुपये की गई।

यमुना पुस्ते पर एक्सप्रेसवे बनेगा

नई सड़क के लिए यमुना पुस्ते पर एक्सप्रेसवे बनाने की तैयारी है। एक सप्ताह पहले नोएडा प्राधिकरण ने एक्सप्रेसवे बनाने की फिजिबिलिटी रिपोर्ट एनएचएआई को भेज दी थी। अब एनएचएआई की टीम मौके पर स्थिति देखेगी। रिपोर्ट में यह सामने आया था कि सेक्टर-94 से यमुना पुश्ता के साथ ग्रेटर नोएडा तक एक्सप्रेसवे बनाने के लिए जमीन उपलब्ध है।

जेवर एयरपोर्ट बनने से बढ़ेगा ट्रैफिक का दबाव

जेवर में इंटरनेशनल एयरपोर्ट शुरू होने से ट्रैफिक का दबाव और बढ़ जाएगा। ऐसे में अभी बने नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेसवे पर जाम की समस्या होगी। इसको देखते हुए इसी के बराबर नए एक्सप्रेसवे की जरूरत पड़ेगी। इसको लेकर संबंधित विभागों ने तैयारी शुरू कर दी है। अभी एक्सप्रेसवे के अलावा ग्रेनो वेस्ट की तरफ जाने के लिए 130 मीटर रोड और बिसरख रास्ता भी है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें