ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR10 मिनट में दुहाई से मेरठ, 160KM की स्पीड से ट्रैक पर दौड़ी नमो भारत ट्रेन; आप कब करेंगे सफर?

10 मिनट में दुहाई से मेरठ, 160KM की स्पीड से ट्रैक पर दौड़ी नमो भारत ट्रेन; आप कब करेंगे सफर?

साहिबाबाद से मेरठ साउथ तक नमो भारत रैपिड रेल दौड़ाने की तैयारी तेज हो गई है। दुहाई से मेरठ साउथ के बीच लगभग 160 किलोमीटर की रफ्तार से ट्रेन का ट्रायल किया गया, जो सफल रहा। जल्द ही इसका संचालन होगा।

10 मिनट में दुहाई से मेरठ, 160KM की स्पीड से ट्रैक पर दौड़ी नमो भारत ट्रेन; आप कब करेंगे सफर?
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,मेरठ गाजियाबादSat, 03 Feb 2024 06:23 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल कॉरिडोर के तहत अब साहिबाबाद से मेरठ साउथ (परतापुर) तक नमो भारत ट्रेन को दौड़ाने की तैयारी तेज हो गई है। इसके तहत ही एनसीआरटीसी की ओर से दुहाई से मेरठ साउथ के बीच करीब 160 किलोमीटर की रफ्तार से ट्रेन का ट्रायल किया गया। दावा है कि करीब 10 मिनट में ही ट्रेन दुहाई से मेरठ साउथ पहुंच गई। अब फाइनल ट्रायल की तैयारी की जा रही है।

दिल्ली-मेरठ रैपिड कॉरिडोर पर वर्तमान में साहिबाबाद से दुहाई और दुहाई से साहिबाबाद के बीच ही नमो भारत ट्रेन का संचालन किया जा रहा है। अक्तूबर-2023 में इस कॉरिडोर के शुभारंभ के बाद मेरठ की ओर से मेरठ साउथ तक के दूसरे कॉरिडोर पर संचालन की तैयारी तेज कर दी गई। करीब तीन माह में ही दुहाई से मेरठ साउथ तक का काम लगभग फाइनल कर दिसंबर में पहला ट्रायल किया गया। उसके बाद से लगातार ट्रायल किया जा रहा है।

एनसीआरटीसी के अधिकारियों ने जानकारी दी कि पहले 25-30 किलोमीटर की रफ्तार से ट्रायल की शुरुआत की गई थी। इसके बाद धीरे-धीरे स्पीड बढ़ाकर ट्रायल किया जाता रहा। दुहाई से मेरठ साउथ स्टेशन पहुंचने में नमो भारत ट्रेन को मुश्किल से 10 मिनट लगे। पहला स्पीड ट्रायल था, जो सफल रहा। फाइनल स्पीड ट्रायल की तैयारी है, ताकि मार्च में संचालन शुरू हो सके।

साहिबाबाद से मेरठ 42 किलोमीटर का कॉरिडोर

एनसीआरटीसी के अधिकारियों के अनुसार साहिबाबाद से दुहाई 17 किमी का कॉरिडोर है, जिस पर संचालन हो रहा है। अब आगे दुहाई से मेरठ साउथ तक संचालन होने वाला है। इस तरह मेरठ साउथ से साहिबाबाद के बीच कुल 42 किमी का रैपिड कॉरिडोर में संचालन प्रारंभ हो जाएगा। इसके बाद धीरे-धीरे दिल्ली में सराय काले खां की ओर और मेरठ में मोदीपुरम तक का काम होगा। हर हाल में लक्ष्य मार्च-2025 तक प्रोजेक्ट को पूर्ण करने का है। वैसे कोशिश है कि दिसंबर-2024 तक 82 किमी का प्रोजेक्ट पूर्ण कर दिया जाए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें