DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुरुग्राम : नायब तहसीलदार और दो पटवारियों पर केस दर्ज करने के आदेश

court order  symbolic image

गुरुग्राम नगर निगम की करोड़ों रुपये की जमीन फर्जी दस्तावेजों के जरिए राजस्व विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों की मिलीभगत से एक युवक के नाम किए जाने का मामला सामने आया है। इस घपले में अदालत ने राजस्व विभाग के एक नायब तहसीलदार और दो पटवारियों पर रिपोर्ट दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

मार्च 2019 में बलियावास गांव की तीन एकड़ एक कैनाल और 7 मर्ला जमीन नगर निगम की होने के बावजूद उसका मालिकाना हक एक युवक के नाम कर दिया गया था। अधिकारी मंच के आरटीआई एक्टिविस्ट रमेश यादव को इसका पता चला तो उन्होंने नगर निगम कमिश्नर को इसकी शिकायत दी। इसके बाद जिला उपायुक्त ने जांच की। इसमें आरोपी दोषी पाया गया।

इसके बाद रमेश यादव ने इसकी शिकायत सेक्टर-56 थाने में दी गई पर पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। ऐसे में रमेश यादव मामला दर्ज करवाने के लिए कोर्ट में पहुंचे। उन्होंने बताया कि सात सितंबर को आकृति वर्मा की कोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट ने इस मामले पर पुलिस से रिपोर्ट मांगी। पुलिस ने कहा कि हमें शिकायत नगर निगम या फिर जिला उपायुक्त से मिलेगी तभी मामला दर्ज करेंगे। इस पर कोर्ट ने कहा कि यह भ्रष्टाचार का मामला है तो स्पेशल कोर्ट में सुनवाई होगी। इस पर रमेश यादव ने अश्वनी कुमार की स्पेशल कोर्ट में गुहार लगाई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Naib Tehsildar aur do patwariyon par case darj karne ke aadesh