ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRमुंडका अग्निकांड : हादसे से पहले कमरे में चल रही थी 50 लोगों की मीटिंग, दरवाजा बंद होने से अंदर ही फंस गए थे लोग, पीड़ितों ने सुनाई आपबीती

मुंडका अग्निकांड : हादसे से पहले कमरे में चल रही थी 50 लोगों की मीटिंग, दरवाजा बंद होने से अंदर ही फंस गए थे लोग, पीड़ितों ने सुनाई आपबीती

एक दमकल अधिकारी ने बताया कि मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास लगी आग के घटनास्थल पर रेस्क्यू ऑपरेशन अब खत्म हो गया है। उन्होंने दावा किया कि मरने वालों की संख्या 30 हो सकती है।

मुंडका अग्निकांड : हादसे से पहले कमरे में चल रही थी 50 लोगों की मीटिंग, दरवाजा बंद होने से अंदर ही फंस गए थे लोग, पीड़ितों ने सुनाई आपबीती
Praveen Sharmaनई दिल्ली | एएनआईSat, 14 May 2022 01:24 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

दिल्ली में मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास एक चार मंजिला व्यावसायिक इमारत में जिस भीषण आग लगी उस वक्त वहां पर एक कमरे के मीटिंग चल रही थी, जिसमें करीब 50 लोग शामिल थे। मीटिंग के दौरान कमरे का दरवाजा बंद होने के कारण लोग अंदर फंस गए थे। इस अग्निकांड में अब तक 27 लोगों की मौत हो चुकी है। 

जानकारी के अनुसार, एक दमकल अधिकारी ने बताया कि मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास लगी आग के घटनास्थल पर रेस्क्यू ऑपरेशन अब खत्म हो गया है। उन्होंने दावा किया कि मरने वालों की संख्या 30 हो सकती है। आग की घटना में मरने वालों की संख्या आधिकारिक तौर पर 27 हो गई है जबकि 25 शवों की पहचान की जानी बाकी है।

मुंडका अग्निकांड : 24 महिलाओं सहित 29 लोग लापता; देखें मिसिंग लोगों की लिस्ट

शनिवार सुबह सर्च ऑपरेशन के दौरान दमकल अधिकारियों ने कुछ अवशेष बरामद किए, जिससे मृतकों का आंकड़ा बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है। इस बीच, आग की घटना में इमारत से लापता लोगों की संख्या बढ़कर 29 हो गई है, जिनमें 24 महिलाएं और 5 पुरुष थे। 

घटनास्थल पर मौजूद एक अधिकारी ने कहा कि सुबह हमें कुछ और अवशेष मिले हैं, ऐसा लगता है कि 2-3 लोगों के शव हैं। मरने वालों की संख्या 30 तक पहुंच सकती है। इमारत में रखी प्लास्टिक सामग्री के कारण आग तेजी से फैल गई थी। उन्होंने कहा कि आग लगने से पहले वहां 50 लोगों की मीटिंग चल रही थी और दरवाजा बंद होने के कारण लोग अंदर ही फंस गए थे। रेस्क्यू का काम खत्म हो गया है और हम इसे बंद कर रहे हैं।

इससे पहले आज वेस्ट दिल्ली की डीएम कीर्ति गर्ग ने एडीएम धर्मेंद्र कुमार के साथ घटनास्थल का दौरा किया। एडीएम ने कहा कि मामूली चोटों वाले लोगों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है, जबकि सात अज्ञात शवों को अस्पताल लाया गया। लगभग 80 लोग इमारत में काम कर रहे थे। हमारी प्राथमिकता बचाव अभियान को पूरा करना है।

आग में घायल हुई एक महिला बिमला ने बताया कि हम सब एक मीटिंग में बैठे थे। अचानक बिजली चली गई तो किसी ने कहा कि धुएं का गुबार उठ रहा है। इसके बाद वहां अफरा-तफरी मच गई, खिड़कियां टूट गईं और लोगों ने नीचे उतरने के लिए हम पर रस्सियां ​​फेंकी।

हमें पता ह नहीं चला कब आग लग गई। बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं था। केवल एक ही एक्जिट था, जहां आग लग चुकी थी। हम तीसरी मंजिल पर थे। वहां 250-300 लोग और थे। 

epaper