ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिव्या पाहुजा की खूबसूरती पर दीवाना हो गया था गैंगस्टर संदीप गडोली, पहली मुलाकात की पूरी कहानी

दिव्या पाहुजा की खूबसूरती पर दीवाना हो गया था गैंगस्टर संदीप गडोली, पहली मुलाकात की पूरी कहानी

साल 2015 में दिव्या पाहुजा मनीष खुराना की दोस्त थी। वो उसकी लाइफ से काफी प्रभावित थी। एक दिन गैंगस्टर संदीप गडोली एक पार्टी में शामिल होने गया, वहां मनीष भी आया था, उसके साथ दिव्या भी थी।

दिव्या पाहुजा की खूबसूरती पर दीवाना हो गया था गैंगस्टर संदीप गडोली, पहली मुलाकात की पूरी कहानी
Devesh Mishraलाइव हिंदुस्तान,गुरुग्रामThu, 04 Jan 2024 07:33 PM
ऐप पर पढ़ें

साल 2015... गैंगस्टर संदीप गडोली देश के मोस्ट वांटेड अपराधियों की लिस्ट में शामिल था। गुरुग्राम का रहने वाला संदीप कहीं एक जगह नहीं टिकता था, वो लगातार अपना ठिकाना बदलता रहता था। वो अवैध शराब, वसूली और सट्टेबाजी जैसे कई गैरकानूनी काम करता था। संदीप के कई गुर्गे थे, उनमें से एक था मनीष खुराना। 2 जनवरी को गुरुग्राम के सिटी प्वाइंट होटल में जिस मॉडल (दिव्या पाहुजा) की हत्या हुई वो तब संदीप के गुर्गे मनीष की दोस्त हुआ करती थी। आगे चलकर दिव्या और संदीप में दोस्ती हुई और फिर एक दिन जब संदीप उसके साथ होटल में था तब पुलिस एनकाउंटर में वो मारा गया।

हुआ खूबसूरती पर दीवाना
'आजतक' की रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2015 में दिव्या पाहुजा मनीष खुराना की दोस्त हुआ करती थी। वो उसकी लाइफ से काफी प्रभावित थी। एक दिन गैंगस्टर संदीप गडोली एक पार्टी में शामिल होने गया, वहां गुर्गा मनीष भी आया था, उसके साथ दिव्या भी थी। संदीप और दिव्या की पहली मुलाकात यहीं हुई। दिव्या की खूबसूरती पर संदीप दीवाना हो गया। और इसी पार्टी में दोनों के बीच दोस्ती हो गई।

और फिर एनकाउंटर में हत्या
दोस्ती के बाद संदीप और दिव्या के रिश्ते गहरे होते गए। फरवरी, 2016 में वो दिव्या के साथ मुंबई गया था। वो वहां एक होटल में रुका था कि तभी उसके कमरे में पुलिस आ गई। गुरुग्राम पुलिस की क्राइम ब्रांच को देखकर संदीप के होश उड़ गए। उसने अपनी बंदूक से पुलिस पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं। जवाबी फायरिंग में वो मारा गया। उस वक्त दिव्या पाहुजा उसके साथ थी। 

यह भी पढ़िए: दिव्या की लाश गायब करने वाली कार पंजाब में मिली, और क्या-क्या बरामद?

संदीप गडोली की बहन ने इसे फेक एनकाउंटर बताया। गैंगस्टर के घरवालों ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। मुंबई पुलिस ने एनकाउंटर करने वाले पुलिसकर्मियों को अरेस्ट किया और मामले की जांच शुरू की गई। मुंबई पुलिस ने आरोप लगाया कि दिव्या अपनी लोकेशन लगातार क्राइम ब्रांच को भेज रही थी जिससे कि पुलिस होटल के कमरे तक पहुंची। उसपर मुकदमा हुआ। कोर्ट ने पिछले साल ही उसे जमानत दिया था। जमानत मिलने के करीब पांच महीने बाद उसकी हत्या कर दी गई। उसकी लाश को BMW कार की डिग्गी में डालकर गुरुग्राम से गायब कर दिया गया। पुलिस को अब वो कार पंजाब के पटियाला से मिली है। हालांकि दिव्या की लाश अभी तक गायब है।