DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मॉब लिंचिंग में मारे गए ऑटो ड्राइवर ने मां-पिता से आखिरी शब्द कहे थे 'मुझे बचा लो'

 मोहन गार्डन में शनिवार तड़के इसी खंभे से बांधकर युवकों को पीटा गया। हिन्दुस्तान

राजधानी दिल्ली के मोहन गार्डन इलाके में शनिवार तड़के भीड़ ने चोरी के शक में एक युवक को उसके माता-पिता के सामने ही पीट-पीटकर मार डाला। मृतक की पहचान 25 वर्षीय अविनाश के रूप में हुई है। अविनाश के साथ भीड़ ने सूरज और मुन्नीपाल नाम के युवकों की भी चोरी के शक में पिटाई की, जिनकी हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस मामला दर्ज कर इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों की मदद से भीड़ में शामिल लोगों की पहचान करने में जुटी है। 

अविनाश की मां कुसुम लता ने कहा, "मेरा बेटा उसकी बचाने के लिए हमसे गुहार लगाता रहा, लेकिन भीड़ के सामने हम असहाय हो गए थे। भीड़ की पिटाई से हर बार मेरा बेटा बेहोश हो जाता, तो वो उसके चेहरे पर पानी छिड़कते हैं और होश में आने पर उसे फिर से पीटते थे। जब हमने पुलिस को फोन करने की कोशिश की तो उन्होंने हमारा मोबाइल फोन छीन लिया।" 

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने इस घटना पर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया, लेकिन घटना की जांच कर रहे एक पुलिसकर्मी ने बताया कि इस मामले में एक स्थानीय निवासी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस के अनुसार, अविनाश परिवार के साथ मोहन गार्डन एक साल से किराए पर रह रहा था। उसके परिवार में मां कुसुमलता, पिता विनोद कुमार, पत्नी करिश्मा, बेटा अंशुमन और बेटी श्रृष्टि हैं। अविनाश ऑटो चलाता था। शनिवार तड़के 4.15 बजे अविनाश के फोन से उसके पिता को फोन आया। फोन करने वाले ने बताया कि अविनाश को पीपल चौक अटल मंदिर के पास लोगों ने पकड़ रखा है। 

विनोद और कुसुमलता मौके पर पहुंचे तो देखा कि भीड़ अविनाश, सूरज और मुन्नीपाल को बांधकर डंडों से बुरी तरह से पीट रही है। जब विनोद ने बेटे को बचाने की कोशिश की तो लोगों ने बताया कि उन्हें बैट्री चुराते हुए रंगे हाथ पकड़ा है और इन्हें इसकी सजा मिलेगी। पिता पुलिस को फोन करने लगे तो भीड़ में शामिल एक युवक ने उनका फोन छीन लिया। 

परिजनों ने भागकर जान बचाई : अविनाश के पिता विनोद, मां कुसुम और दो चाचा ने उसे बचाने की कोशिश की तो भीड़ ने उन पर भी हमला कर दिया। चारों ने भागकर किसी तरह जान बचाई। चारों ने घर पहुंचकर पुलिस को घटना की जानकारी दी। इसके बाद सुबह 8.30 बजे चारों दोबारा पीपल चौक पहुंचे। जहां लोगों ने बताया कि तीनों युवकों को पुलिस ले गई। यहां से परिजन थाने पहुंचे, जहां अविनाश की मौत की जानकारी मिली। वहीं, सूरज व मुन्नीपाल गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं।

ऑटो 400 रुपये में बुक किया : परिजनों ने बताया कि सूरज और मुन्नीपाल ने रणहौला से पीपल चौक आने-जाने के लिए अविनाश का ऑटो 400 रुपये में बुक किया था। पीपल चौक पर दोनों ने अविनाश को रुकने के लिए कहा। कुछ देर बाद सूरज व मुन्नीपाल बैटरी लेकर आते दिखे तो एक युवक चोर-चोर चिल्लाने लगा। इस पर भीड़ ने दोनों को दबोच लिया। भीड़ के पीटने पर सूरज और मुन्नीपाल ने कहा कि हमारा बॉस बाहर खड़ा है, जिसके बाद भीड़ ने अविनाश को भी पकड़ लिया।

घटना का वीडियो वायरल

भीड़ ने तीनों को बैट्री हाथ में पकड़वाकर गलियों में घुमाया। इस दौरान भीड़ उन्हें चप्पलों से पीट भी रही थी। भीड़ में शामिल किसी शख्स ने इसका वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।

पुलिस आरोपियों को बचाने का प्रयास कर रही : परिजन

परिजनों ने सामने आने पर कुछ आरोपियों को पहचानने की बात कही है। इसके बावजूद उत्तम नगर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ गैर इरादतन (आईपीसी की धारा 304/323/342/506/34 के तहत) हत्या का केस दर्ज किया है। हालांकि, परिजन इसका विरोध कर रहे हैं। उनका आरोप है कि पुलिस आरोपियों को बचा रही है। भीड़ में शामिल दो-तीन युवक भीड़ को उकसाने के साथ खुद भी तीनों की पिटाई कर रहे थे। ऐसे में आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज होना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mob Lynching : Crowd killed Delhi auto driver in front of his parents