ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRपहली जुलाई से संपत्ति कर भुगतान के लिए चेक लेना बंद कर देगी एमसीडी, क्या है वजह?

पहली जुलाई से संपत्ति कर भुगतान के लिए चेक लेना बंद कर देगी एमसीडी, क्या है वजह?

दिल्ली नगर निगम का कहना है कि वह 1 जुलाई से चेक के माध्यम से संपत्ति कर का भुगतान बंद कर देगा। नगर निकाय ने ऐसा क्यों किया। एमसीडी संपत्ति कर का भुगतान कैसे लेगा जानने के लिए पढ़ें यह रिपोर्ट...

पहली जुलाई से संपत्ति कर भुगतान के लिए चेक लेना बंद कर देगी एमसीडी, क्या है वजह?
Krishna Singhपीटीआई,नई दिल्लीWed, 05 Jun 2024 09:49 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) ने बुधवार को कहा कि वह 1 जुलाई से चेक के माध्यम से संपत्ति कर का भुगतान बंद कर देगा। नगर निकाय ने चेक भुगतान में आ रही चेक बाउंस की समस्या के मद्देनजर यह कदम उठाया है। नगर निकाय ने अपने आधिकारिक बयान में कहा कि अगले महीने से संपत्ति कर का भुगतान यूपीआई, वॉलेट, डिमांड ड्राफ्ट, पे ऑर्डर या ऑनलाइन भुगतान गेटवे के माध्यम से स्वीकार करेगा।

एमसीडी की ओर से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया है कि चेक बाउंस होने से उत्पन्न कानूनी मुद्दों के कारण, इस माध्यम से संपत्ति कर का भुगतान जुलाई से बंद कर दिया जाएगा। एमसीडी ने खाली पड़ी जमीन और इमारतों के मालिकों और कब्जाधारियों से साल 2024-25 के लिए कर का भुगतान करने और 30 जून से पहले एकमुश्त भुगतान पर 10 प्रतिशत की छूट पाने की भी अपील की।

दिल्ली नगर निगम की ओर से जारी बयान के मुताबिक, कर भुगतान के लिए, संपत्ति के मालिक या कब्जाधारी www.mcdonline.nic.in पर लॉग इन कर सकते हैं। दिल्ली नगर निगम (संशोधन) अधिनियम, 2003 की धारा 114 के प्रावधानों के अनुसार, दिल्ली नगर निगम के अधिकार क्षेत्र में आने वाली सभी इमारतें और खाली भूमि संपत्ति कर का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी हैं।