ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRएमसीडी ने बढ़ाई जियोटैगिंग की समयसीमा, अब इस तारीख तक निपटा लें काम; वरना नहीं मिलेगी छूट

एमसीडी ने बढ़ाई जियोटैगिंग की समयसीमा, अब इस तारीख तक निपटा लें काम; वरना नहीं मिलेगी छूट

दिल्ली नगर निगम ने जियोटैगिंग की समयसीमा बढ़ा दी है। अब दिल्लीवालों के निगम ने एक और महीने का समय दे दिया है ताकि उन्हें टैक्स में छूट मिल सके। यह टैक्सपेयर के लिए राहत की बात है।

एमसीडी ने बढ़ाई जियोटैगिंग की समयसीमा, अब इस तारीख तक निपटा लें काम; वरना नहीं मिलेगी छूट
Sneha Baluniलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 31 Jan 2024 01:42 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) ने राजधानी में प्रॉपर्टी जियोटैगिंग की समय सीमा बढ़ा दी है। अब इस प्रक्रिया को 29 फरवरी तक पूरा कर लिया जाएगा। जियोटैगिंग प्रक्रिया को पूरा करने और वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए एकमुश्त अग्रिम कर भुगतान पर 10 प्रतिशत की छूट देने के लिए लोगों के पास अब एक महीने का समय है। इससे पहले पांच दिसंबर को एमसीडी ने घोषणा की थी कि यदि दिल्लीवासी छूट के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो उन्हें अपनी संपत्तियों को अनिवार्य रूप से जियोटैग करना होगा।

समय अवधि बढ़ना कई करदाताओं, खासतौर से आईफोन यूजर्स के लिए राहत की खबर है, चूंकि इन्हें एमसीडी के मोबाइल ऐप में तकनीकी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा था। एमसीडी न पहले 31 जनवरी की डेडलाइन दी थी, लेकिन कई संपत्ति मालिकों ने निगम को तकनीकी समस्याओं के बारे में बताया जिसके बाद जियोटैगिंग के लिए अतिरिक्त समय देने का फैसला किया गया।

जियोटैगिंग एमसीडी द्वारा एडवांस टेक्नोलॉजी का उपयोग करके संपत्ति कर रिकॉर्ड का एक व्यापक डेटाबेस बनाने की कोशिश का हिस्सा है। मेयर शेली ओबेरॉय ने पहले इस परियोजना के महत्व पर जोर दिया था, जिसका लक्ष्य दो महीने के अंदर लगभग 15 लाख संपत्तियों को जियोटैग करना है। एमसीडी ने पहले घोषणा की थी कि सभी 15 लाख संपत्ति मालिकों को 31 जनवरी तक अपनी संपत्तियों को जियो-टैग करना होगा। करदाताओं द्वारा जियोटैगिंग कराने से एमसीडी को व्यक्तिगत संपत्तियों की लोकेशन वाइस पहचान करने में मदद मिलेगी।

क्या होती है जियोटैगिंग

जियोटैगिंग में जियोग्राफिक इंफॉर्मेशन सिस्टम (जीआईएस) का उपयोग करके संपत्तियों को डिजिटल रूप से मैप करना, हर संपत्ति के लिए यूनिक अक्षांश (लैटीट्यूड) और देशांतर (लॉन्गिट्यूड) अंक असाइन करना है। एमसीडी के लिए संपत्तियों की सटीक पहचान और रिकॉर्ड करने, कुशल सेवा वितरण और कर संग्रह सुनिश्चित करने के लिए यह प्रक्रिया महत्वपूर्ण है। संपत्ति मालिकों को एमसीडी का मोबाइल ऐप डाउनलोड करने और अपनी संपत्तियों को जियोटैग करने के निर्देशों का पालन करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। जो लोग नई समय सीमा तक प्रक्रिया को सफलतापूर्वक पूरा कर लेंगे, उन्हें 30 जून 2024 तक एकमुश्त अग्रिम भुगतान करने पर टैक्स में छूट मिलेगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें