अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आठ साल बाद भी बच्चा न होने पर दोस्त का बेटा अगवा किया

 Delhi Police

शादी के आठ साल भी जब बच्चा नहीं हुआ तो एक युवक ने अपने दोस्त के बेटे का अपहरण कर लिया और उसे झारखंड ले गया। पुलिस का दबाव बना तो वह वापस भागकर दिल्ली आ रहा था। पुलिस ने आरोपी को शुक्रवार को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार कर बच्चे को सकुशल मुक्त करा लिया, जिसकी पहचान झारखंड निवासी आबिद अंसारी के रूप में हुई है। कोर्ट ने उसे जेल भेज दिया है।  

पुलिस उपायुक्त रोमिल बानिया के अनुसार, 19 अगस्त की रात को हौजखास थाने में शाहपुर जट गांव निवासी एक परिवार ने अपने बच्चे के गुम होने की शिकायत दी थी। अपहरण का केस दर्ज कर एसएचओ सतीश शर्मा ने पीड़ित परिवार के पड़ोसियों से पूछताछ की। प्राथमिक जांच में सामने आया कि इलाके में ही रहने वाला आबिद अंसारी भी अपने परिवार के साथ गायब है। आबिद अंसारी इलाके में ही एक परचून की दुकान पर काम करता था। उसके पड़ोस वाली दुकान पीड़ित बच्चे के पिता की थी। इसके बाद पुलिस ने उसका फोन सर्विलांस पर लगा दिया। आरोपी के झारखंड के गिरीडीह जिले में होने की बात सामने आई, जिसके बाद सब इंस्पेक्टर वीरचंद और सुनीता मान आरोपी की गिरफ्तारी के लिए झारखंड गए, लेकिन आरोपी वहां से पहले ही फरार हो चुका था। परिजनों से पता चला कि वह वापस दिल्ली जाने के लिए निकला है। 


चार स्टेशनों पर छह घंटे तक अभियान 
इस जानकारी पर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन, पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन, आनंद विहार रेलवे स्टेशन और हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर हौजखास थाने की चार टीमों को तैनात कर दिया गया। ये टीमें छह घंटे तक उसका इंतजार करती है, जैसे ही वह नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पहुंचा, पुलिस ने उसे धर दबोचा और बच्चे को मुक्त करा लिया।

बच्चे से दोस्ती कर ली थी 
पुलिस के अनुसार, आरोपी बच्चे के पिता की पहचान वाला था, ऐसे में वह बच्चे को भी जानता था। बच्चा अक्सर पार्क में खेलने के लिए आता था, पिछले कई महीनों से आरोपी भी पार्क में बच्चे के साथ खेलता था। इसी बीच आरोपी ने बच्चे से दोस्ती कर ली थी, जिसके चलते जब आरोपी उसका अपहरण करके ले गया तो बच्चे ने विरोध नहीं किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:man who does not have child till 8 years after his marriage kidnaps son of his friend