ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRसाथी और उसकी मां से रिलेशनशिप, मर्दानगी को ललकारा तो हुआ खौफनाक मर्डर

साथी और उसकी मां से रिलेशनशिप, मर्दानगी को ललकारा तो हुआ खौफनाक मर्डर

Delhi Crime : वीरेंद्र ने हत्याकांड में अपनी संलिप्ता स्वीकार कर ली है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि वो अपने चचेरे भाई मोहित के साथ एनसीआर में मोटरसाइकिल टैक्सी एग्रीग्रेटर के लिए काम कर रहा था। 

साथी और उसकी मां से रिलेशनशिप, मर्दानगी को ललकारा तो हुआ खौफनाक मर्डर
Nishant Nandanपीटीआई,नई दिल्लीSun, 26 May 2024 08:25 PM
ऐप पर पढ़ें

 दिल्ली में एक युवक ने झगड़े के दौरान अपने साथी की गला दबाकर हत्या कर दी। साउथ दिल्ली के खिड़की एक्सटेंशन में पार्टी के दौरान यह झगड़ा हुआ था। पुलिस ने बताया कि 11 अप्रैल को इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया था। पुलिस ने करीब 1 महीने बाद सोनीपत के रहने वाले वीरेंद्र को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक, वीरेंद्र अपने साथी और उसकी मां दोनों के साथ रिलेशनशिप में था। लेकिन जब युवक को यह पता चला कि वीरेंद्र का उसके अलावा उसकी मां के साथ भी रिलेशनशिप है तब दोनों के बीच दुश्मनी हो गई। हालांकि, बाद में दोनों फिर से दोस्त बन गए थे। 

डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस, (क्राइम), राकेश पावरिया ने कहा कि 33 साल के वीरेंद्र् को उसके दोस्त ने अपने फ्लैट पर पार्टी के लिए बुलाया। यहां उसके साथी ने उसकी मर्दानगी को ललकारा। पुलिस ने कहा, इस बात से नाराज वीरेंद्र ने अपने साथी का गला घोंट दिया और घटनास्थल से फरार हो गया। 13 अप्रैल को खिड़की एक्सटेंशन स्थित घर पर युवक के रूममेट ने उसकी लाश को देखा। पीड़ित के रूममेट ने पुलिस को फोन कर घटना की सूचना दी थी। 

अधिकारी ने आगे कहा कि डेड बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया और फिर एफआईआऱ दर्ज की गई थी। मालवीय नगर थाने में दर्ज एफआईआर के आधार पर जांच-पड़ताल आगे बढ़ाई गई। देहरादून, हरिद्वार, दिल्ली और गुरुग्राम में कई जगहों पर छापेमारी कर आरोपी को गिरफ्तार करे की कोशिश की गई। इस दौरान पुलिस ने एक संदिग्ध मोहित को पकड़ा। हालांकि, मुख्य आरोपी वीरेंद्र बचने में कामयाब रहा। 

इसके बाद पुलिस को जानकारी मिली कि वीरेंद्र अपने किसी सहयोगी से मिलने के लिए 21 मई को गुरुग्राम के राजेंद्र नगर इलाके में आने वाला है। एक टीम का गठन किया गया और आखिरकार वीरेंद्र को पकड़ लिया गया। वीरेंद्र ने हत्याकांड में अपनी संलिप्ता स्वीकार कर ली है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि वो अपने चचेरे भाई मोहित के साथ एनसीआर में मोटरसाइकिल टैक्सी एग्रीग्रेटर के लिए काम कर रहा था। 

DCP ने कहा कि पूछताछ के दौरान पता चला कि करीब 2 साल पहले वीरेंद्र का पीड़ित के साथ अवैध रिश्ता था। शुरू में दोनों के बीच दुश्मनी थी लेकिन बाद में वो दोस्त भी बन गए। 11 अप्रैल को पीड़ित ने वीरेंद्र को अपने फ्लैट पर पार्टी के लिए बुलाया था। वीरेंद्र और मोहित शराब पीने के लिए वहां गए थे। 

पार्टी में शराब पीने के बाद वीरेंद्र की मर्दानगी को उसके साथी ने ललकारा। जिससे वीरेंद्र को गुस्सा आ गया। गुस्से में आकर वीरेंद्र ने उसका गला दबा दिया और वहां से फरार हो गया।