ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRफ्लैट खरीदने के लिए चाहिए थे पैसे, डॉक्टर को वसूली के लिए धमकाने लगा; पकड़ाया तो पत्नी को बताया जिम्मेदार

फ्लैट खरीदने के लिए चाहिए थे पैसे, डॉक्टर को वसूली के लिए धमकाने लगा; पकड़ाया तो पत्नी को बताया जिम्मेदार

पुलिस ने बताया कि आरोपी अशोक कुमार ने जनकपुरी में तीन हाई प्रोफाइल क्लिनिक चुने और फिर मरीजों की भारी भीड़ वाले एक क्लीनिक पर निशाना साधा, क्योंकि उसे लगा कि यह कम से कम जोखिम वाला लक्ष्य है। 

फ्लैट खरीदने के लिए चाहिए थे पैसे, डॉक्टर को वसूली के लिए धमकाने लगा; पकड़ाया तो पत्नी को बताया जिम्मेदार
Sourabh JainPTI,नई दिल्लीSat, 22 Jun 2024 03:29 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के जनकपुरी इलाके में निजी क्लिनिक चलाने वाले एक डॉक्टर से जबरन वसूली करने की कोशिश के मामले में पुलिस ने 32 साल के एक शख्स को गिरफ्तार किया है। आरोपी ने जेल में बंद गैंगस्टर के नाम से डॉक्टर को अवैध वसूली की चिट्ठी भेजी थी। पूछताछ के दौरान आरोपी अशोक कुमार ने पुलिस को बताया कि उसे दिल्ली में नया फ्लैट खरीदने के लिए पैसों की सख्त जरूरत थी, क्योंकि उसकी पत्नी उससे इसी बात को लेकर झगड़ती रहती थी। इसलिए उसने डॉक्टर से पैसों की अवैध वसूली करने की योजना बनाई। 

पुलिस के अनुसार, कुमार ने डॉक्टर के क्लीनिक में जबरन वसूली का पत्र पहुंचाया। उसने डॉक्टर को धमकी दी थी कि अगर उसने पैसों की मांग पूरी नहीं की तो वह उसे जान से मार देगा। आसानी से जबरन वसूली के लिए उसने डर दिखाने के वास्ते लेटर में हरियाणा की जेल में बंद गैंगस्टर मनोज बाबा का नाम भी लिखा था।

इस बारे में जानकारी देते हुए पुलिस उपायुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) मनोज सी ने बताया, '3 जून को मास्क पहने एक व्यक्ति जनकपुरी में एक डॉक्टर के क्लिनिक पर लेटर पहुंचाने आया था। उस व्यक्ति ने डॉक्टर को धमकी दी थी कि अगर उसने जबरन वसूली की मांग पूरी नहीं की तो वह उसे जान से मार देगा। पत्र में उसने हरियाणा की जेल में बंद गैंगस्टर मनोज बाबा का भी नाम लिखा था।'

पुलिस के अनुसार, कुमार ने डॉक्टर के क्लीनिक में जबरन वसूली का पत्र पहुंचाया। उसने डॉक्टर को धमकी दी कि अगर उसने उसकी मांग पूरी नहीं की तो वह उसे जान से मार देगा और जबरन वसूली के लिए आतंक फैलाने के लिए पत्र में हरियाणा के जेल में बंद गैंगस्टर मनोज बाबा का नाम भी लिखा। 

डीसीपी ने बताया कि घटना के बाद FIR दर्ज कर मामला स्पेशल सेल को सौंप दिया गया था। 15 जून को पुलिस को सूचना मिली कि आरोपी जय विहार इलाके में है, जिसके बाद टीम ने छठ पार्क के पास जाल बिछाया और संदिग्ध को पकड़ लिया गया। 

डीसीपी ने बताया, 'पूछताछ के दौरान उसने (आरोपी ने) स्वीकार किया कि जल्दी पैसे कमाने के लिए उसने डॉक्टर को जान से मारने की धमकी वाला पत्र भेजा था।' कुमार ने यह भी खुलासा किया कि वह एक निजी फर्म में काम करता है, लेकिन उसके पास आय का कोई निश्चित स्रोत नहीं है। 

अधिकारी ने बताया कि उसे नया फ्लैट खरीदने के लिए पैसों की तत्काल जरूरत थी, क्योंकि उसकी पत्नी उस पर दबाव डाल रही थी। पुलिस ने बताया कि आरोपी ने जनकपुरी में तीन हाई प्रोफाइल क्लिनिक चुने और फिर मरीजों की भारी भीड़ वाले एक क्लीनिक पर निशाना साधा, क्योंकि उसे लगा कि यह कम से कम जोखिम वाला लक्ष्य है। 

आरोपी कुमार हरियाणा के कुरुक्षेत्र का रहने वाला है, लेकिन वह लम्बे समय से दिल्ली में रह रहा है। डीसीपी ने बताया कि वह बी.कॉम तक पढ़ा है और उसने पुलिस को बताया कि उसने टीवी धारावाहिकों से प्रेरित होकर जबरन वसूली की योजना बनाई थी।