DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  प्रधानमंत्री का पीए बताकर खुद के लिए न्यूज चैनल में की थी नौकरी की सिफारिश, पहुंच गया जेल
एनसीआर

प्रधानमंत्री का पीए बताकर खुद के लिए न्यूज चैनल में की थी नौकरी की सिफारिश, पहुंच गया जेल

नोएडा। भाषाPublished By: Praveen Sharma
Fri, 25 Jun 2021 05:36 PM
प्रधानमंत्री का पीए बताकर खुद के लिए न्यूज चैनल में की थी नौकरी की सिफारिश, पहुंच गया जेल

खुद को प्रधानमंत्री का पीए बताते हुए नोएडा स्थित एक न्यूज चैनल में फर्जी तरीके से नौकरी पाने की कोशिश कर रहे एक व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपी का नाम भरत वर्मा बताया जा रहा है। पुलिस उससे पूछताछ कर मामले की जांच कर रही है।

जानकारी के अनुसार, पुलिस ने बताया कि थाना सेक्टर-20 क्षेत्र के सेक्टर 16-ए स्थित एक समाचार चैनल के प्रधान संपादक ने इस सिलसिले में एक शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस ने बताया कि चैनल के प्रधान संपादक ने अपनी शिकायत में कहा है कि उनके वॉट्सऐप पर एक व्यक्ति ने 19 जून को खुद को प्रधानमंत्री का निजी सहायक (पीए) बताते हुए एक व्यक्ति का बायोडाटा भेजकर उसे नौकरी पर रखने के लिए कहा गया था, लेकिन आरोपी पर संदेह होने के चलते उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दे दी। 

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के रिश्तेदार के घर से साइकिल चुराने वाले दो लोग दबोचे 

पुलिस उपायुक्त (जोन प्रथम), राजेश एस ने शुक्रवार को बताया कि थाना सेक्टर-20 पुलिस ने इस सिलसिले में एक मामला दर्ज किया है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के अधिकारियों का नाम इस्तेमाल कर फर्जी तरीके से नौकरी पाने की कोशिश करने वाले व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसने पूछताछ के दौरान अपना नाम भरत वर्मा बताया है। उन्होंने बताया कि उसके पास से पुलिस ने घटना में प्रयुक्त मोबाइल फोन भी बरामद कर लिया है।

फर्जी दस्तावेज के आधार पर दूसरे की संपत्ति बेचने वाला गिरफ्तार

नोएडा के सेक्टर-24 थानाक्षेत्र में फर्जी दस्तावेज के आधार पर दूसरे की संपत्ति को बेचने वाले एक व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वह पांच साल से फरार चल रहा था।

सेक्टर-24 थाना के प्रभारी सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि पुलिस ने एक सूचना के आधार पर आज आलोक नामक व्यक्ति को गिरफ्तार किया। उन्होंने बताया कि उसके खिलाफ पांच वर्ष पूर्व सेक्टर-24 थाना में फर्जी दस्तावेज के आधार पर दूसरे के प्लॉट (भूखंड) को बेचने का मुकदमा दर्ज हुआ था। उन्होंने बताया कि आरोपी तभी से फरार चल रहा था। 

संबंधित खबरें