ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRबिभव कुमार का इंतजार बढ़ा, जमानत याचिका पर HC ने फैसला सुरक्षित रखते हुए दी नई तारीख

बिभव कुमार का इंतजार बढ़ा, जमानत याचिका पर HC ने फैसला सुरक्षित रखते हुए दी नई तारीख

जमानत याचिका का विरोध करते हुए पुलिस के वकील ने कहा कि जांच चल रही है और 16 जुलाई को या उससे पहले आरोप पत्र दाखिल कर दिया जाएगा। सुनवाई के दौरान स्वाति मालीवाल भी अदालत में मौजूद थीं।

बिभव कुमार का इंतजार बढ़ा, जमानत याचिका पर HC ने फैसला सुरक्षित रखते हुए दी नई तारीख
Sourabh JainPTI,नई दिल्लीWed, 10 Jul 2024 06:26 PM
ऐप पर पढ़ें

आम आदमी पार्टी की सांसद स्वाति मालीवाल से कथित मारपीट मामले में गिरफ्तार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सहयोगी बिभव कुमार की जमानत याचिका पर दिल्ली हाई कोर्ट ने बुधवार को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया। कोर्ट ने कहा कि वह 12 जुलाई को इस बारे में आदेश सुनाएगा कि बिभव कुमार को जमानत दी जाए या नहीं।
 
जस्टिस अनूप कुमार मेंदीरत्ता ने कुमार की जमानत याचिका पर उनके वकील और दिल्ली पुलिस तथा मालीवाल की ओर से पेश वकीलों की दलीलें सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया। जज ने कहा, 'आदेश सुरक्षित है और यह शुक्रवार तक सुरक्षित रहेगा।'

सुनवाई के दौरान बिभव का पक्ष रखते हुए उनके वकील ने कहा, जांच लगभग पूरी हो चुकी है, शिकायतकर्ता का बयान हो चुका है, जो भी सबूत और बयान दर्ज होने थे वे सब हो चुके हैं। ऐसे में उन्हें जमानत दे दी जानी चाहिए। जबकि मालीवाल के वकील ने सबूतों से छेड़छाड़ की आशंका जताते हुए जमानत याचिका का विरोध किया।

पुलिस के वरिष्ठ वकील ने जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि जांच चल रही है और 16 जुलाई को या उससे पहले आरोप पत्र दाखिल कर दिया जाएगा। पुलिस का पक्ष रख रहे वरिष्ठ अधिवक्ता संजय जैन ने कहा, '16 जुलाई को या उससे पहले हम आरोप पत्र दाखिल कर देंगे। हम जांच के बीच में हैं।'

सुनवाई के दौरान स्वाति मालीवाल भी अदालत में मौजूद थी। उन्होंने बताया कि घटना के बाद से उन्हें धमकियां मिल रही हैं, उन्हें ट्रोल किया जा रहा है और शर्मिंदा किया जा रहा है। उन्होंने कहा, 'न केवल मेरे साथ क्रूरतापूर्वक मारपीट की गई, बल्कि जिंदगी भर मैंने जो काम किया था, वो भी मुझसे छीन लिया गया।' 

उधर बिभव कुमार का पक्ष रख रहे वरिष्ठ वकील ने तर्क दिया कि जांच पूरी हो जाने के कारण अब उनकी हिरासत की आवश्यकता नहीं है। वकील ने कहा, 'उन्हें हिरासत में गए 54 दिन हो चुके हैं। सभी आवश्यक जांच पूरी हो चुकी है।' यह भी तर्क दिया गया कि ऐसा कोई कारण नहीं था कि जिसके चलते मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव को संसद सदस्य पर हमला करने की जरूरत पड़े। 

बता दें कि बिभव कुमार फिलहाल न्यायिक हिरासत में जेल में बंद हैं। उन पर आरोप है कि उन्होंने कथित तौर पर 13 मई को सीएम केजरीवाल के आधिकारिक आवास पर स्वाति मालीवाल पर हमला किया था। कुमार के खिलाफ 16 मई को भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत FIR दर्ज की गई थी। जिसके बाद उन्हें 18 मई को गिरफ्तार कर लिया गया था।