ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRउपराज्यपाल ने दी ईद की बधाई, नमाज को लेकर कहा- दिल्ली के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ

उपराज्यपाल ने दी ईद की बधाई, नमाज को लेकर कहा- दिल्ली के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ

दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने लोगों को ईद की बधाई देते हुए बताया कि दिल्ली के इतिहास में शायद ऐसा पहली बार हुआ है कि लोगों ने पूरी तरह से मस्जिदों-ईदगाहों के भीतर ही नमाज़ अदा की।

उपराज्यपाल ने दी ईद की बधाई, नमाज को लेकर कहा- दिल्ली के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ
Sourabh JainPTI,नई दिल्लीThu, 11 Apr 2024 09:39 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने गुरुवार को लोगों को ईद-उल-फितर की बधाई दी, साथ ही कहा कि इस साल दिल्ली की सड़कों पर नमाज अदा नहीं की गई, दिल्ली के इतिहास में शायद ऐसा पहली बार हुआ होगा। साफ है कि आपसी चर्चा और सद्भावना से सभी मसलों का हल निकाला जा सकता है। उन्होंने बताया कि समुदाय ने नमाज के अलग-अलग समय के उनके सुझाव का स्वागत किया और भरोसा दिलाया था कि इसे लागू किया जाएगा।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर मुबारकबाद देते हुए देते हुए सक्सेना ने लिखा, 'ईद-उल-फ़ितर की बधाइयों को दोहराते हुए मैं दिल्ली की तमाम मस्जिदों और ईदगाहों के इमामों और हमारे सभी मुसलमान भाईयों का मस्जिद परिसरों के अंदर ही नमाज़ अदा करने के लिये दिल से शुक्रिया अदा करता हूं।'

आगे उन्होंने लिखा, 'दिल्ली के इतिहास में शायद ऐसा पहली बार हुआ है कि लोगों ने पूरी तरह से मस्जिदों-ईदगाहों के भीतर ही नमाज़ अदा की, न कि सड़कों पर। ऐसा कर के आज दिल्ली ने देश के लिए सौहार्द और सहास्तित्व की एक बेहतरीन मिसाल पेश की है।'

उन्होंने बताया, 'अलहदा यानी staggered timings (अलग-अलग समय), पर मस्जिद परिसर के अंदर ही नमाज़ आयोजित और अदा कर हमारे इमामों और मुस्लिम भाईयों ने सुनिश्चित किया कि सड़कों पर आवाजाही प्रभावित न हो, किसी प्रकार की अप्रिय घटना न घटे और आम लोगों को कोई परेशानी न हो।'

इससे पहले की तैयारियो के बारे में बताते हुए उन्होंने लिखा, 'विगत 4 अप्रैल को दिल्ली के अनेक मुअज़्ज़ीज इमामों के साथ बैठक में मैने इस बाबत चर्चा और अपील की थी। समुदाय ने नमाज़ के staggered timings के मेरे सुझाव का स्वागत करते हुए इस पर अमल करने का भरोसा दिया था।'

आखिरी में उन्होंने लिखा,'आज दिल्ली में कहीं भी सड़क पर नमाज़ नहीं अदा की गयी और न ही कोई अप्रिय घटना घटी। सबकुछ सौहार्दपूर्ण माहौल में संपन्न हुआ। साफ है कि आपसी चर्चा और सद्भावना से सभी मसले हल किये जा सकते हैं। एक बार पुन: सभी को ईद की बहुत बहुत मुबारकबाद और सहयोग के लिये हार्दिक धन्यवाद।'