DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा चुनाव 2019 : फर्जी मतदान के मामले में सरपंच निलंबित

                                                      file photo   pti

बीती 12 मई को लोकसभा चुनाव के लिए पृथला विधानसा क्षेत्र के बूथ नंबर 88 पर हुई फर्जी मतदान में मंगलवार की देर रात दूसरी एफआईआर भी दर्ज की गई। सहायक निर्वाचन अधिकारी व एसडीएम जितेन्द्र कुमार की रिपोर्ट के बाद आरोपियों को देर रात गिरफ्तार भी कर लिया गया। वहीं, इस मामले में गांव के सरपंच को निलंबित कर दिया है। 

चुनाव में अनुचित आचरण करना एक मंत्री और पूर्व कांग्रेस विधायक को पड़ा महंगा

एसडीएम जितेन्द्र कुमार ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि मंगलवार को चुनाव ट्विटर पर एक के बाद एक कर दो वीडियो मिले। डिप्टी कमिश्नर मनीराम शर्मा ने फिल्म की जांच करने के लिए एसडीएम पलवल को मोबाइल पर आदेश जारी किए। जांच रिपोर्ट में सहायक रिटर्निंग अधिकारी ने कहा कि विजय रावत निवासी असावटी ने बूथ नंबर 88 के मतदान को प्रभावित और मतों की गोपनीयता को भंग किया। इस मामले में पीठासीन अधिकारी अमित अत्री ने भी लापरवाही बरती। दोनों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए। एसपी नरेन्द्र सिंह बिजरानियां को भेजी गई रिपोर्ट के आधार पर मंगलवार की देर रात मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार किया। कांग्रेसी एमएलए करण सिंह दलाल ने दूसरी एफआईआर को लेकर चुनाव आयोग की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगाया है। 

असावटी में चुनाव आयोग ने सख्ती दिखाई

पृथला विधानसभा क्षेत्र के गांव असावटी के बूथ नंबर 88 पर फर्जी वोटिंग के मामले में चुनाव आयोग ने काफी सख्ती दिखाई है। फर्जी मतदान के आरोप लगाकर डिप्टी कमिश्नर डॉक्टर मनीराम शर्मा ने गांव के सरपंच कनछिद को चुनाव आयोग के नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में बुधवार को निलंबित कर दिया। चुनाव आयोग के नियमों का उल्लघंन करने के आरोप में सरपंच को निलंबित करना फरीदाबाद डीसी अतुल कुमार के तबादले के बाद बड़ी कार्रवाई माना जा रहा है।

दूसरा वीडियो वायरल होने पर कार्रवाई

डीसी मनीराम शर्मा ने बताया कि सरपंच कनछिद को 12 मई को हुए लोकसभा आम चुनाव के दौरान असावटी के बूथ नंबर-88 में जाकर चुनाव नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में हरियाणा पंचायती राज एक्ट 1994 की धारा 51(1) के तहत तुरंत प्रभाव से निलंबित किया गया है। गांव असावटी के बूथ नंबर 88 पर मतदान प्रक्रिया से संबंधित वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के उपरांत उसकी जांच सहायक रिटर्निंग अधिकारी और एसडीएम पलवल जितेंद्र कुमार द्वारा की गई। एसडीएम की जांच में सरपंच कनछिद को चुनाव आयोग के नियमों का उल्लघंन करने में संलिप्ता पाई गई थी। जांच रिपोर्ट व दस्तावेजों पर संज्ञान लेते हुए उपायुक्त ने हरियाणा पंचायती राज्य एक्ट अनुसार गांव के सरपंच को निलंबित किया है। गौरतलब है कि असावटी बूथ 88 पर फर्जी मतदान का लेकर पहला मुकदमा पीठासीन अधिकारी अमित और भाजपा के एजेंट गिर्राज के खिलाफ दर्ज हो चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Elections 2019 Sarpanch suspended in fake Voting case