DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तर-पूर्वी दिल्ली पर फिर चला मनोज तिवारी का जादू, शीला दीक्षित को 3.66 लाख वोटों से हराया

               -

लोकसभा चुनाव 2019 के आज आए परिणाम के बाद राजधानी दिल्ली की 7 संसदीय सीटों में से एक बेहद अहम उत्तर-पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट पर एक बार फिर मनोज तिवारी का जादू चल गया है। मौजूदा सांसद और दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने अपने प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस प्रत्याशी शीला दीक्षित को 3,66,102 वोटों से पराजित कर यहां फिर भाजपा का 'कमल' खिला दिया है।  

उत्तर-पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी को 7,87,799 वोट मिले हैं। वहीं, उनके प्रतिद्वंद्वी रही कांग्रेस नेता शीला दीक्षित को 4,21,697 वोटों से संतोष करना पड़ा और और 'आप' के दिलीप पांडे को मात्र 1,90,856 वोट प्राप्त हुए हैं। दिल्ली में 12 मई को वोट डाले गए थे।

इस बार के चुनाव में दिल्ली की सबसे रोमांचक मुकाबले वाली इस सीट पर भाजपा ने जहां एक बार फिर मनोज तिवारी पर ही दांव लगाया था। वहीं, कांग्रेस ने दिल्ली की राजनीति के अपने सबसे बड़े चेहरे शीला दीक्षित को अपना उम्मीदवार बनाया था। दूसरी तरफ 'आप' ने पूर्व प्रदेश संयोजक दिलीप पांडे को मैदान में उतार कर मुकाबले को कांटे का बना दिया था।

उत्तर-पूर्वी दिल्ली संसदीय क्षेत्र दिल्ली का सबसे घनी आबादी वाला इलाका है। इस सीट के अंतर्गत सीमापुरी, गोकलपुर, घोंडा, सीलमपुर, रोहतास नगर, बाबरपुर, करावल नगर, बुराड़ी, तिमारपुर और मुस्तफाबाद जैसे विधानसभा क्षेत्र आते हैं। इस सीट पर करीब 23 लाख मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर अपना सांसद चुना है।

इनके बीच रहा रोमांचक त्रिकोणीय मुकाबला

मनोज तिवारी : 48 वर्षीय मनोज तिवारी मशहूर भोजपुरी गायक और अभिनेता हैं। वह भाजपा प्रदेश अध्यक्ष और सांसद हैं। वर्ष 2009 में उन्होंने समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी के तौर पर राजनीति में कदम रखा। वर्ष 2014 में वह भाजपा में शामिल हो गए।

शीला दीक्षित : 81 वर्षीय शीला दीक्षित केरल की पूर्व राज्यपाल हैं। वह वर्ष 1998 से 2013 तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रही हैं। वहीं, वह 1984 से 89 तक कन्नौज से सांसद रहीं। बाद में वह केंद्रीय मंत्री भी रहीं।

दिलीप पांडे : 38 वर्षीय दिलीप पांडे इस सीट पर सबसे कम उम्र के प्रत्याशी हैं। वह अपना पहला चुनाव लड़ रहें हैं। आईटी प्रोफेशल रहे दिलीप अन्ना आंदोलन के दौरान ‘आप' से जुड़े थे। पार्टी में उन्होंने प्रदेश संयोजक की जिम्मेदारी संभाली।

60 फीसदी हुआ मतदान

राजधानी की सातों संसदीय सीटों पर कुल 164 उम्मीदवार मैदान में थे। यहां 12 मई को लोकसभा चुनाव के छठे चरण में हुए मतदान में केवल 60 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था, जबकि 2014 में 65 प्रतिशत वोट पड़े थे।

60 हजार से अधिक सुरक्षाकर्मी रहे तैनात

मतदान शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे और पूरे शहर में होम गार्ड तथा अर्धसैनिक बलों समेत 60 हजार से अधिक सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया था। मतदान केंद्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए 39,000 पुलिसकर्मी और 13,000 होमगार्ड शामिल थे।

2014 लोकसभा चुनाव की स्थिति

2014 के लोकसभा चुनाव में मौजूदा सांसद और भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी ही विजयी रहे थे। दूसरे नंबर पर 'आप' उम्मीदवार प्रो. आनंद कुमार थे और कांग्रेस के जयप्रकाश अग्रवाल तीसरे नंबर पर रहे थे। मनोज तिवारी (भाजपा) को 5,96,125 वोट, 'आप' के आनंद कुमार 4,52,041 वोट और कांग्रेस नेता जय प्रकाश अग्रवाल को 2,14,792 वोट मिले थे।

2019 में यहां की मौजूदा स्थिति 

कुल मतदाता : 22,90,492

पुरुष मतदाता : 12,52,189

महिला मतदाता : 10,37,218

ट्रांस जेंडर मतदाता : 86

दिल्ली की सातों सीटों पर ये थे तीनों पार्टियों के उम्मीदवार

संसदीय सीट भाजपा कांग्रेस आप
चांदनी चौक डॉ. हर्षवर्धन जेपी अग्रवाल पंकज गुप्ता
नई दिल्ली मीनाक्षी लेखी अजय माकन बृजेश गोयल
पूर्वी दिल्ली गौतम गंभीर (क्रिकेटर) अरविंदर सिंह लवली आतिशी
उत्तर पूर्वी दिल्ली मनोज तिवारी शीला दीक्षित दिलीप पांडे
पश्चिमी दिल्ली प्रवेश वर्मा महाबल मिश्रा बलबीर सिंह जाखड़
उत्तर-पश्चिमी दिल्ली हंसराज हंस (सिंगर) राजेश लिलोठिया गुग्गन सिंह
दक्षिणी दिल्ली रमेश बिधूड़ी विजेंद्र सिंह (बॉक्सर) राघव चड्ढा

BJP की शानदार जीत से राजनीति के खेल में भी उभरकर आए गौतम गंभीर 

नई दिल्ली में फिर खिला 'कमल', मीनाक्षी लेखी ने तोड़ा पुराना रिकॉर्ड

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lok sabha elections 2019 results bjp-candidate manoj tiwari wins again North-East Delhi Constituency