ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRहल्की बारिश और आंधी से दिल्ली को मिली लू से राहत, गुरुवार को गिरा पारा

हल्की बारिश और आंधी से दिल्ली को मिली लू से राहत, गुरुवार को गिरा पारा

उपराज्यपाल वीके सक्सेना के कार्यालय ने एक पत्र में अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे निराश्रित, बेघर और गरीबों को पानी और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए पर्याप्त उपाय सुनिश्चित करें।

हल्की बारिश और आंधी से दिल्ली को मिली लू से राहत, गुरुवार को गिरा पारा
Sourabh Jainभाषा,नई दिल्लीThu, 20 Jun 2024 11:06 PM
ऐप पर पढ़ें

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को हल्की बारिश और आंधी के कारण लू के प्रकोप में कमी आई। उधर, स्वास्थ्य मंत्रालय की एक टीम ने एम्स व केंद्र संचालित तीन अन्य अस्पतालों का दौरा कर हीट स्ट्रोक के मरीजों से जुड़ी तैयारियों का जायजा लिया।

IMD ने बताया कि गुरुवार को शहर का अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस रहा, जो मौसम के औसत तापमान से एक डिग्री अधिक है जबकि न्यूनतम तापमान 29.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो मौसम के औसत तापमान से दो डिग्री सेल्सियस अधिक है। इस दौरान आर्द्रता 67 प्रतिशत से 46 प्रतिशत के बीच रही।

IMD ने कहा, 'वर्तमान पश्चिमी विक्षोभ और बंगाल की खाड़ी से आने वाली निचले स्तर की पूर्वी हवाओं के प्रभाव से गुरुवार को दिल्ली में लू की स्थिति में कमी आई।' मौसम विभाग ने शुक्रवार को आंशिक रूप से बादल छाए रहने तथा बारिश और धूल भरी आंधी चलने की संभावना जताई है। विभाग ने बताया कि अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमश: 40 और 29 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है। 

बता दें कि राष्ट्रीय राजधानी सहित उत्तर भारत के कई हिस्से लंबे समय से भीषण गर्मी की चपेट में हैं, जिससे हीट स्ट्रोक से होने वाली मौतों में वृद्धि हुई है और केंद्र ने अस्पतालों को ऐसे रोगियों के लिए विशेष इकाइयां स्थापित करने का परामर्श जारी किया है।

पुलिस ने बुधवार को बताया कि पिछले तीन दिनों में दिल्ली के आसपास गरीब तबके के 50 लोगों के शव बरामद किए गए हैं। उधर, दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने गुरुवार को कहा कि यहां तापघात से मरने वाले 14 मरीजों में से लगभग सभी को अन्य बीमारियां भी थीं जिससे उनकी हालत बिगड़ गई।

भारद्वाज ने मदन मोहन मालवीय अस्पताल का निरीक्षण किया जहां उन्होंने उपचार सुविधाओं का जायजा लिया और हीट स्ट्रोक के रोगियों से बातचीत की। उन्होंने चिकित्सकों से भी बातचीत करते हुए गर्मी से संबंधित बीमारियों से बचाव के उपायों के महत्व पर बल दिया और उन्हें सभी आवश्यक सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

स्वास्थ्य मंत्री ने निरीक्षण के दौरान एक बयान में कहा, 'मुझे मिली जानकारी के अनुसार पिछले दिनों लगभग 310 तापघात के मरीज अस्पताल में भर्ती हुए थे जिनमें से 112 मरीज ठीक होकर अपने घर लौट गए हैं।' उन्होंने कहा, 'जिन 14 हीट स्ट्रोक के रोगियों की मृत्यु हुई उनमें से लगभग सभी को पहले से ही कैंसर या किडनी रोग जैसी कोई गंभीर बीमारी थी, जिसके कारण उनकी हालत बिगड़ गई और उनकी मृत्यु हो गई।'

वहीं, दिल्ली के उपराज्यपाल वी के सक्सेना ने राष्ट्रीय राजधानी में गर्मी से भीषण गर्मी से संबंधित लोगों की मौत की बढ़ती घटनाओं के मद्देनजर मुख्य सचिव को दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड और समाज कल्याण एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक करने को कहा है।

उपराज्यपाल के प्रधान सचिव आशीष कुंद्रा ने राष्ट्रीय राजधानी में भीषण गर्मी के कारण पिछले दो दिनों में कम से कम 20 लोगों की मौत से संबंधित एक खबर का हवाला दिया। पत्र में कहा गया है, '52 लोगों को कथित तौर पर (अस्पतालों में) मृत घोषित कर दिया गया और इनमें से अधिकतर बेसहारा बेघर लोग थे। वास्तविक संख्या इससे कहीं अधिक प्रतीत होती है। उपराज्यपाल राष्ट्रीय राजधानी में ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं से व्यथित हैं।'

पत्र के अनुसार उपराज्यपाल ने निर्देश दिया है कि दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड (DUSIB) , समाज कल्याण और स्वास्थ्य विभाग के संबंधित अधिकारियों के साथ मुख्य सचिव स्तर पर एक बैठक बुलाई जाए।

वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की एक टीम ने गुरुवार को राष्ट्रीय राजधानी में केंद्र सरकार द्वारा संचालित अस्पतालों का दौरा किया। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), राम मनोहर लोहिया (आरएमएल), सफदरजंग और लेडी हार्डिंग अस्पताल पहुंची टीम ने यहां हीट स्ट्रोक के मरीजों से जुड़ी तैयारियों का जायजा लिया। साथ ही पिछले कुछ दिनों में इसके कारण हुई मौतों की संख्या का आकलन भी किया।