ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRएलजी ने केजरीवाल सरकार को दिया झटका, मुख्य सचिव पर भ्रष्टाचार के आरोप वाली रिपोर्ट खारिज

एलजी ने केजरीवाल सरकार को दिया झटका, मुख्य सचिव पर भ्रष्टाचार के आरोप वाली रिपोर्ट खारिज

एलजी विनय कुमार सक्सेना ने सतर्कता मंत्री आतिशी की उस रिपोर्ट पर विचार करने से इनकार कर दिया है जिसमें बमनोली जमीन अधिग्रहण मामले में प्रथम दृष्टया मुख्य सचिव को भ्रष्टाचार में शामिल बताया गया है।

एलजी ने केजरीवाल सरकार को दिया झटका, मुख्य सचिव पर भ्रष्टाचार के आरोप वाली रिपोर्ट खारिज
Nishant Nandanपीटीआई,नई दिल्लीSun, 19 Nov 2023 08:41 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के उपराज्यपाल ने बामनोली लैंड अधिग्रहण मामले में दिल्ली सरकार की रिपोर्ट पर विचार करने से इनकार कर दिया है। याद दिला दें कि हाल ही में अरविंद केजरीवाल सरकार की मंत्री आतिशी मर्लेना ने अपनी 600 से ज्यादा पन्नों की एक रिपोर्ट एलजी को भेजी थी। इस रिपोर्ट में मुख्य सचिव पर जमीन अधिग्रहण के बदले भ्रष्टाचार का गंभीर आरोप लगाया गया था। लेकिन अब एलजी ने इस रिपोर्ट पर विचार करने से ही इनकार कर दिया है। राज निवास के अधिकारियों ने रविवार को इस बात की जानकारी दी है कि दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने दिल्ली सरकार की सतर्कता मंत्री आतिशी की उस रिपोर्ट पर विचार करने से इनकार कर दिया है जिसमें बमनोली जमीन अधिग्रहण मामले में प्रथम दृष्टया मुख्य सचिव नरेश कुमार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए थे। उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने कहा कि यह रिपोर्ट बिल्कुल ही मंत्री की काल्पनिक धारणाओं पर आधारित है। उपराज्यपाल ने कहा कि यह रिपोर्ट मौजूदा जांच को सुविधा प्रदान करने की बजाए बहुत अच्छी तरह से मौजूदा जांच को नुकसान पहुंचा सकती है। 

जो फाइल उपराज्यपाल ने भेजी है उसमें कहा है, 'मुझे शिकायत से जुड़ी सतर्कता मंत्री की प्राथमिक रिपोर्ट जिसे सीएम केजरीवाल ने मेरे पास भेजा था वो मिली है। यह बहुत चौकाने वाला और दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस रिपोर्ट में निगरानी से जुड़े संवेदनशील मामले हैं और इसे मेरे सचिव को लिफाफे में भेजा गया है वो पहले से ही पब्लिक डोमेन में है। इस रिपोर्ट के डिजीटल और इलेक्ट्रॉनिक कॉपी पहले से ही आसानी से उपलब्ध हैं और इसपर मीडिया कवर भी हो रहा है।'

एलजी ने इस बात पर संज्ञान लिया है कि रिपोर्ट से जुड़ी कुछ चुनिंदा बातें मीडिया में लीक हो गई हैं। एलजी ने कहा कि प्रथम दृष्टया ऐसा लगता है कि इस पूरी जांच का मकसद सच को उजागर करना नहीं बल्कि मीडिया ट्रायल को शुरू करना और इस पूरे मामले को राजनीतिक मुद्दा बनाना था। एलजी ने यह भी कहा कि इस मामले में सीबीआई पहले से ही जांच कर रही है। 

पहले से चल रही CBI जांच- एलजी

उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव और डिविजनल कमिश्नर की सिफापिश पर पहले ही मैंने इस मामले की जांच सीबीआई को भेजी है। बता दें कि इस मामले में मुख्य सचिव नरेश कुमार ने पहले ही किसी भी तरह के भ्रष्टाचार के आरोप से इनकार कर दिया है। बुधवार को अरविंद केजरीवाल ने अपनी मंत्री आतिशी द्वारा तैयार की गई 670 पन्नों की रिपोर्ट उपराज्यपाल को सौंपी थी। इस रिपोर्ट में नरेश कुमार को सस्पेंड करने की मांग की गई थी। दावा किया गया था कि बामनोली जमीन अधिग्रहण मामले में 897 करोड़ रुपये अवैध तरीके से कमाए गए हैं। 

बता दें कि National Highways Authority of India ने साल 2018 में Dwarka Expressway के निर्माण के लिए 19 एकड़ की भूमि का अधिग्रहण किया था। दिल्ली सरकार का आरोप है कि मुख्य सचिव नरेश कुमार ने अपने बेटे करण चौहान से संबधित एक कंपनी को लाभ पहुंचाने के लिए जमीन की कीमत से 22 गुना ज्यादा मुआवजा दिलाया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें