ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRअपहरण के बाद मोहम्मद उमर ने बच्ची से रेप भी किया, नाक की लौंग बेच खरीदे कपड़े और खाना

अपहरण के बाद मोहम्मद उमर ने बच्ची से रेप भी किया, नाक की लौंग बेच खरीदे कपड़े और खाना

दक्षिणी दिल्ली से अपहृत की गई आठ वर्षीय बच्ची के साथ रेप भी किया गया था। पुलिस ने मंगलवार को बच्ची को बरामद कर अपहरणकर्ता को गिरफ्तार कर लिया था। बच्ची की मेडिकल जांच में यौन उत्पीड़न की पुष्टि हुई है

अपहरण के बाद मोहम्मद उमर ने बच्ची से रेप भी किया, नाक की लौंग बेच खरीदे कपड़े और खाना
Subodh Mishraभाषा,नई दिल्लीFri, 10 May 2024 05:43 PM
ऐप पर पढ़ें

दक्षिणी दिल्ली से अपहृत की गई आठ वर्षीय बच्ची का यौन उत्पीड़न भी किया गया था। बच्ची की मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद शुक्रवार को पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस ने कहा कि मामले में महरौली निवासी मोहम्मद उमर (28) नामक आरोपी को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया गया था। पुलिस ने बताया कि बच्ची को बचाकर उसके परिवार से मिलाने के बाद मेडिकल जांच के लिए भेजा गया। पीड़िता ने बताया कि उमर ने उसकी नाक की लौंग बेच दी और उसके लिए कुछ कपड़े एवं कुछ खाने का सामान खरीदा। आरोपी ने उसका यौन उत्पीड़न भी किया था। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में पीड़िता की मेडिकल कराई गई। मेडिकल रिपोर्ट में यौन उत्पीड़न की पुष्टि हुई है।

पुलिस ने बताया कि पीड़िता नेपाल की रहने वाली है और परिवार में केवल अपनी मां को ही पहचान सकती है। मामला छह मई को तब सामने आया जब पुलिस को दक्षिणी दिल्ली से एक लड़की के अपहरण के संबंध में एक पीसीआर कॉल आई। पुलिस ने बापू पार्क, उदय चंद मार्ग, कोटला मुबारकपुर, गुरुद्वारा रोड, साउथ एक्सटेंशन -1, पिलंजी गांव और अन्य स्थानों पर सीसीटीवी फुटेज की जांच की। आरोपी को अंधेरिया मोड़ के झुग्गी झोपड़ी इलाके से पकड़ लिया गया और किशोरी को बचा लिया गया। पूछताछ के दौरान आरोपी ने पुलिस को बताया कि वह बच्चों के लिए खिलौने बनाता है और कोटला में कांच लेने आया था। वहां उसकी नजर उस किशोरी पर पड़ी और उसने उसका अपहरण कर लिया।

पुलिस ने बताया कि जांच और स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के आधार पर पता चला है कि आरोपी अपराधी नहीं है और उसका कोई आपराधिक इतिहास भी नहीं है। वह पिछले 15 वर्ष से एक ही स्थान पर रह रहा है, लेकिन हम हर पहलू से मामले की जांच कर रहे हैं। पुलिस ने कहा कि पीड़ित परिवार की शिकायत के अनुसार पहले अपहरण की प्राथमिकी दर्ज की गई थी। अब यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (पॉक्सो) अधिनियम की धाराएं जोड़ने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।