DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  प्रदूषण से निपटने को केजरीवाल सरकार ने लिए दो बड़े फैसले, ट्री ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी और स्मॉग टॉवर को मंजूरी

एनसीआरप्रदूषण से निपटने को केजरीवाल सरकार ने लिए दो बड़े फैसले, ट्री ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी और स्मॉग टॉवर को मंजूरी

नई दिल्ली। बृजेश सिंह Published By: Praveen Sharma
Fri, 09 Oct 2020 04:59 PM
प्रदूषण से निपटने को केजरीवाल सरकार ने लिए दो बड़े फैसले, ट्री ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी और स्मॉग टॉवर को मंजूरी

दिल्ली की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार की कैबिनेट ने पर्यावरण और पेड़ों की रक्षा के लिए एक बड़ा कदम उठाते हुए शुक्रवार को दो अहम फैसले लिए हैं। कैबिनेट ने ट्री ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी (Tree Transplantation Policy) और स्मॉग टॉवर लगाने को मंजूरी दे दी है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि दिल्ली कैबिनेट ने ट्री ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी पास की है, जिसमें हमने कहा है कि अनिवार्य रूप से एक पेड़ काटने पर 10 पेड़ तो लगाने ही हैं। साथ ही आपको पेड़ काटना ही नहीं है, बल्कि उसे दूसरी जगह शिफ्ट करना होगा। आज हमारे पास ऐसी तकनीक है कि हम उस पेड़ को उठाकर दूसरी जगह ट्रांसप्लांट कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि कम से कम 80 फीसदी पेड़ कही भी किसी भी प्रोजेक्ट में ट्रांसप्लांट करना होंगे। जो पेड़ ट्रांसप्लांट किया गया है उसका 80 फीसदी कम से कम जीवित होना चाहिए। जो भी एजेंसी सरकार से परमिशन लेगी उसे यह सुनिश्चित करना होगा। ऐसी एजेंसी जो अच्छा प्लांटेशन करती है दिल्ली सरकार उनका एक पैनल बनाएगी। जो भी विभाग केंद्र सरकार का दिल्ली सरकार का जो पेड़ ट्रांसप्लांट करना चाहती है वह उस पैनल में शामिल कंपनियों से यह करवा सकती है।

ट्रांसप्लांट करने वाली कंपनी को एक साथ भुगतान होगा। यह सुनिश्चित करना होगा कि सभी पेड़ जीवित हों। अगर पेड़ सूखता है तो उसका पैसा कटेगा। इसके अलावा अलग से ट्री ट्रांसप्लांट अलग सेल बनाएंगे।

दिल्ली में स्मॉग टावर लगेगा 

केजरीवाल ने बताया कि वायु प्रदूषण से निपटने के लिए दिल्ली में स्मॉग टॉवर लगाया जाएगा। यह दुनिया का दूसरा स्मॉग टॉवर होगा। पहला स्मॉग टॉवर चाइना में है। दिल्ली में दो स्मॉग टावर लगने जा रहे हैं। आनंद विहार में केंद्र सरकार यह टॉवर लगा रही है, जबकि दूसरा टॉवर दिल्ली सरकार कनॉट प्लेस में लगा रही है। उन्होंने कहा कि 10 महीने के अंदर यह टॉवर बनकर तैयार हो जाएगा। इसके लिए 19 करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं। अगर यह प्रयोग सफल रहा तो दिल्लीभर में यह टॉवर लगाए जाएंगे।

संबंधित खबरें